हर साल हो रही 5 लाख कैंसर रोगियों की मौत!

By: | Last Updated: Wednesday, 27 July 2016 8:41 AM
In India 5 lakh people die of cancer every year

देश में मुंह और गले के कैंसर रोगियों की संख्या में लगातार इजाफा हो रहा है. आलम यह है कि हर वर्ष मुंह और गले के कैंसर से पीड़ित 10 लाख रोगी सामने आ रहे हैं, जिनमें से आधे से अधिक मरीजों की मौत बीमारी की पहचान होने तक हो जाती है.

वायस ऑफ टोबैको विक्टिमस (वीओटीवी) ने एशियन पेसिफिक जनरल ऑफ कैंसर प्रिवेंशन द्वारा जारी रिपोर्ट के आधार पर यह खुलासा किया है.

वायस ऑफ टोबैको विक्टिमस (वीओटीवी) के संरक्षक डॉ टी़ पी़ साहू ने बताया कि देशभर में लाखों लोगों में देर से इस बीमारी की पहचान, अपर्याप्त इलाज व अनुपयुक्त पुनर्वास सहित सुविधाओं का अभाव है. करीब 30 साल पहले तक 60 से 70 साल की उम्र में मुंह और गले का कैंसर होता था, लेकिन अब यह उम्र कम होकर 30 से 50 साल तक पहुंच गई है.

उन्होंने कहा कि आजकल 20 से 25 वर्ष की उम्र से भी कम के युवाओं में मुंह व गले का कैंसर देखा जा रहा है. इसका सबसे बड़ा कारण हमारी सभ्यता में पश्चिमी सभ्यता के समावेश तथा युवाओं में स्मोकिंग को फैशन व स्टाइल आइकॉन मानना है. मुंह के कैंसर के रोगियों की सर्वाधिक संख्या भारत में है.

भारत में विश्व की तुलना में धुआंरहित चबाने वाले तंबाकू उत्पाद (जर्दा, गुटखा, खैनी) का सेवन सबसे अधिक होता है. यह सस्ता और आसानी से मिलने वाला नशा है. पिछले दो दशकों में इसका प्रयोग बढ़ा है, जिस कारण भी सिर व गले के कैंसर के रोगी बढ़े हैं.

डॉ़ साहू कहते हैं, “इंडियन काउंसिल ऑफ मेडिकल रिसर्च (आईसीएमआर) द्वारा वर्ष 2008 में प्रकाशित अनुमान के मुताबिक, भारत में सिर व गले के कैंसर के मामलों में वृद्धि देखी जा रही है. इन मामलों में 90 फीसदी कैंसर तंबाकू, शराब व सुपारी के सेवन से होते हैं और इस प्रकार के कैंसर की रोकथाम की जा सकती है.”

आईसीएमआर की रिपोर्ट में भी इस बात का खुलासा किया गया है कि पुरुषों में 50 प्रतिशत और स्त्रियों में 25 प्रतिशत कैंसर की वजह तंबाकू है. इनमें से 60 प्रतिशत मुंह के कैंसर हैं. धुआं रहित तंबाकू में 3000 से अधिक रासायनिक पदार्थ हैं, जिनमें से 29 रसायन कैंसर पैदा कर सकते हैं.

उन्होंने कहा कि मुंह व गले के कैंसर के मामले राष्ट्रीय स्वास्थ्य योजनाओं, वंचित लोगों, परिवारों व समुदायों पर भार बढ़ा रहे हैं. मुंह व गले के कैंसर से जुड़े अधिकांश मामलों में यदि बीमारी की पहचान पहले हो जाए, तो इसे रोका जा सकता है और इलाज भी किया जा सकता है. लेकिन लाखों लाखों लोग रोग की देर से पहचान, अपर्याप्त इलाज व अनुपयुक्त पुनर्वास सुविधाओं के शिकार हो जाते हैं.

टाटा मेमोरियल हॉस्पिटल (टीएमएच) के कैंसर सर्जन डॉ.पंकज चतुर्वेदी जो इस अभियान की वैश्विक स्तर पर अगुवाई कर रहे हैं, कहते हैं, “सिर व गले के कैंसर के नियंत्रण के लिए सरकारों, एनजीओ, चिकित्सा व स्वास्थ्य कार्यकर्ताओं, सामाजिक संगठनों, शिक्षा व उद्योग संस्थानों सहित सभी के सहयोग की आवश्यकता है.”

