'आइटम गर्ल' कहने पर भड़के आप समर्थक तो चेतन भगत ने कुछ यूं दिया जवाब

By: | Last Updated: Friday, 24 January 2014 8:49 AM
‘आइटम गर्ल’ कहने पर भड़के आप समर्थक तो चेतन भगत ने कुछ यूं दिया जवाब

नई दिल्ली: अब आप के समर्थक मशहूर उपन्यासकार चेतन भगत से इतने नाराज हैं कि वह उन्हें गालियां दे रहे है हैं. आप के समर्थक चेतन भगत को अपशब्द कह रहे हैं. आज अपने फेसबुक पेज चेतन भगत ने ये सारी बातें बताई.

 

उन्होंने अपने फेसबुक पेज पर लिखा है कि अचानक पिछले दो दिनों से आप के खिलाफ अपने विचार को रखने की वजह से आप के समर्थक भड़क गये हैं. उन्होंने लिखा है कि जब वह आप की तारीफ करते थे तो वे लोग मुझे प्यार करते नहीं थकते थे वह अब मुझे बुरा आदमी और मूर्ख कह रहे हैं. मैंने उनकी खिलाफत इसलिए की है क्योंकि इससे मेरे इंडिया को नुकसान पहुंच रहा है.

 

उन्होंने आगे लिखा है कि गालियां मुझे परेशान नहीं करती हैं. चिंता मुझे इस बात की होती है कि आप में से कुछ ने कहा है कि वह मेरे किताब नहीं पढ़ेंगे. आगे मुझे फॉलो नहीं करेंगे, महज इसलिए कि ‘आप’ को कोई कर्कश फीडबैक नहीं दे? अब ये क्या हो रहा है? क्या मुझे वही कहना होगा जो भीड़ सुनना चाह रही है भले ही मेरे विचार कुछ और हों?

 

चेतन भगत ने सवाल उठाया कि यह दूसरे राजनेताओं से अलग कैसे है जो वोट के लिए कुछ भी करते हैं? सबसे महत्वपूर्ण बात यह है कि क्या हमारी और आपकी मित्रता शर्तों पर है? क्या मुझे डर जाना चाहिए कि आप मेरी किताबों को नहीं पढ़ेंगे, इसलिए जो मैं महसूस करता हूं उसे ना कहूं?

 

चेतन भगत ने जवाब देते हुए मार्मिकता के साथ लिखा है कि नहीं मित्रों ऐसा नहीं होगा. मैं अपने रास्ते पर चलूंगा. मैं आपके विचारों का सम्मान करता हूं तो आपको भी मेरे विचारों का सम्मान करना होगा. इसके बावजूद भी धिक्कारना, धमकाना या छोड़ना हो तो यह आपका अधिकार है. दिलों को तोड़ना चुप रहकर देश तोड़ने से बेहतर है.

 

आपको बता दें कि चेतन भगत ने दिल्ली में आम आदमी पार्टी के धरने के लिए इस नए राजनीतिक दल पर निशाना साधते हुए इसे ‘राजनीति की एक आइटम गर्ल’ कहा था.

 

भगत ने दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल और उनकी कैबिनेट के दो दिन के धरने की निंदा करते हुए कहा कि उनके इस तरह के कदम से वह ‘शर्मिंदा’ हो गए.

 

भगत ने से कहा, ‘आप ने सचमुच मुझे शर्मिंदा किया है. उनकी हरकतों से मैं शर्मिंदगी महसूस कर रहा हूं. अगर नफे नुकसान के हिसाब से इसका विश्लेषण करें , तो कुछ नहीं निकला.’ लेखक ने उल्लेख किया कि आम आदमी पार्टी के प्रदर्शन के बाद दो पुलिस अधिकारी छुट्टी पर भेज दिए गए लेकिन ‘पार्टी के कारण राजधानी ठहर गयी, पुलिस बल हतोत्साहित हुआ और कारोबारी भावनाएं कमजोर हुयी.’

 

उन्होंने कहा, ‘वे लोकसभा चुनावों में आने के लिए जल्दी में हैं. वे लगातार तवज्जो चाहते हैं और जैसा की बॉलीवुड में किसी अदाकारा को तवज्जो नहीं दी जाती तो वह आइटम गर्ल बन जाती है. वे भारतीय राजनीति के आइटम गर्ल हो गए हैं और आइटम गर्ल बहुत दूरी नहीं तय कर सकती.’