डिस्लेक्सिया से पीड़ित बच्चे भी सीख सकते हैं सामान्य रूप से!

By: | Last Updated: Monday, 31 July 2017 9:36 AM
Understanding Dyslexia in Children

नई दिल्लीः डिस्लेक्सिया दुनियाभर में 10 में से एक बच्चे को होता है. इस बीमारी में बच्चे को सीखने में दिक्कतें  आती है. डिस्लेक्सिया एसोसिएशन ऑफ इंडिया का कहना है कि यदि तरीका सही हो तो डिस्लेक्सिया से ग्रसित बच्चे भी सामान्य रूप से सीख सकते हैं.

भारत में डिस्लेक्सिया –
डिस्लेक्सिया एसोसिएशन ऑफ इंडिया का अनुमान है कि भारत में लगभग 10 से 15 प्रतिशत स्कूली बच्चे किसी न किसी प्रकार के डिस्लेक्सिया से ग्रस्त हैं. हमारे देश में बहुत सारी भाषाएं हैं, जो स्थिति को और अधिक कठिन बना सकती हैं. यह स्थिति लड़कों और लड़कियों को समान रूप से प्रभावित कर सकती हैं. यदि सेकेंड क्लास तक ऐसे बच्चों की पहचान नहीं हो पाई, तो ऐसे बच्चे बड़े होकर भी इस समस्या से परेशान रह सकते हैं और उस बिंदु पर इसे ठीक नहीं किया जा सकता.

डिस्लेक्सिया का कारण –
इंडियन मेडिकल एसोसिएशन (आईएमए) के अध्यक्ष डॉ. के.के. अग्रवाल ने कहा कि डिस्लेक्सिक बच्चों का मेंटल स्ट्रिक्च र और काम के लिहाज से सामान्य मस्तिष्क से भिन्न होता है. ऐसे बच्चों में मानसिक विकास के लिए जिम्मेदार नर्वस सिस्टम बचपन से ही अलग प्रकार का होता है. यह भिन्न वाइरिंग ही डिस्लेक्सिया का कारण बनती है. इसी वजह से सीखने और पढ़ने की सामान्य प्रक्रियाएं भी ऐसे बच्चों में लंबा समय ले लेती हैं.

डिस्लेक्सिया के लक्षण-
डॉ. अग्रवाल ने बताया कि बच्चों में डिस्लेक्सिया के कुछ आम लक्षण हैं- बोलने में कठिनाई, हाथों और आंख में तालमेल न होना, ध्यान न दे पाना, कमजोर स्मरण शक्ति और समाज में फिट होने में कठिनाई.

पेरेंट्स इन बातों पर दें ध्यान-
ऐसे बच्चों के पेरेंट्स को समझदारी से काम लेना चाहिए. उन्हें यह सुनिश्चित करना चाहिए कि समस्या से भागने की बजाय, वे बच्चे की इस कठिनाई का हल खोजने की कोशिश करें, उसका चेकअप कराएं और उचित इलाज भी करवाने की पहल करें. यदि डॉक्टर बताता है कि बच्चे को डिसलेक्सिया है तो इसे जीवन का अंत न समझें. अपने बच्चे के प्रयासों को समझें, स्वीकार करें और समर्थन करें. धैर्य और समझदारी से इस समस्या का समाधान प्राप्त करने में आसानी हो सकती है.

डिस्लेक्सिक बच्चों को उनकी शिक्षा और समझ संबंधी समस्याएं दूर करने की तकनीक-

  • सकारात्मक दृष्टिकोण रखें : बच्चे के साथ सकारात्मक तरीके से संवाद करें और धैर्य रखें. ऐसे बच्चों को चीजों को समझने में समय लगता है.
  • डिस्लेक्सिक बच्चे अधिक जिज्ञासु होते हैं. इसलिए, उन्हें तार्किक जवाब देना जरूरी है. उनके संदेह दूर करने में उनकी मदद करें.
  • विज्ञान और गणित को टाइम टेबल के हिसाब से पढ़ाने से उन्हें विषयों को समझने में मदद मिल सकती है.
  • ऑडियो-विजुअल सामग्री का अधिक उपयोग करें, क्योंकि वे इस तकनीक के साथ चीजों को बेहतर तरीके से समझ सकते हैं. छोटे बच्चों के लिए फ्लैश कार्ड का उपयोग किया जा सकता है.
  • योग से ऐसे बच्चों में एकाग्रता बढ़ाई जा सकती है. सांस लेने के व्यायाम और वैकल्पिक चिकित्सा दवाइयों से स्थिति को संभालने में मदद मिल सकती है.

