नवजात में होने वाली बीमारियों का कारण गर्भनिरोधक गोलियां नहीं!

By: | Last Updated: Friday, 8 January 2016 12:51 PM
No link between oral contraceptives and birth defects, says study

गर्भाधान से थोड़े समय पहले गर्भ निरोधक गोलियों का सेवन किसी प्रमुख जन्म दोष का कारण नहीं है. पत्रिका ‘बीएमजे’ में प्रकाशित एक शोध में यह दावा किया गया है. शोध में बताया गया है कि गर्भ निरोधक गोलियों का प्रयोग करने वाली महिलाओं में से लगभग नौ प्रतिशत महिलाएं गोली लेना भूल जाने, अन्य दवाओं के साथ गोलियां लेने या बीमारियों के कारण इन गोलियों के प्रयोग के पहले ही साल में गर्भवती हो जाती हैं.

शोधकर्ताओ के मुताबिक, गोलियों के कारण भ्रूण में किसी भी प्रकार के प्रमुख जन्म दोष के होने की आशंका नहीं होती.

शोध के लिए 1997 से 2011 के बीच जन्म, जन्म दोषों और मातृत्व चिकित्सकीय स्थितियों को जांचा गया.

इसमें 8,80,694 जीवित शिुशओं को शामिल किया गया, जिनमें 2.5 प्रतिशत ऐसे शिशु शामिल थे, जिनमें जन्म के पहले वर्ष में कोई प्रमुख जन्म दोष था.

प्रति 1,000 शिशु जन्म दर के आंकड़ों में हर वर्ग में प्रमुख जन्म दोष का आंकड़ा लगभग एक समान ही पाया गया. कभी इन गोलियों का इस्तेमाल न करने वालों में यह 25.1 प्रतिशत पाया गया तो गर्भाधान से तीन महीने से ज्यादा समय से गर्भनिरोधक गोलियों का प्रयोग करने वालों में यह आंकड़ा 25 प्रतिशत और गर्भाधान से तीन महीने पूर्व से इन गोलियों का प्रयोग करने वालों में यह आंकड़ा 24.9 प्रतिशत पाया गया.

Health News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: No link between oral contraceptives and birth defects, says study
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
First Published:

Related Stories

स्वाइन के बारे में ये अहम बातें जानना भी है जरूरी!
स्वाइन के बारे में ये अहम बातें जानना भी है जरूरी!

नई दिल्ली: दिल्ली सहित देशभर में स्वाइन फ्लू का कहर है. स्वाइन फ्लू के चलते लगातार लोगों की...

नी रिप्लेसमेंट में हॉस्पिटल के खर्च को कम करने की मांग!
नी रिप्लेसमेंट में हॉस्पिटल के खर्च को कम करने की मांग!

नई दिल्ली: एसोसिएशन ऑफ इंडियन मैन्यूफैक्चर्स एसोसिएशन ऑफ इंडियन मेडिकल इक्यूपमेंट इंडस्ट्री...

इंसेफलाइटिस प्रभावित 13 जिलो में आज से 30 अगस्त तक चलेगा स्वच्छता अभियान
इंसेफलाइटिस प्रभावित 13 जिलो में आज से 30 अगस्त तक चलेगा स्वच्छता अभियान

लखनऊ: सरकार ने वेक्टर और गंदगी से होने वाली बीमारियों से बचाव, रोकथाम और उनके नियंत्रण हेतु...

कैंसर की हर स्टेज के बारे में बताएगा ये नया ब्लड टेस्ट सिस्टम!
कैंसर की हर स्टेज के बारे में बताएगा ये नया ब्लड टेस्ट सिस्टम!

न्यूयॉर्क: स्टैनफोर्ड यूनिवर्सिटी के वैज्ञानिकों ने एक नए प्रकार का सस्ता मॉलिक्यूलर ब्लड...

घुटने के दर्द से परेशान लोगों के लिए आई अच्छी खबर, सस्ता होगा इलाज!
घुटने के दर्द से परेशान लोगों के लिए आई अच्छी खबर, सस्ता होगा इलाज!

नई दिल्लीः मोदी सरकार ने ‘नी रिप्लेसमेंट’ सर्जरी यानि घुटने के ऑपरेशन में इस्तेमाल होने वाले...

युवाओं में बढ़ रही पैर सूजने की बीमारी, बचने के लिए करें ये उपाय
युवाओं में बढ़ रही पैर सूजने की बीमारी, बचने के लिए करें ये उपाय

नई दिल्ली: एक हालिया रिसर्च में यह बात सामने आई है कि ‘वैरिकोज वेन्स’ यानी पैरों की नसें...

खुशखबरी! अब पौधे से तैयार हुई वैक्सीन खत्म करेगी पोलियो वायरस
खुशखबरी! अब पौधे से तैयार हुई वैक्सीन खत्म करेगी पोलियो वायरस

लंदन: वैज्ञानिकों ने पौधे का इस्तेमाल कर पोलियो वायरस के खिलाफ एक नया टीका विकसित किया है. इस...

म्यांमार में स्वाइन फ्लू से मरने वालों की संख्या 25 हुई
म्यांमार में स्वाइन फ्लू से मरने वालों की संख्या 25 हुई

नेपीथा: म्यामांर में स्वाइन फ्लू से मरने वालों की संख्या 25 तक पहुंच गई है. ‘एफे न्यूज’ ने...

उप्र में स्वाइन फ्लू को लेकर जारी हुई गाइडलाइन
उप्र में स्वाइन फ्लू को लेकर जारी हुई गाइडलाइन

लखनऊ: उत्तर प्रदेश में राजधानी लखनऊ सहित पूरे प्रदेश में स्वाइन स्वाइन फ्लू का असर तेजी से...

सावधान! ब्रेस्ट कैंसर से हर साल 76,000 भारतीय महिलाओं की मौत की आशंका
सावधान! ब्रेस्ट कैंसर से हर साल 76,000 भारतीय महिलाओं की मौत की आशंका

दुबई: शुरुआती पहचान में देरी की वजह से ब्रेस्ट कैंसर का समय पर इलाज नहीं हो पाता. एक शोध की...

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017