बच्चों में कैंसर, यूं पता लग सकता है आसानी से

By: | Last Updated: Tuesday, 1 December 2015 6:39 AM
What are the most common types of childhood cancers

 

नई दिल्ली : देश में हर 10 मिनट में एक बच्चा कैंसर की गिरफ्त में आ रहा है. इस साल देश में कैंसर के 50,000 से अधिक मामले सामने आ चुके हैं.

 

बच्चों में मुख्य रूप से रक्त कैंसर, मस्तिष्क कैंसर, न्यूरोफ्लास्टोमा कैंसर के मामले अधिक देखने को मिलते हैं.

 

कैंसर इंस्टीट्यूट मेदांता में एसोसिएट सलाहकार डॉ. सुनील गुप्ता ने बताया, “छोटी उम्र के बच्चों में धूम्रपान एवं नशीले पदार्थो की लत के मामले बढ़ रहे हैं. इसके अलावा, औद्योगिक प्रदूषण, गर्भावस्था के दौरान विकिरण की जद में आने और आनुवांशिक रूप से भी मां-बाप से बच्चों में कैंसर के मामले बढ़े हैं. इस पर सिर्फ जागरूकता से ही रोकथाम लगाया जा सकता है.”

 

सुनील गुप्ता का कहना है कि भारत में हर साल 50,000 बच्चों का सफलतापूर्वक कैंसर का निदान किया जाता है. यदि समय पर कैंसर का पता चल जाए तो बचपन में होने वाले 70 से 95 प्रतिशत कैंसर के मामलों का इलाज आसानी से किया जा सकता है. देश में बच्चों में कैंसर के मामले चौंकाने वाले हैं.

 

बच्चों में कैंसर के बढ़ रहे मामलों को रोकने की जरूरत है, जिसे जागरूकता के जरिए समय पर सही इलाज से ही समाप्त किया जा सकता है.

 

बच्चों में होने वाले कैंसर के लक्षणों में शरीर में हीमोग्लोबिन की मात्रा कम होना, गर्दन, पेट-पीठ में गांठ का होना एवं आंख में सूजन आदि हैं. कैंसर रोग की जांच तकनीक ‘बायोप्सी’ से आसानी से कैंसर का पता लगाकर समय पर इसका इलाज करने से हजारों बच्चों को बचाया जा सकता है.

Health News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: What are the most common types of childhood cancers
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
First Published:

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017