कैंसर, डायबिटीज से लेकर हार्ट डिजीज़ से होने वाली मौतों का आंकड़ा बढ़ा!

देश में कैंसर, हृदय रोग, मधुमेह और फेफड़ों की बीमारियों जैसे रोगों से होने वाली मौतों के मामले 70% तक बढ़ गए हैं. यह आंकड़ा तीन साल पहले 42% था.

By: | Last Updated: Saturday, 5 August 2017 9:34 AM
Noncommunicable diseases and their risk factors

नई दिल्ली: देश में कैंसर, हृदय रोग, मधुमेह और फेफड़ों की बीमारियों जैसे रोगों से होने वाली मौतों के मामले 70% तक बढ़ गए हैं. यह आंकड़ा तीन साल पहले 42% था.

इंडियन मेडिकल एसोसिएशन (आईएमए) के मुताबिक, देश में इन रोगों के चलते, प्रति चार में से एक व्यक्ति को 70 साल की उम्र तक पहुंचने से पहले ही मृत्यु का खतरा बना रहता है. नॉन कम्यूनिकेबल डिजीज़ (एनसीडी) एक ऐसी मेडिकल कंडीशन या बीमारी है, जो लोगों के बीच किसी इंफेक्शन से नहीं फैलती.

नॉन कम्यूनिकेबल डिजीज़ यानि असंक्रामक रोग कई कारणों से होते हैं जैसे- अनहेल्दी डायट, फीजिकल एक्टिविटी कम होना, तंबाकू और शराब का सेवन अधिक करना.

क्या कहते हैं एक्सपर्ट-
आईएमए के अध्यक्ष डॉ. के.के. अग्रवाल का कहना है कि अंधाधुंध शहरीकरण, अनहेल्दीक लाइफस्टाइल और लोगों की उम्र बढ़ते जाने जैसे कारणों से ऐसे रोग निरंतर बढ़ रहे हैं. अनहेल्दी फूड के अलावा लोग फीजिकल एक्टिविटी को भी नजरअंदाज करते हैं. इससे हाई ब्लड प्रेशर हो सकता है और फिर डायबिटीज और ब्लड लिपिड बढ़ने से मोटापा शुरू हो जाता है.

उन्होंने कहा कि ये मेटाबॉलिक जोखिम वाले कारक कहलाते हैं, जो आगे चल कर हृदय डिजीज़ और समय से पहले मृत्यु की वजह बन सकते हैं. जोखिम वाले कारकों को नियंत्रित करके एनसीडी की समस्या पर काबू पाया जा सकता है.

असंक्रामक रोगों से बचने के उपाय-

  • तंबाकू और धुएं में कम रहकर.
  • आहार में नमक की खपत को कम करना होगा.
  • शारीरिक गतिविधियों को बढ़ाना होगा.
  • फास्टिंग शुगर को 80 मिलीग्राम से कम रखें.
  • शराब लेने से बचें.
  • भोजन में 80 ग्राम से अधिक कैलोरी नहीं होनी चाहिए.
  • एक बार में शीतल पेय की मात्रा 80 मिली तक सीमित करें.
  • तंबाकू उत्पादों का उपभोग न करें.
  • रक्तचाप 80 एमजीएच एचजी और हृदय की दर 80 प्रति मिनट से कम रखें.
  • सप्ताह में 80 मिनट के लिए एरोबिक व्यायाम करें.
  • हफ्ते में 80 मिनट के लिए स्ट्रेचिंग एक्सरसाइज करें.
  • सप्ताह में कम से कम 80 बार फलों और सब्जियों का सेवन करें.
  • सप्ताह में 80 मिली से ज्यादा घी, तेल और मक्खन का उपभोग न करें.

नोट: ये रिसर्च के दावे पर हैं. ABP न्यूज़ इसकी पुष्टि नहीं करता. आप किसी भी सुझाव पर अमल या इलाज शुरू करने से पहले अपने डॉक्टर की सलाह जरूर ले लें.

