आतंकियों के लिए बिहार की धरती स्वर्गभूमि बन गई है: नरेंद्र मोदी

By: | Last Updated: Monday, 3 March 2014 4:41 AM

नई दिल्ली: आज बिहार के मुजफ्फरपुर में पीएम पद के बीजेपी उम्मीदवार नरेंद्र मोदी की रैली को संबोधित कर रहे हैं. मंच पर मोदी के साथ लोक जनशक्ति पार्टी के अध्यक्ष रामविलास पासवान के साथ ही राष्ट्रीय लोक समत पार्टी (आरएलएसपी) के उपेंद्र कुशवाहा, और जेडीयू से आए जय नारायण निषाद भी मौजूद हैं. पिछले साल पटना के गांधी मैदान में मोदी की हुंकार रैली के दौरान हुए बम ब्लास्ट के बाद मोदी की यह पहली रैली है.

 

LIVE: क्या बोल रहे हैं मोदी-
 

इस लाइन के साथ मोदी ने अपने भाषण को खत्म किया-

-सौगंद मुझे इस मिट्टी को मैं देश नहीं मिटने दूंगा

सौगंद मुझे इस मिट्टी को मैं देश नहीं  लूटने दूंगा

मेरी धऱती मुझेसे पूछ रही, कब मेरा कर्ज चुकाओगे

मेरा अँबर पूछ रहा कब अपना फर्ज निभाओगे

मेरा वचन है भारत मां को तेरा शीष नहीं झुकने दूंगा

सौगंद मुझे इस मिट्टी को मैं देश नहीं मिटने दूंगा

 

-मोदी कहता है महंगाई रोको,  वो कहते हैं मोदी रोको

मोदी कहता है अत्याचार रोको, वो कहते हैं मोदी रोको

मैं कहता हूं अन्याय रोको, वो कहते हैं मोदी रोको

विकास करना है, वो कहते है देश का विनाश करना है, यह निर्णय जनता को करना है.
 

-मैं इरादा लेकर आया हूं, हिंदुस्तान में कोई ऐसा नागरिक ना हो जिसे रहने के लिए छत ना हो. हम हर व्यक्ति के लिए घर बनाना चाहते हैं. ऐसा घर जिसमें शौचालय, पानी, बिजली हो. यह एनडीए और बीजेपी का सपना है.

-हमारे देश में पहले एक फैशन था, कोई बात हो तो बोलते थे तो कहते थे विदेशी शक्तियों का हाथ है. लेकिन पिछले कुछ सालों से थोड़ा बदल गया है अब यह फैशन है- सेक्युलरिज्म. रोजगार चाहिए, मंहगाई ज्यादा है, खाना नहीं, किसान परेशान है तो हर बात पर कहते हैं कि सेक्युलरिज्म खतरे में है.

-कुछ लोग खुद को गरीबों का मसीहा कहते हैं. पिछले 40 साल से 20सूत्रीय कार्यक्रम चलता है. सभी सरकारें इससे जुड़ी हुई हैं. पूरे हिंदुस्तान में बीजेपी की सरकारे हैं जो इस कार्यक्रम के इंप्लीटेशन में अव्वल रही हैं. कांग्रेस को इसमें कोई रूचि ही नहीं है. गरीबों का भला बीजेपी की प्राथमिकता है.

– आतंकवाद इस देश को तबाह कर रहा है. दुनिया के किसी भी कोने में मानवता का विरोधी है. नेपाल की सीमा आज संकट का कारण बनी हुई है. आतंकियों को छिंकने के लिए बिहार स्वर्गभूमि लगने लगी है. बिहार आतंकियों के लिए कठोर रवैया अपनाने को तैयार नहीं है. आतंकवाद के खिलाफ लड़ने के लिए देश को एक संकल्प होना चाहिए. 


-आप मुझे बताइए बिहार की वर्तमान सरकार आपको रोजगार दे सकती है? क्या रोजगार के बिना जीवन चल सकती हैं? 2012 में आठ लाख पचास हजार लोगों ने बेरोजगारों के दफ्तर में अपने नाम दर्ज कराए. इतने बेरोजगारों में से सिर्फ दो हजार लोगों को नौकरी दी. जिन्हें नौजवानों की परवाह नहीं वह आने वाली पीढ़ी का भला नहीं कर सकती.
 

