सावधान! मोबाइल के इस्तेमाल से हो सकता है ब्रेन ट्यूमर

By: | Last Updated: Friday, 21 April 2017 11:47 AM
सावधान! मोबाइल के इस्तेमाल से हो सकता है ब्रेन ट्यूमर

नई दिल्लीः क्या आप भी दिनभर मोबाइल का इस्तेमाल करते हैं? क्या आप अपने मोबाइल से बिल्कुल अलग नहीं रह सकते? क्या ऑफिस में आपको भी मोबाइल पर काम करना होता है? अगर हां, तो आपको ब्रेन ट्यूमर हो सकता है. ये हम नहीं कह रहे बल्कि एक अदालत में ऐसा कहा गया है.

क्यों कहा गया ऐसा-
इटली के एक कोर्ट में ब्रेन ट्यूमर का कारण मोबाइल को माना गया है. दरअसल, इस बात को एक व्यक्ति की याचिका पर सुनवाई करते हुए इटली की कोर्ट ने स्वीकार किया है. हालांकि अभी इस फैसले को हाई कोर्ट तक ले जाया जा रहा है.

क्या है मामला-
57 वर्षीय रॉबर्टो रोमियो को अपने काम के दौरान रोजाना तीन से चार घंटे मोबाइल का इस्तेमाल करना पड़ता है. वे पिछले 15 सालों से नौकरी कर रहे हैं. पहले रोमियो को महसूस हुआ कि उनके राइट कान में सुनना बंद हो गया है. ट्रीटमेंट के दौरान उन्हें 2010 में पता चला कि ब्रेन ट्यूमर है. बेशक, ट्यूमर बहुत बड़ा नहीं था लेकिन अब रोमियो को कुछ नहीं सुनाई देता क्योंकि डॉक्टर्स को इलाज के दौरान उनकी ऑडिटरी नर्व निकालनी पडी.

क्या कहा कोर्ट ने-
सुनवाई के दौरान कोर्ट ने माना कि रोमियो के कान को 23 पर्सेंट नुकसान उनके काम की वजह से हुआ है. ऐसे में कोर्ट ने आइएनएआइएल (वर्कप्लेस पर दुर्घटनाओं को कवर करने वाली एक नेशनल इंश्योरेंस स्कीम) को रोमियो को हर महीने 500 यूरो गुजारा भत्ता देने को कहा है.

क्या कहते हैं रोमियो और उमके वकील-  
इस मामले में रोमियो का कहना है कि वे मोबाइल सेवा वर्कप्लेस पर बंद नहीं करवाना चाहते लेकिन वो इस बारे में ध्यान दिलाना चाहते हैं कि मोबाइल के इस्तेमल के दौरान सर्तक रहना बहुत जरूरी हैं.

वहीं रोमियों के वकील का कहना है कि दुनिया में पहली बार इस तरह का मामला सामने आया है जिसमें कोर्ट ने इस बात को स्वीकार किया है कि मोबाइल फोन के ज्यादा यूज और ब्रेन ट्यूमर के बीच संबंध है.

क्या कहते हैं एक्सपर्ट-
इस संबंध में एबीपी न्यूज़ ने जब ईएनटी स्पेशलिस्ट डॉ. संजय मंगला से बात की तो उनका कहना था कि ऐसे केसेज अभी प्रूव नहीं हुए हैं लेकिन डॉक्टर्स की ऐसी धारणा है कि अगर यंग ऐज में किसी को नर्व डेफनेस है और ऐसे लोगों का मोबाइल का काम बहुत ज्यादा है तो उन्हें ये समस्या आ सकती है. हालांकि इसे डायरेक्टिली को-रिलेट करना बहुत मुश्किल है. ये बात तय है कि जैसे ईयर फटिग होता है. आप लगातार किसी के कान में बोलते चले जाएं तो निश्चित तौर पर उस व्यक्ति की हियरिंग नर्व थक जाती है. ऐसे में हियरिंग नर्व वीकनेस के बहुत से मामले सामने आए हैं. लेकिन इसे आप प्रूव नहीं कर सकते कि ये मोबाइल पर घंटों बात करने से ही हुआ है. डॉ. का साफ-साफ कहना है कि अगर आपकी हियरिंग नर्व वीक है और आप घंटों मोबाइल पर बात करते हैं तो हियरिंग प्रॉब्लम हो सकती है.

डॉ. सलाह देते हैं कि ऐसे में जब भी किसी व्यक्ति को टेलिफोन ऑपरेटर की जॉब दी जाए तो सबसे पहले उनका ऑडियोमेट्री टेस्ट करवाया जाए. इसके साथ ही हर साल उस व्यक्ति का हियरिंग असि‍स्‍टमेंट हो. जब भी ऐसा महसूस हो कि व्यक्ति को हियरिंग प्रॉब्लम आने वाली है या आ रही है तो तुरंत उनकी जॉब बदल दी जाए. आज के समय में जेट या फ्लाइंग में जो लोग काम करते हैं उनके लिए हियरिंग असि‍स्‍टमेंट करवाना मेंडेटरी होता है. दरअसल, जेट की साउंड बहुत तेज होती है. उनके लिए बहुत जरूरी होता है.