Health News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: Noncommunicable diseases and their risk factors
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
First Published:

Related Stories

इन बातों का रखे ध्यान, ताकि आपको ना लगे 'स्वाइन फ्लू' की नज़र
इन बातों का रखे ध्यान, ताकि आपको ना लगे 'स्वाइन फ्लू' की नज़र

2009 से लेकर अब तक स्वाइन फ्लू भारत में 5000 लोगों को हमसे छीन चुका है. इस साल भी स्वाइन फ्लू के फैलने...

खुशखबरी! अब मूंगफली से होने वाली एलर्जी का हो सकेगा इलाज
खुशखबरी! अब मूंगफली से होने वाली एलर्जी का हो सकेगा इलाज

नई दिल्ली: कई लोगों को मूंगफली से एलर्जी होती है यानि पीनट एलर्जी से परेशान लोगों के लिए अब...

ऐसे लोगों को अधिक रहता है अल्जाइमर होने का खतरा!
ऐसे लोगों को अधिक रहता है अल्जाइमर होने का खतरा!

नई दिल्लीः हाल ही में एक रिसर्च में खुलासा हुआ है कि भूलने की बीमारी यानि अल्जाइमर का खतरा उन...

सावधान! लंबे समय तक फैटी लिवर बढ़ा सकता है लिवर कैंसर का खतरा
सावधान! लंबे समय तक फैटी लिवर बढ़ा सकता है लिवर कैंसर का खतरा

नई दिल्ली: इंडियन मेडिकल एसोसिएशन (आईएमए) का कहना है कि फैटी लिवर से पीड़ित लोगों की संख्या में...

बीमारी की पहचान में सुधार के लिए आया मल्टीकलर एमआरआई
बीमारी की पहचान में सुधार के लिए आया मल्टीकलर एमआरआई

वाशिंगटन: वैज्ञानिकों ने एमआरआई (मैग्नेटिक रिजोनेंस इमेजिंग) को मल्टीकलर बनाने का तरीका...

सांस की इन दो बीमारियों से दुनिया भर में 36 लाख लोगों की मौत
सांस की इन दो बीमारियों से दुनिया भर में 36 लाख लोगों की मौत

नई दिल्ली: ‘लांसेट रिस्पीरेटरी मेडिसिन’ मैग्जीन में ये दावा किया है कि दो आम क्रोनिक लंग...

दवाओं और चिकित्सकीय उपकरणों की कीमतों पर लगाम लगाने की मांग
दवाओं और चिकित्सकीय उपकरणों की कीमतों पर लगाम लगाने की मांग

नयी दिल्ली: नी रिप्लेसमेंट में लगने वाले आर्टिफिशियल अंगों के मूल्य तय किए जाने की सरकार की...

‘नी रिप्लेसमेंट’ के दामों में कटौती अच्छा कदम, अब गुणवत्ता पर भी ध्यान देने की जरूरत
‘नी रिप्लेसमेंट’ के दामों में कटौती अच्छा कदम, अब गुणवत्ता पर भी ध्यान देने...

नयी दिल्ली: आर्टिफिशियल नी इम्प्लांट सस्ते होने की सरकार की घोषणा का स्वागत करते हुए...

गुजरात में स्वाइन फ्लू से अब तक 230 की मौत
गुजरात में स्वाइन फ्लू से अब तक 230 की मौत

वडोदरा/अहमदाबाद: गुजरात में स्वाइन फ्लू यानि एच1एन1 वायरस से इंफेक्टेड होकर मरनेवालों की...

गोरखपुर में इन्सेफेलाइटिस वार्ड में एक और बच्चे की मौत
गोरखपुर में इन्सेफेलाइटिस वार्ड में एक और बच्चे की मौत

गोरखपुर: बाबा राघव दास मेडिकल कालेज से कल एक और बच्चे की मौत हो गयी. बच्चा मेडिकल कालेज के...

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017