-सिर्फ 23 फीसदी लोगों के पास शौचालय है, सिर्फ 16 फीसदी लोगों को बिजली मिलती है, मोबाईल फोन है लेकिन चार्ज करने के लिए दूसरे गांव  जाना पड़ता है. बिहार में बिजली जाती है ये खबर नहीं है, बिजली आना एक खबर है लेकिन गुजरात में इसके उलट हैं,

-आज भी हमारी माता-बहनों को शौचालय दिन के उजाले में नहीं जा सकती हैं, उन्हें रात के अंधेरे का इंतजार करना पड़ता है, आजादी के इतने साल बाद कम से कम मां-बहनों को शौचालय मिलना चाहिए या नहीं. मुझे बहुत पीड़ा होती है यह देखकर.

-थर्ड फ्रंट वाले देश की राजनीति बिगाड़ सकते हैं.

-कांग्रेस ने कभी अपने वादों को निभाया नहीं. जनता गलतियों को माफ करती हैं लेकिन हिपोक्रेसी को माफ नहीं करती है.

-एनडीए का मतलब है- नेशनल डेवलेपमेंट एलायंस.  मैं रामविलास पासवान, उपेंद्र कुशवाहा और कैप्टन निषाद का स्वागत करता हूं अपने परिवार में. यह परिवार अब बढ़ता ही जाएगा.

 

-मैं जहां भी जाता हूं देश की समस्याओं के हल को ढ़ूढ़ने की कोशिश करता हूं. मेरे विरोधी मोदी का हल ढ़ूढ़ते हैं. इसलिए ये मानसिकता कभी देश का भला नहीं कर सकती. एनडीए  देश का विकास कर रहा है.

-जब एनडीए की सरकार थी अटल बिहारी वाजपेयी हमारे प्रधानमंत्री के रूप में मैथिली भाषा को संविधान में देकर उसका सम्मान बढ़ाया था. यह हुंकार किसी को नीचा दिखाने के लिए नहीं है. यह हमारे अधिकारों के लिए आवाजा है. यह हुंकार देश पर राजनीतिक परिवर्तन की आकांक्षाओं को लेकर आया है, यह हुंकार बुराईयों से मुक्ति के लिए है.
 

– पटना में पिछले साल हुई बम धमाकों नेदेश को लूहुलुहान किया. यह राजनीतिक द्वेष का नतीजा था. भाजपा को सुरक्षा मिले या ना मिले लेकिन बेगुनाह नागरिकों को क्यों मारा जा रहा है. आखिर मरने वाले भी तो मेरे ही बिहार के भाई बहन थे. लेकिन वोट बैंक की राजनीति में डुबे हुएलोग इस दर्द को नहीं समझ सकते.

 

-ऐसी विचार धारा, ऐसे राजनेताओं से जितनी जल्दी मुक्ति मिलेगी, उतनी जल्दी देश का भला होने वाला है.

 

बिहार बीजेपी के नेता पासवान को लेकर नाराज-
इस रैली में बिहार बीजेपी के नेता गए गिरिराज सिंह, सीपी ठाकुर, अश्विनी चौबे और चंद्रमोहन राय नहीं पहुंचे हैं. पासवान के एनडीए में शामिल होने से इन नेताओं ने नाराज़गी जताई है. अश्विनी चौबे, गिरिराज सिंह और चंद्रमोहन राय अपने लिए और सीपी ठाकुर अपने बेटे के लिए लोकसभा टिकट चाहते हैं, इसलिए रामविलास पासवान के खिलाफ नाराज़गी दिखा रहे हैं.

सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम-

रैली स्थल पर मंच को आकर्षक तरीके से सजाया गया है और सुरक्षा के पुख्ता प्रबंध किए गए हैं. रैली को लेकर रविवार शाम से ही लोग मुजफ्फरपुर पहुंचने लगे हैं. रैली में करीब चार लाख लोग शामिल होंगे.

 

रैली को लेकर सुरक्षा के तगड़े प्रबंध किए गए हैं. पुलिस के एक अधिकारी ने बताया कि रैली को लेकर हाई आलर्ट घोषित कर दिया गया है. मुजफ्फरपुर, पटना और दरभंगा मंडल और गुजरात पुलिस के करीब पांच हजार जवानों को सुरक्षा के लिए लगाया गया है.

 

उल्लखनीय है कि पिछले वर्ष पटना के गांधी मैदान में मोदी की हुंकार रैली के दौरान आतंकवादियों द्वारा किए गए सिलसिलेवार विस्फोट में छह लोगों की मौत हो गई थी. इसलिए पुलिस सुरक्षा व्यवस्था में किसी तरह की लापरवाही नहीं चाहती.

India News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: आतंकियों के लिए बिहार की धरती स्वर्गभूमि बन गई है: नरेंद्र मोदी
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
First Published:

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017