कैंसर के मरीज़ों के लिए उम्मीद की नई किरण है ‘नव्या’ | Navya website is the new ray of hope for cancer patients

कैंसर के मरीज़ों के लिए उम्मीद की नई किरण है ‘नव्या’

दरअसल मुंबई के टाटा हॉस्पिटल में कैंसर के मरीजों की बेहद भीड़ होती है. वहां एक-एक मरीज को एक्सपर्ट्स से मिलने के लिए महीनों इंतजार करना पड़ता है. इसकी वजह से इलाज में देरी होती है-और मरीजों के साथ-साथ उनके परिजनों को भी काफी परेशानी झेलनी पड़ती है.

By: | Updated: 04 Feb 2018 11:00 PM
Navya website is the new ray of hope for cancer patients

प्रतीकात्मक तस्वीर

नई दिल्ली: कैंसर के मरीजों के लिए राहत की बड़ी खबर है. इलाज के लंबे इंतजार में मायूस कैंसर मरीजों के लिए उम्मीद की नई रौशनी लेकर आई है ‘नव्या’. जी हां, नव्या ये एक वेबसाइट है, जो मुंबई के टाटा मेमोरियल हॉस्पिटल, नेशनल कैंसर ग्रिड और नव्या नाम की संस्था का साझा प्रयास है. नव्या वेबसाइट का मकसद है देशभर में रहने वाले कैंसर के मरीजों को जल्द से जल्द सही और सुगम इलाज मुहैया कराना.


दरअसल मुंबई के टाटा हॉस्पिटल में कैंसर के मरीजों की बेहद भीड़ होती है. वहां एक-एक मरीज को एक्सपर्ट्स से मिलने के लिए महीनों इंतजार करना पड़ता है. इसकी वजह से इलाज में देरी होती है-और मरीजों के साथ-साथ उनके परिजनों को भी काफी परेशानी झेलनी पड़ती है.



टाटा मेमोरियल हॉस्पिटल और नव्या ने मिलकर जो वेबसाइट शुरू की है उससे कैंसर के मरीज अपना ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन कर सकते हैं. रजिस्ट्रेशन के बाद मरीजों को सिर्फ तीन दिन के अंदर एक्सपर्ट की सलाह मिल जाएगी.


एक्सपर्ट्स के मुताबिक नव्या ऑनलाइन सुविधा से जुड़ने वाले कैंसर मरीजों ने इसे एक बेहतरीन प्रयास माना है. टाटा हॉस्पिटल के निदेशक का कहना है कि नव्या वेबसाइट कैंसर मरीजों के लिए एक वरदान साबित होगी. साथ ही, कैंसर के ट्रीटमेंट के लिए टाटा मेमोरियल हॉस्पिटल अब देश के कई शहरों में अस्पतालों का नेटवर्क तैयार कर रहा है, ताकि लोगों को उनके राज्यों में ही सही इलाज मिल सके और उन्हें मुंबई में अस्पतालों के चक्कर नहीं लगाने पड़े.

फटाफट ख़बरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर और डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App
Web Title: Navya website is the new ray of hope for cancer patients
Read all latest Health News headlines in Hindi. Also don’t miss today’s Hindi News.

First Published:
Next Story क्या वीडियो गेम से सचमुच बच्चों को हो सकता है फायदा?