आखिर क्या है सरबजीत सिंह की पूरी कहानी?

By: | Last Updated: Wednesday, 1 May 2013 11:21 PM

नई
दिल्ली:
पंजाब के तरनतारन
जिले के भिखीविंड गांव के
रहनेवाले सरबजीत सिंह की
दर्दनाक कहानी शुरु होती है 28
अगस्त 1990 से.

इसी दिन शराब के नशे में
सरबजीत सिंह सीमा पार गए चले
गए जहां उन्हें पाकिस्तानी
सेना ने गिरफ्तार किया था.

सरबजीत
सिंह को रॉ का एजेंट बताते
हुए उन्हें लाहौर, मुल्तान और
फैसलाबाद बम धमाकों का आरोपी
बनाया गया. बाद में अक्टूबर 1991
में उन्हें फांसी की सजा
सुनाई गई.

सरबजीत सिंह के
पक्ष में उनके परिवार के साथ
साथ मानवाधिकार संगठन भी
सामने आए तब पता चला कि
सरबजीत के मामले में
पाकिस्तान सरकार ने कई
फर्जीवाड़े किए हैं.

पाकिस्तान
की अदालत में जो पासपोर्ट पेश
किया गया था उस पर नाम लिखा था
खुशी मोहम्मद का लेकिन
तस्वीर सरबजीत सिंह की लगाई
गई थी.

इसी तरह 2005 में
पाकिस्तानी ने एक वीडियो
जारी करके दावा किया कि
सरबजीत सिंह ने अपना जुर्म
कबूल लिया है, लेकिन 2005 तक
पाकिस्तान सरबजीत सिंह को
मंजीत सिंह कहता था.

2005 में
ही वो गवाह मीडिया के सामने
आया जिसने सरबजीत की पहचान की
थी, उसने मीडिया से साफ कहा कि
उस पर दबाव डालकर सरबजीत के
खिलाफ बयान दिलवाया गया था.

लेकिन
इन फर्जीवाड़े के बावजूद एक
अप्रैल 2008 को सरबजीत को फांसी
दिए जाने की तारीख तय कर दी गई
थी, हालांकि कूटनीतिक
प्रयासों के बाद उनकी फांसी
अनिश्चितकाल के लिए टल गई.

जून
2012 में पाकिस्तानी मीडिया में
खबर आय़ी कि सरबजीत को रिहा
किया जा रहा है लेकिन यह खबर
अफवाह साबित हुई. दरअसल
पाकिस्तान सरकार ने सरबजीत
के बदले सुरजीत की रिहाई का
आदेश दिया था.

तब से देश
उम्मीद लगाए बैठा कि सरबजीत
सिंह रिहा होकर वापस आएंगे
लेकिन आखिर में आयी उनकी मौत
की खबर. 26 अप्रैल को लाहौर के
कोट लखपत जेल में उनपर जो
हमला हुआ वो जानलेवा साबित
हुआ.

जिस सरबजीत सिंह को
पाकिस्तान कभी मंजीत सिंह तो
कभी खुशी मोहम्मद तो कभी
सरबजीत सिंह का नाम देकर
जुल्म करता रहा वो सरबजीत
सिंह जीते जी फिर अपने देश
वापस नहीं लौट पाए.

India News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: आखिर क्या है सरबजीत सिंह की पूरी कहानी?
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
First Published:

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017