अमित शाह को गिरफ्तार करने की मांग को लेकर कांग्रेस चुनाव आयोग पहुंची

अमित शाह को गिरफ्तार करने की मांग को लेकर कांग्रेस चुनाव आयोग पहुंची

By: | Updated: 05 Apr 2014 11:41 AM
नई दिल्ली: कांग्रेस ने आज चुनाव आयोग से अमित शाह को पश्चिमी उत्तर प्रदेश के दंगा प्रभावित जिलों में उनके ‘‘नफरत फैलाने वाले भाषणों’’ के लिए गिरफ्तार करने और उनके चुनाव प्रचार करने पर प्रतिबंध लगाने की मांग की . पार्टी ने यह भी आरोप लगाया कि नरेन्द्र मोदी और उनके सहयोगी गुजरात का ‘‘2002 का सांप्रदायिक खेल’’ पूरे देश में खेलने का प्रयास कर रहे हैं .

 

शाह पर ‘‘सांप्रदायिक आग को भड़काने’’ का आरोप लगाते हुए कांग्रेस ने चुनाव आयोग का दरवाजा खटखटाया और मांग की कि शाह के साथ ही भाजपा और उसके प्रधानमंत्री पद के उम्मीदवार मोदी के खिलाफ आदर्श चुनाव आचार संहिता के कथित उल्लंघन के लिए सख्त कार्रवाई की जाए.

 

कांग्रेस के कानूनी प्रकोष्ठ के सचिव के सी मित्तल ने शिकायत पत्र में भाजपा के उत्तर प्रदेश प्रभारी पर ‘‘समुदायों के बीच वैमनस्य पैदा’’ करने का आरोप लगाया.

 

पार्टी ने कहा कि अमित शाह ने जनप्रतिनिधित्व अधिनियम 1951 की धारा 125 के तहत अपराध किया है और यह अपराध तुरंत प्राथमिकी दर्ज किए जाने और इस अपराध में शामिल अन्य भाजपा कार्यकर्ताओं के साथ ही उनकी गिरफ्तारी की मांग करता है .

 

कांग्रेस प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने देश की सभी जातियों एवं संप्रदायों के लोगों से अपील की कि वे समाज में सांप्रदायिक भाईचारा को तोड़ने वाली इन ताकतों को इस चुनाव में माकूल सबक सिखाएं .

 

पश्चिमी उत्तर प्रदेश में चुनाव प्रचार के दौरान शाह ने मौजूदा चुनाव को पिछले साल मुजफ्फरनगर में हिंसा के दौरान हुए ‘‘अपमान का बदला लेने ’’ का अवसर बताया था . उन्होंने दो दिन पहले उत्तर प्रदेश में समुदाय के नेताओं की एक बैठक में कहा था, ‘‘ उत्तर प्रदेश में , खासतौर से पश्चिमी उत्तर प्रदेश में , यह सम्मान का चुनाव है . यह अपमान का बदला लेने का चुनाव है . यह अन्याय करने वालों को सबक सिखाने का चुनाव है .’’ भाजपा पर कड़ा हमला बोलते हुए सुरजेवाला ने कहा, कि नरेन्द्र मोदी एंड कंपनी एक बार देशभर में 2002 की गुजरात हिंसा के खेल को दोहराने की व्यूह रचना करने में लगी हैं .

 

सुरजेवाला ने कहा कि विपक्ष का ‘‘असली घोषणापत्र’’ चुनाव नजदीक आने के साथ ही खुलकर सामने आ गया है क्योंकि शाह और मोदी निचले दर्जे के प्रचार में लगे हैं .

 

उन्होंने कहा कि भाजपा को अब शायद घोषणापत्र जारी करने की आवश्यकता नहीं होगी . मोदी और उनके करीबी माने जाने वाले अमित शाह ने जाति और धर्म के आधार पर अपने नफरत भरे और विघटनकारी भाषणों से देश के लोगों को बांटने का प्रयास किया है .

 

सुरजेवाला ने कहा, हम राज्य सरकार और चुनाव आयोग से मांग करेंगे कि अमित शाह और मुजफ्फरनगर दंगों के आरोपी विधायक सुरेश राणा के खिलाफ आपराधिक मामला दर्ज किया जाये और उन्हें देश के किसी भी हिस्से में चुनाव प्रचार से रोका जाये . उनपर पूरा प्रतिबंध लगाया जाये .

फटाफट ख़बरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर और डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App
Web Title:
Read all latest India News headlines in Hindi. Also don’t miss today’s Hindi News.

First Published:
Next Story नागालैंड में पीएम मोदी ने फूंका चुनावी बिगुल, कहा- राज्य में मजबूत और स्थिर सरकार की जरूरत