अन्ना-रामदेव का साथ-साथ लड़ने का संकल्प

अन्ना-रामदेव का साथ-साथ लड़ने का संकल्प

By: | Updated: 20 Apr 2012 04:50 AM













गुड़गांव: योग गुरु बाबा
रामदेव और सामाजिक
कार्यकर्ता अन्ना हज़ारे ने
कहा है कि वे मजबूत लोकपाल
बिल और कालेधन की वापसी को
लेकर लड़ाई साथ-साथ लड़ेंगे.




सरकार के खिलाफ लड़ाई लड़ रहे
दोनों रहनुमाओं ने मंच साझा
करके मीडिया के सामने जो
बातें कहीं उसके मुताबिक
काले धन पर रामदेव का साथ
अन्ना और जनलोकपाल पर अन्ना
का साथ रामदेव देंगे.




दिलचस्प बात यह है कि
अन्ना-रामदेव के साझा प्रेस
कॉन्फ्रेंस में टीम अन्ना का
कोई सदस्य मौजूद नहीं था.





रामदेव ने मीडिया को संबोधित
करते हुए कहा कि वह कालेधन के
खिलाफ बड़े पैमाने पर आंदोलन
करने वाले हैं जिसकी शुरुआत
एक मई से की जाएगी.




हालांकि, दोनों एक मई से अपनी
लड़ाई अलग अलग शुरू करेंगे.
अन्ना हजारे एक मई से पूरे
महाराष्ट्र में 35 जगहों पर
सभा करेंगे, जबकि रामदेव
छत्तीसगढ़ में आंदोलन
करेंगे.




रामदेव ने कहा, "मैं मई महीने
में छत्तीसगढ़ के भीतर रैली
करूँगा और कालेधन के मुद्दे
पर लोगों में जागरुकता पैदा
करने का काम करुंगा."




इसके बाद दोनों नेता मिलकर
तीन जून को दिल्‍ली में
सांकेतिक आंदोलन करेंगे.
रामदेव के इस आंदोलन में
अन्ना शरीक रहेंगे.




बुजु़र्ग गांधीवादी का कहना
था कि वह आम चुनाव से पहले
पूरे देश में घूमकर लोगों को
जगाने का काम करेंगे, लेकिन
वो सरकार नहीं गिराना चाहते
हैं लेकिन अगर सरकार गिर जाए
तो भी इसकी परवाह नहीं है.




अन्ना ने कहा, "जो सरकार जनता
की नहीं सुनती वह गिर जाए तो
मुझे परवाह नहीं है."




जबकि बाबा रामदेव का कहना था
कि यूपीए सरकार को नैतिक आधार
पर सत्ता में बने रहने का
अधिकार नहीं है.




रामदेव ने साफ किया उनका और
अन्ना को कोई गुप्त एजेंडा
नहीं है और वे दोनों चाहते
हैं कि देश को एक मजबूत और
प्रभावी लोकपाल बिल मिले और
विदेशों में जमा कालेधन भी
वापस हो.




फटाफट ख़बरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर और डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App
Web Title:
Read all latest India News headlines in Hindi. Also don’t miss today’s Hindi News.

First Published:
Next Story मुंबई: बेबी मोशे के साथ नरीमन हाउस पहुंचे इजरायल के पीएम नेतन्याहू