अश्लील साइट्स पर रोक लगाए सरकार: एआईएमएसएस

अश्लील साइट्स पर रोक लगाए सरकार: एआईएमएसएस

By: | Updated: 15 May 2014 12:50 AM

लखनऊ: अश्लील वेबसाइट्स पर रोक लगाने के सम्बन्ध में सरकार की तरफ से अतिरिक्त महाधिवक्ता के.वी. विश्वनाथन के दिए गए बयान की महिला संगठन ऑल इण्डिया महिला सांस्कृतिक संगठन (एआईएमएसएस) ने निन्दा की है.

 

एआईएमएसएस की राष्ट्रीय महासचिव डॉ. एच.जी. जयलक्ष्मी ने कहा कि मीडिया में यह रिपोर्ट पढ़कर धक्का पहुंचा है, जिसमें सरकार की तरफ से अतिरिक्त महाधिवक्ता के.वी. विश्वनाथन ने अपने वक्तव्य में कहा है कि अश्लील वेबसाइट्स पर रोक लगा पाना बहुत ही कठिन है क्योंकि इस कदम से अन्य दूसरे ऐसे वेबसाइट्स भी प्रभावित हो जाएंगे जिनमें सामान्यत: उपयोग में आने वाले ऐसे शब्द इस्तेमाल किए गए होंगे जो इन अश्लील वेबसाइट्स में भी उपलब्ध होंगे.

 

उन्होंने बताया कि विश्वनाथन का यह कथन इंदौर के एक वकील कमल वासवानी द्वारा की गई अपील के सन्दर्भ में आया है, जिसमें इस बात का जिक्र किया गया था कि महिलाओं पर बढ़ते अपराधों के पीछे हजारों उत्तेजक अश्लील वेबसाइट्स की बहुत ही सहज उपलब्धता एक प्रमुख कारक है. उन्होंने इन साइट्स पर रोक लगाने की अपील की थी.

 

डॉ. जयलक्ष्मी ने कहा कि जब आईटी के क्षेत्र के तमाम विशेषज्ञों की राय है कि अश्लील साइट्स को अलग से या संस्थागत स्तर पर रोकना संभव है और व्यावहारिक रूप में तमाम देशों ने उन पर सफलतापूर्वक रोक लगा भी दी है, तो हमारे देश की सरकार को ऐसी नीति अपनाने में क्या दिक्कत है.

 

उन्होंने कहा कि देश के करोड़ों युवाओं को ऐसी अश्लीलता का शिकार होने से बचाने के लिए सरकार को ऐसे कदम स्वयं की पहल पर ही उठा लेने चाहिए, इस तरह की तर्कहीन व अविश्वसनीय दलील कठोर भर्त्सना के योग्य है.

 

हम सरकार से अपील करते हैं कि वह इसके लिए आवश्यक कानूनी प्रावधान बनाए और सभी अश्लील साइट्स पर रोक लगाने के लिए तत्काल कदम उठाए और अपनी युवा पीढ़ी को इसके अत्यधिक अमानवीय दुष्प्रभाव से बचाए.

फटाफट ख़बरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर और डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App
Web Title:
Read all latest India News headlines in Hindi. Also don’t miss today’s Hindi News.

First Published:
Next Story योगी आदित्यनाथ के चमत्कारी विधायक