उन्होंने बताया कि हेड नेक कैंसर पर प्रभावी नियंत्रण और इलाज की ओर वैश्विक ध्यान आकर्षित करने के लिए अंतर्राष्ट्रीय फेडरेशन ऑफ हेड एंड नेक ऑन्कोलॉजिकल सोसाइटिज (आईएफएचएनओएस) ने 27 जुलाई को विश्व सिर, गला कैंसर दिवस के रूप में मनाए जाने का प्रस्ताव रखा और यह मनाया जाने लगा. फेडरेशन को इसके लिए अनेक सरकारी संस्थानों, एनजीओ, 55 से अधिक सिर व गला कैंसर संस्थानों व 51 देशों का समर्थन प्राप्त है.

डॉ़ पंकज चतुर्वेदी बताते हैं कि एशियन पेसिफिक जर्नल ऑफ कैंसर प्रिवेंशन द्वारा 2008 व 2016 में प्रकाशित शोधपत्र के अनुसार, 2001 में पुरुषों में मुंह का कैंसर के मामले 42,725 वहीं 2016 में 65,205 थे, वहीं महिलाओं में 22,080 व 35,088 मामले सामने आए. गले और सांस नली के कैंसर के मामले 2008 व 2016 में पुरुषों में 49,331 और 75,901 जबकि महिलाओं में 9251 तथा 14550 हो गया है.

उन्होंने कहा कि इस अवधि में कैंसर पीड़ितों की संख्या सात लाख 96 हजार से बढ़कर 12 लाख 29 हजार से ज्यादा हो गई है. इस तरह 15 वर्षो में कैंसर रोगियों की संख्या में चार लाख 32 हजार से ज्यादा की बढ़ोतरी हुई है.

उन्होंने बताया कि वर्ष 2014 में जॉन हॉपकिंस यूनिवर्सिटी ब्लूमबर्ग स्कूल ऑफ पब्लिक हेल्थ व विश्व स्वास्थ्य संगठन ने गुटका प्रतिबंध के प्रभावों पर एक अध्यन कराया. अध्ययन के दौरान देश के सात राज्यों असम, बिहार, गुजरात, कर्नाटक, मध्यप्रदेश, महाराष्ट्र, उड़ीसा और दिल्ली में 1,001 वर्तमान व पूर्व गुटका सेवनकर्ताओं और 458 खुदरा तंबाकू उत्पाद विक्रताओं पर सर्वेक्षण किया गया.

इस सर्वेक्षण में सामने आया कि 90 फीसदी ने उपयोगकर्ताओं ने इच्छा जताई कि सरकार को धुआं रहित तंबाकू के सभी प्रकार के उत्पादों की बिक्री और वितरण पर प्रतिबंध लगा देना चाहिए. इस पर 92 फीसदी लोगों ने प्रतिबंध का समर्थन किया.

99 फीसदी लोगों ने कहा कि भारतीय युवाओं के स्वाथ्य के लिए प्रतिबंध अच्छा है. जो लोग प्रतिबंध के बावजूद गैरकानूनी ढंग से डिब्बा बंद तंबाकू का सेवन करते हैं, उनमें से आधे लोगों ने कहा कि प्रतिबंध के बाद उनके गुटका सेवन में कमी आई है.

80 फीसदी लोगो ने विश्वास जताया कि प्रतिबंध ने उन्हें गुटका छोड़ने के लिए प्रेरित किया है और इनमें से आधे लोगों ने कहा उन्होंने वास्तव में छोड़ने की कोशिश भी की है.

इंडेक्स ऑफ इंड्रस्टियल प्रोडक्शन के आंकड़े बताते हैं कि सिगरेट, बीड़ी व चबाने वाले तंबाकू उत्पादों का उत्पादन मार्च, 2015 में पिछले वर्ष की अपेक्षा 12़1 फीसदी गिर गया है. चबाने वाले तंबाकू उत्पाद पर प्रतिबंध के प्रभाव यूरोमोनिटर इंटरनेशनल की रिपोर्ट दर्शाती है, जिसके मुताबिक, धुआंरहित तंबाकू उत्पादन में गिरावट देखी गई है.

