असम में 19 मरे, कोकराझार में गोली मारने का आदेश

असम में 19 मरे, कोकराझार में गोली मारने का आदेश

By: | Updated: 23 Jul 2012 11:50 PM


गुवाहाटी: असम के
बोडोलैंड क्षेत्र के
कोकराझार और चिरांग जिलों
में हिंसा लगातार सोमवार को
भी जारी रही, जिसमें अब तक 19
लोग मारे जा चुके हैं. हिंसा
अब निचले असम जैसे नए इलाकों
में भी फैल गई है.




प्रशासन ने कोकराझार जिले
में दंगाइयों को देखते ही
गोली मारने का आदेश दे दिया
है. प्रशासन ने बिगड़ती
स्थिति को देखते हुए
कोकराझार जिले में देखते ही
गोली मारने का आदेश दे दिया
और कोकराझार और चिरांग जिलों
में रात का कर्फ्यू
अनिश्चितकाल के लिए लगा दिया
गया है.




कोकराझार जिले में 15 और
चिरांग जिले में चार लोगों की
मौत हुई है. दोनों जिलों में
पुलिस की सहायता के लिए सेना
बुलाई गई है.




बोडोलैंड टेरीटोरियल एरियाज
डिस्ट्रिक्ट (बीटीएडी) के
पुलिस महानिरीक्षक एसएन
सिंह ने कहा, "हमने कोकराझार
जिले में देखते ही गोली मारने
का आदेश दे दिया है. दोनों
जिलों में अनिश्चितकाल के
लिए रात का कर्फ्यू लगा दिया
गया है. अब तक 14 लोग कोकराझार
और चार लोग चिरांग में मारे
गए हैं."




उन्होंने कहा, "लोग अपने घरों
को छोड़कर राहत शिविरों में
शरण ले रहे हैं."




निचले असम के धुबरी जिले में
भी हिंसा फैल गई जिसकी वजह से
जिला प्रशासन को कुछ इलाकों
में रात का कर्फ्यू लगाना
पड़ा.




धुबरी के उपायुक्त के.सी.
कलिता ने कहा, "पांच पुलिस
स्टेशनों के अंतर्गत कुछ
संवेदनशील इलाकों में
कर्फ्यू लगा दिया गया है."




हिंसा के विरोध में ऑल
माइनॉरिटी स्टूडेंट्स
यूनियन (एएमएसयू) ने धुबरी
जिले में 24 घंटे के बंद का
आह्वान किया था.




हिंसा भड़कने से रोकने के लिए
राज्य सरकार ने ब्रह्मपुत्र
नदी के उत्तरी किनारे पर 10
राज्यों में अलर्ट जारी किया
था.




उधर, असम के वन मंत्री
रॉकीबुल हुसैन और खाद्य और
नागरिक आपूर्ति मंत्री
नजरूल इस्लाम सोमवार को
क्षेत्र का दौरा कर सकते हैं,
जबकि परिवहन मंत्री चंदन
ब्रह्मा पिछले दो दिन
क्षेत्र में ही डेरा डाले हुए
हैं.




असम सरकार की ओर से जारी बयान
के अनुसार, रविवार तक करीब 26,000
लोगों ने कोकराझार जिले में
बने 36 राहत शिविरों में शरण
ली.




फटाफट ख़बरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर और डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App
Web Title:
Read all latest India News headlines in Hindi. Also don’t miss today’s Hindi News.

First Published:
Next Story कुलभूषण जाधव मामला: भारत-पाकिस्तान को लिखित दलीलें जमा करने की समयसीमा तय