पुरुषों को इन लक्षणों पर देना चाहिए खास ध्यान, बच सकते हैं गंभीर बीमारियों से

थोड़ी सी सावधानी बचा सकती है मर्दों को इन बीमारियों से

आज हम आपको ऐसी गंभीर बीमारियों के बारे में बताएंगे जिसे नजरअंदाज करने पर पुरुषों को भुगतना पड़ सकता है इसका खामियाजा.

By: | Updated: 06 Oct 2017 01:29 PM

नई दिल्ली: काम के बोझ के कारण आजकल महिलाओं से ज्यादा पुरुष खुद पर ध्यान नहीं दे पा रहे हैं. नतीजन के उनकी सेहत पर बुरा असर पड़ रहा है. आज हम आपको ऐसी गंभीर बीमारियों के बारे में बताएंगे जिसे नजरअंदाज करने पर पुरुषों को भुगतना पड़ सकता है इसका खामियाजा.


पायलोनिडल साइनस-
यह छोटा सिस्ट होता है, जो हिप्स के ऊपरी हिस्से में दि‍खाई देता है. यह पुरुषों को ही अधिकत्तर होता है. युवाओं में ये सिस्ट अधिक देखा गया है. पायलोनिडल साइनस में बैठने या उठने में दर्द महसूस होता है. सिस्ट में सूजन हो जाती है. कई बार सिस्ट से खून या पस का निकलने लगती है.


थायरॉइड-
मांसपेशियों में दर्द होना, फोकस करने में दिक्कत, जल्दी थकान होना और उत्तेजना में कमी सभी पुरुषों में थायरॉइड के कुछ लक्षण हैं.


स्लीप एप्निया-
तेज खर्राटे आना, दिन के बहुत नींद आना और सिरदर्द सभी स्लीप एप्निया के सामान्य लक्षण हैं.


टेस्टिक्यूलर कैंसर-
जनांनगों में खिंचाव, कमर में दर्द, सांस लेने में दिक्कत, सीने में दर्द, पैरों में सूजन सभी टेस्टिक्यूलर कैंसर के कुछ लक्षण हैं.


कोलोरेक्टल कैंसर-
डायब में फाइबर की कमी, शराब और सिगरेट का सेवन, पेट में लगातार दर्द होना, थकान होना, स्टूल से ब्लड आना, बार-बार दस्त लगना, अचानक वजन कम होना सभी कोलोरेक्टल कैंसर के लक्षण है.


हार्ट अटैक-
चेस्ट में हैवीनेस, हार्ट के लेफ्ट साइड में बहुत देर तक दर्द होना, सांस लेने में तकलीफ होना सभी दिल का दौरा पड़ने के कुछ लक्षण हैं.


इन लक्षणों पर समय-समय पर गौर करते रहें और कुछ भी परेशानी दि‍खते ही तुरंत डॉक्टर से संपर्क करें.


नोट: ये रिसर्च के दावे पर हैं. ABP न्यूज़ इसकी पुष्टि नहीं करता. आप किसी भी सुझाव पर अमल या इलाज शुरू करने से पहले अपने डॉक्टर की सलाह जरूर ले लें.

फटाफट ख़बरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर और डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App
Web Title:
Read all latest Health News headlines in Hindi. Also don’t miss today’s Hindi News.

First Published:
Next Story भ्रूण की वायबिलिटी पर आईएमए ने दिशानिर्देश जारी किये