Health News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: In India 5 lakh people die of cancer every year
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
First Published:

Related Stories

एक्सरसाइज करेंगे तो पा सकते हैं इस बड़ी बीमारी से छुटकारा!
एक्सरसाइज करेंगे तो पा सकते हैं इस बड़ी बीमारी से छुटकारा!

नई दिल्लीः हाल ही में आई रिसर्च के मुताबिक, रोजाना एक्सरसाइज करने से ना सिर्फ आप फिट रहते हैं...

डेंगू और चिकुनगुनिया से बचाने के लिए गूगल ऐसे करेगा मच्छरों का खात्मा!
डेंगू और चिकुनगुनिया से बचाने के लिए गूगल ऐसे करेगा मच्छरों का खात्मा!

सन फ्रांस्सिकोः इंटरनेट कंपनी गूगल की मदर कंपनी अल्फाबेट ने अमेरिकी वैज्ञानिकों के साथ मिलकर...

OMG! अल्ट्रसाउंड में दिखे जुड़वा बच्चे, डिलीवरी में एक बच्चे का जन्म
OMG! अल्ट्रसाउंड में दिखे जुड़वा बच्चे, डिलीवरी में एक बच्चे का जन्म

लखीमपुर खीरीः उत्तर प्रदेश के लखीमपुर में एक गर्भवती महिला ने अल्ट्रसाउंड कराया था जिसमें...

डिप्रेशन का जल्द करें इलाज, नहीं तो हो सकती हैं ये दिक्कतें!
डिप्रेशन का जल्द करें इलाज, नहीं तो हो सकती हैं ये दिक्कतें!

नई दिल्लीः डिप्रेशन से ग्रस्त व्यक्ति के ब्रेन स्ट्रक्चर में बदलाव का खतरा होता है. ये बदलाव...

क्या आप भी रातभर AC में सोते हैं,? ये बातें जान लें वर्ना होगी बड़ी दिक्कत
क्या आप भी रातभर AC में सोते हैं,? ये बातें जान लें वर्ना होगी बड़ी दिक्कत

नई दिल्ली: इस खतरनाक गर्मी में एयर कंडिशनर अपनी कूलिंग से राहत देता है और रोजाना इस गर्मी के...

क्या आप बोलते वक्त ज्यादा अटकते हैं? बोली मानसिक गिरावट का दे सकती है इशारा!
क्या आप बोलते वक्त ज्यादा अटकते हैं? बोली मानसिक गिरावट का दे सकती है इशारा!

नई दिल्लीः क्या आप जानते हैं कि आपका बोलना आपकी मेंटल हेल्थ के बारे में बहुत कुछ बताता है....

क्‍या आप भी वर्कआउट के बाद थकान महसूस करते हैं?
क्‍या आप भी वर्कआउट के बाद थकान महसूस करते हैं?

नई दिल्ली: हेल्दी और फिट रहने के लिए रोज वर्कआउट करना बहुत जरूरी होता है. एक्सरसाइज के लिए कोई...

रोजाना टमाटर खाने से मर्दों को हो सकता है ये फायदा!
रोजाना टमाटर खाने से मर्दों को हो सकता है ये फायदा!

नई दिल्ली: क्या आपको भी टमाटर खाना पसंद है? अगर हां, तो हम बता दें कि आपका ये मनपसंद फूड आपके लिए...

सेक्स चेंज सर्जरीः इन वजहों से बढ़ रहा है भारत में ये ट्रेंड!
सेक्स चेंज सर्जरीः इन वजहों से बढ़ रहा है भारत में ये ट्रेंड!

नई दिल्ली: विदेशों में सेक्स चेंज सर्जरी करवाना कोई बड़ी बात नहीं है लेकिन अब भारत में भी सेक्स...

पुरुषों के मुकाबले ऑटिज्म पीड़ित महिलाओं को होती है ज्यादा दिक्कत!
पुरुषों के मुकाबले ऑटिज्म पीड़ित महिलाओं को होती है ज्यादा दिक्कत!

न्यूयार्कः ऑटिज्म से पीड़ित महिलाओं और लड़कियों को अपने दैनिक दिनचर्या करने में बहुत अधिक...

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017