आठवें चरण में 64 सीटों के लिए मतदान आज, जानें क्यों अहम है ये चरण

By: | Last Updated: Tuesday, 6 May 2014 4:19 PM

नई दिल्ली. 16वीं लोकसभा चुनाव के आठवें दौर के चुनाव में कुल 64 सीट पर वोट डाले जाएंगे. इसके बाद सिर्फ 41 सीटों पर मतदान बच जाएगा. इस सीट पर कई बड़े नामों की किस्मत का फैसला होना है.

 

क्यों अहम है आठवां दौर

 

लोकसभा चुनाव के इस दौर में सबसे ज्यादा सीटें आंध्र प्रदेश में दांव पर लगी हैं. यहां कुल 25 लोकसभा सीटों और 175 विधानसभा सीटों पर मतदान होना है. 2 जून को होने वाले बंटवारे से पहले अविभाजित आंध्र प्रदेश में ये आखिरी चुनाव है. आंध्र का ये वो इलाका है जिसे रायलसीमा या समांध्र के नाम से जाना जाता है. पिछली बार कांग्रेस ने पूरे आंध्र प्रदेश में शानदार प्रदर्शन किया था. अब सवाल ये है क्या कांग्रेस पिछली सीटें वापिस हासिल कर पाएगी. चंद्रबाबू नायडू की टीडीपी पिछले दस साल से सत्ता से बाहर है और जगन मोहन की वाईएसआर कांग्रेस के लिए ये पहला इम्तिहान होगा. लोकसभा के लिए जो अहम हस्तियां यहां से मैदान में हैं उनमें शामिल हैं एन टी रामाराव की बेटी और पूर्व केंद्रीय मंत्री डी पुरंदेश्वरी. केंद्रीय मानव संसाधन विकास मंत्री पल्लम राजू, केंद्रीय पेट्रोलियम राज्यमंत्री पी. लक्ष्मी.

 

देश की निगाहें उत्तर प्रदेश पर भी लगी हैं जहां 15 सीटों पर चुनाव है. मोदी लहर की असली परीक्षा इन सीटों पर ही होगी क्योंकि 2009 में इन 15 में से सात पर कांग्रेस, पांच पर बीएसपी और तीन पर एसपी जीती थी. बीजेपी को यहां एक भी सीट नहीं मिली थी. इस बार जिन सीटों पर निगाह होगी उनमें अहम है अमेठी. जहां कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी के मुकाबले में है आप के कुमार विश्वास और बीजेपी की स्मृति ईरानी. इसी तरह अमेठी के साथ की सीट सुल्तानपुर पर पूर्व केंद्रीय मंत्री संजय सिंह की पत्नी अमिता सिंह के मुकाबले में बीजेपी के वरुण गांधी लड़ रहे हैं.

 

बिहार की सात सीटों पर वोट डाल जाएंगे. 2009 में एनडीए ने इन सात लोकसभा सीटों में से पांच सीटों पर कब्जा जमाया था. जेडीयू ने चार सीटों पर कब्जा किया था. इस बार समीकरण बदल गए हैं पासवान एनडीए में है और जेडीयू बाहर. राम विलास पासवान हाजीपुर से मैदान में है. जबकि सारण से राबड़ी देवी मैदान में हैं उऩ्हें टक्कर दे रहे हैं बीजेपी के राजीव प्रताप रूडी जो पिछली बार विजेता थे. 

 

इस चरण में पहाड़ी राज्यों में भी चुनावी गर्मी का असर है. उत्तराखंड और हिमाचल की सभी सीटों पर चुनाव है. उत्तरांखड में 2009 में सभी पांच सीटों पर कांग्रेस जीती थी उत्तराखंड के तीन पूर्व मुख्यमंत्री भुवनचंद्र खंडूड़ी , रमेश पोखरियाल निशंक और बीसी कोशियारी भी चुनाव मैदान में हैं. मुख्यमंत्री हरीश रावत की पत्नी रेणुका रावत पर भी निगाहें लगी रहेंगी.

हिमाचल की सभी चार सीटों पर चुनाव है पिछली बार तीन बीजेपी के पास और एक कांग्रेस के पास थी. इस बार भारतीय जनता युवा मोर्चा के प्रमुख अनुराग ठाकुर, आप की तरफ से शहीद विक्रम बत्रा की मां कमलकांत, कांगड़ा से बीजेपी के शांताकुमार और मंडी से मुख्यमंत्री वीरभद्र की पत्नी प्रतिभासिंह पर निगाहें लगी रहेंगी.

 

जम्मू कश्मीर की दो सीटों पर भी मतदान है. जबकि पश्चिम बंगाल में 6 सीटों पर वोट डाल जाएंगे. अभिनेत्री मुनमुन सेन तृणमूल कांग्रेस तो पा र्श्वगायक बाबुल सुप्रियो भाजपा के टिकट पर चुनाव लड़ रहे हैं.

 

लोकसभा चुनाव के इस आठवें चरण में कुल 64 सीटों पर 897 प्रत्याशियों की किस्मत का फैसला होना है.  2009 में इन 64 सीटों में यूपीए को 35, एनडीए को आठ और अन्य को 21 सीटें मिली थीं .

India News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: आठवें चरण में 64 सीटों के लिए मतदान आज, जानें क्यों अहम है ये चरण
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
और जाने: ele2014
First Published:

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017