शारदा हॉस्पिटल के न्यूरो सर्जन यूनिट हेड डॉ. विकास भारद्वाज का कहना है कि ऐसा होना पॉसिबल है. डॉ. का कहना है कि ब्रेन की डिफरेंट फ्रीक्वेंसी वेब्स होती हैं. इस फ्रीक्वेंसी के हिसाब से ब्रेन डिफरेंट सिचुएशन में डिफरेंट तरीके से काम करता है. ये वेब्स हाई मॉड्यूलेशन फ्रीक्वेंसी वेब्स से डिस्टर्ब हो सकती हैं. हाई मॉड्यूलेशन फ्रीक्वेंसी वेब्स मोबाइल और टेलिफोन से आती हैं. जब ब्रेन की फ्रीक्वेंसी वेब्स डिस्टर्ब होती हैं तो ये ब्रेन को डैमेज तो नहीं करती लेकिन ब्रेन के फंक्शन को डिस्टर्ब कर देती है. इससे व्यक्ति को साइक्लोजिकल डिस्टर्बेंस हो सकती है. नींद डिस्टर्ब हो जाती है. एग्रेशन हो सकता है. इरिटेशन हो सकती है. कैमिकल चेंज हो सकते हैं. हाई मॉड्यूलेशन वेब्स कैंसर और ब्रेन डैमेज से रिलेटिड नहीं होती. ये प्रूफ भी नहीं हुआ है. स्टडी में ये साबित हो चुका है कि मोबाइल के अधिक इस्तेमाल से वेब्स डिस्टर्ब हो सकती है.

First Published:

Related Stories

रमजान के महीने में खुद को स्वस्थ रखने के लिए इन बातों का ख़याल रखें
रमजान के महीने में खुद को स्वस्थ रखने के लिए इन बातों का ख़याल रखें

नई दिल्ली: मुसलमानों के लिए रमजान का पवित्र महीना खास अहमियत रखता है. मुस्लिम धर्म में आस्था...

क्‍या ऑफिस आने-जाने में आप भी घंटों ट्रैवल करते हैं? तो ये खबर जरूर पढ़ें
क्‍या ऑफिस आने-जाने में आप भी घंटों ट्रैवल करते हैं? तो ये खबर जरूर पढ़ें

नई दिल्लीः अगर कोई आपको कहता है कि ऑफिस पहुंचने में रोजाना एक घंटे का ट्रैवल करना पड़ता है तो...

सावधान! बच्चों और टीनेजर्स का DNA डैमेज कर सकता है पॉल्‍यूशन
सावधान! बच्चों और टीनेजर्स का DNA डैमेज कर सकता है पॉल्‍यूशन

नई दिल्लीः हाल ही में आई रिसर्च में वैज्ञानिकों ने चेताया है कि ट्रैफिक रिलेटिड हाई लेवल एयर...

आर्टरी डिजीज़ के लिए फल और सब्जियां हैं फायदेमंद!
आर्टरी डिजीज़ के लिए फल और सब्जियां हैं फायदेमंद!

न्यूयॉर्क: रोजाना अपने आहार में फलों और सब्जियों की मात्रा बढ़ाने से पैरों में रक्त प्रवाह को...

अस्थमा को काबू में रखेगा ये पहनने वाला यंत्र
अस्थमा को काबू में रखेगा ये पहनने वाला यंत्र

न्यूयार्क: शोधकर्ताओं ने ग्रैफीन-आधारित सेंसर का निर्माण किया है, जो फेफड़ों में सूजन का पता...

टीबी की टैबलेट्स अब आएंगी ऑरेंज और स्ट्राबेरी फ्लेवर में
टीबी की टैबलेट्स अब आएंगी ऑरेंज और स्ट्राबेरी फ्लेवर में

नयी दिल्ली: आखिरकार टीबी से पीड़ित बच्चों को अब और कड़वी गोली नहीं खानी होगी. सरकार उसे...

मासिक धर्म के बारे में लड़कों को जागरूक करना जरूरी :सिसोदिया
मासिक धर्म के बारे में लड़कों को जागरूक करना जरूरी :सिसोदिया

नई दिल्ली: दिल्ली के उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने कहा कि जहां मासिक धर्म जैसे विषयों पर दबे...

सिर्फ स्ट्रेस ही नहीं बल्कि ये कारण भी है नींद डिस्टर्ब होने का!
सिर्फ स्ट्रेस ही नहीं बल्कि ये कारण भी है नींद डिस्टर्ब होने का!

नई दिल्लीः क्या आपकी रात को नींद डिस्टर्ब होती है? क्या आप रात को सो नहीं पाते? अगर हां, तो इसके...

Exclusive : ... तो ये है सुनील शेट्टी का फिटनेस फंडा
Exclusive : ... तो ये है सुनील शेट्टी का फिटनेस फंडा

नई दिल्लीः बॉलीवुड में ‘अन्ना’ के नाम से मशहूर 55 वर्षीय अभिनेता सुनील शेट्टी ने हाल ही में...

 आईस टी पीने के हैं कई फायदे लेकिन ज्यादा मात्रा में पी तो...
आईस टी पीने के हैं कई फायदे लेकिन ज्यादा मात्रा में पी तो...

नई दिल्लीः अक्सर इस मौसम में लोग आईस टी पीना पसंद करते हैं. बेशक आईस टी फायदेमंद भी हैं. लेकिन एक...

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017