डायबिटीज के लक्षण हैं अलग तो उपचार भी होगा अलग

By: | Last Updated: Saturday, 19 March 2016 10:55 AM
Rare Form Of Diabetes Needs Different Treatment

मधुमेह के जिन मरीजों की बीमारी अनुवांशिक कारणों से असामान्य होती है, उनके उपचार के लिए अलग तरीके की जरूरत होती है. शोधकर्ताओं ने कहा है कि अगर उनका उपचार मधुमेह के सामान्य उपचार की विधि से किया जाए तो फायदा की बजाय और नुकसान हो सकता है. प्रमुख शोधकर्ता और अमेरिका के मैसाचुसेट्स जनरल अस्पताल के बेंजामिन मूरे का कहना है, “टाइप 2 मधुमेह के शिकार मरीजों का इंसुलिन से उपचार नहीं करना चाहिए. हमारे शोध से पता चला है कि इससे वे इंसुलिन पर कहीं अधिक जल्दी आश्रित हो जाते हैं.”

यह शोध द जर्नल ऑफ बॉयोलॉजिकल केमेस्ट्री में प्रकाशित किया गया है.

इस शोध में डॉक्टरों को सलाह दी गई है कि मधुमेह का इलाज करने से पहले वे जांच लें कि कहीं यह अनुवांशिक असामान्य मधुमेह तो नहीं है.

मूरे कहते हैं, “यह जरूरी है कि मरीजों की जितना संभव हो सटीक जांच करनी चाहिए. उसके बाद ही सही तरीके से उनका इलाज करना चाहिए.”

Health News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: Rare Form Of Diabetes Needs Different Treatment
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
First Published:

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017