नोट: ये रिसर्च के दावे पर हैं. ABP न्यूज़ इसकी पुष्टि नहीं करता. आप किसी भी सुझाव पर अमल या इलाज शुरू करने से पहले अपने डॉक्टर की सलाह जरूर ले लें.

Health News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: Understanding Dyslexia in Children
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
First Published:

Related Stories

इन बातों का रखे ध्यान, ताकि आपको ना लगे 'स्वाइन फ्लू' की नज़र
इन बातों का रखे ध्यान, ताकि आपको ना लगे 'स्वाइन फ्लू' की नज़र

2009 से लेकर अब तक स्वाइन फ्लू भारत में 5000 लोगों को हमसे छीन चुका है. इस साल भी स्वाइन फ्लू के फैलने...

खुशखबरी! अब मूंगफली से होने वाली एलर्जी का हो सकेगा इलाज
खुशखबरी! अब मूंगफली से होने वाली एलर्जी का हो सकेगा इलाज

नई दिल्ली: कई लोगों को मूंगफली से एलर्जी होती है यानि पीनट एलर्जी से परेशान लोगों के लिए अब...

ऐसे लोगों को अधिक रहता है अल्जाइमर होने का खतरा!
ऐसे लोगों को अधिक रहता है अल्जाइमर होने का खतरा!

नई दिल्लीः हाल ही में एक रिसर्च में खुलासा हुआ है कि भूलने की बीमारी यानि अल्जाइमर का खतरा उन...

सावधान! लंबे समय तक फैटी लिवर बढ़ा सकता है लिवर कैंसर का खतरा
सावधान! लंबे समय तक फैटी लिवर बढ़ा सकता है लिवर कैंसर का खतरा

नई दिल्ली: इंडियन मेडिकल एसोसिएशन (आईएमए) का कहना है कि फैटी लिवर से पीड़ित लोगों की संख्या में...

बीमारी की पहचान में सुधार के लिए आया मल्टीकलर एमआरआई
बीमारी की पहचान में सुधार के लिए आया मल्टीकलर एमआरआई

वाशिंगटन: वैज्ञानिकों ने एमआरआई (मैग्नेटिक रिजोनेंस इमेजिंग) को मल्टीकलर बनाने का तरीका...

सांस की इन दो बीमारियों से दुनिया भर में 36 लाख लोगों की मौत
सांस की इन दो बीमारियों से दुनिया भर में 36 लाख लोगों की मौत

नई दिल्ली: ‘लांसेट रिस्पीरेटरी मेडिसिन’ मैग्जीन में ये दावा किया है कि दो आम क्रोनिक लंग...

दवाओं और चिकित्सकीय उपकरणों की कीमतों पर लगाम लगाने की मांग
दवाओं और चिकित्सकीय उपकरणों की कीमतों पर लगाम लगाने की मांग

नयी दिल्ली: नी रिप्लेसमेंट में लगने वाले आर्टिफिशियल अंगों के मूल्य तय किए जाने की सरकार की...

‘नी रिप्लेसमेंट’ के दामों में कटौती अच्छा कदम, अब गुणवत्ता पर भी ध्यान देने की जरूरत
‘नी रिप्लेसमेंट’ के दामों में कटौती अच्छा कदम, अब गुणवत्ता पर भी ध्यान देने...

नयी दिल्ली: आर्टिफिशियल नी इम्प्लांट सस्ते होने की सरकार की घोषणा का स्वागत करते हुए...

गुजरात में स्वाइन फ्लू से अब तक 230 की मौत
गुजरात में स्वाइन फ्लू से अब तक 230 की मौत

वडोदरा/अहमदाबाद: गुजरात में स्वाइन फ्लू यानि एच1एन1 वायरस से इंफेक्टेड होकर मरनेवालों की...

गोरखपुर में इन्सेफेलाइटिस वार्ड में एक और बच्चे की मौत
गोरखपुर में इन्सेफेलाइटिस वार्ड में एक और बच्चे की मौत

गोरखपुर: बाबा राघव दास मेडिकल कालेज से कल एक और बच्चे की मौत हो गयी. बच्चा मेडिकल कालेज के...

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017