अदालत ने आतंकी हमले की साजिश रचने के आरोपियों को बरी किया

By: | Last Updated: Thursday, 26 September 2013 10:51 AM

नई
दिल्ली:
दिल्ली की एक अदालत
ने आज पाकिस्तान के संगठन
हिजबुल मुजाहिदीन प्रमुख
सैयद सलाउददीन के इशारे पर
साल 2009 में स्वतंत्रता दिवस
से पूर्व आतंकवादी हमलों की
साजिश रचने के आरोपी हिजबुल
मुजाहिदीन के दो संदिग्ध
आतंकवादियों को बरी कर दिया.

 अतिरिक्त
सत्र न्यायाधीश अतुल कुमार
गर्ग ने जावेद अहमद और आशिक
अली भट्ट को बरी करते हुए कहा
कि पूरा मामला सुनियोजित था.

 अहमद
(35) और भट्ट (30) को दिल्ली पुलिस
ने दरियागंज इलाके से छह
अगस्त 2009 को हथियारों और
विस्फोटकों के जखीरे के साथ
गिरफ्तार किया था.

 दोनों
को खुफिया खबर के आधार पर उस
समय गिरफ्तार किया गया जब
उन्होंने दरियागंज में
महावीर वाटिका के पास अपनी
कार खड़ी की और अहमद आईएसडी
फोन करने गया.

 उन्हें
गैरकानूनी क्रियाकलाप
रोकथाम कानून, विस्फोटक
सामग्री कानून और शस्त्र
कानून के तहत सभी आरोपों से
बरी कर दिया गया.

 पुलिस का
आरोप था कि वे हमलों के लिए
सलाउददीन के निदेशों पर
पाकिस्तान से नेपाल होकर
भारत में घुसे और जम्मू से
दिल्ली चोरी की कार से आए थे.

 जांच
एजेंसी ने उनके पास से दो एके
47 राइफल, मैगजीन और हथगोले
बरामद करने का दावा किया था.

 उनके
वकील एमएस खान ने सुनवाई के
दौरान कहा था कि दोनों को
पुलिस द्वारा लोकप्रियता
हासिल करने और पदोन्नति के
लिए फंसाया गया और उनके किसी
आतंकवादी संगठन से संबंध
बताने वाले कोई सबूत नहीं
हैं.

 उन्होंने दिखाया था
कि जिस कार में उन पर जम्मू से
आने का आरोप लगा था, वह टोल
प्लाजा की एंट्री के अनुसार
किसी के द्वारा सुबह जम्मू
में चलाई जा रही थी और इसके
बाद इसे दिल्ली लाया गया और
फिर इसे आरोपी व्यक्तियों का
बताया गया.

India News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: अदालत ने आतंकी हमले की साजिश रचने के आरोपियों को बरी किया
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
First Published:

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017