आरजेडी ने किया चुनावी घोषणापत्र जारी, अल्पसंख्यक और पिछडी जाति को रिझाने की कोशिश

आरजेडी ने किया चुनावी घोषणापत्र जारी, अल्पसंख्यक और पिछडी जाति को रिझाने की कोशिश

By: | Updated: 06 Apr 2014 04:14 PM
पटना: आसन्न लोकसभा चुनाव को लेकर आज किए गए अपने चुनावी घोषणापत्र में राजद ने अल्पसंख्यक और पिछडी जाति के लोगों के लिए कई घोषणाएं कर उन्हें रिझाने की कोशिश है.

 

राजद सुप्रीमो लालू प्रसाद ने आज अपनी पार्टी का चुनावी घोषणापत्र जारी करते हुए कहा कि बिहार में ठेके पर बहाली को समाप्त करने तथा संविदा पर बहाल शिक्षकों, आंगनबाडी सेविकाओं, सहायक, कम्प्युटर ऑपरेटर, चालक, अभियंता, चिकित्सक, होमगार्ड और अन्य लोगों को नियमित किया जाएगा.

 

राजद ने अपने चुनावी घोषणापत्र में अल्पसंख्यकों को नौकरी में आरक्षण और सरकारी एवं अर्धसरकारी संस्थानों में शिक्षण में मौका उपलब्ध कराने का वादा किया है.

 

लालू ने कहा कि अल्पसंख्यकों को नौकरी में आरक्षण और सरकारी एवं अर्ध-सरकारी संस्थानों में शिक्षण में मौका उपलब्ध कराए जाने के अलावा वे दलित मुसलमानों और दलित इसाईयों को अनुसूचित जाति का दर्जा दिए जाने के लिए अनुच्छेद 341 में बदलाव सुनिश्चित करेंगे.

 

राजद के चुनावी घोषणा पत्र में अल्पसंख्यकों के लिए सच्चर कमेटी और रंगनाथ मिश्र आयोग की अनुशंसाओं को लागू करने का वादा किये जाने के साथ निजी स्कूलों में अनिवार्य रूप से उर्दू शिक्षकों की बहाली और अल्पसंख्यकों के उचित प्रतिनिधित्व के साथ दंगा रोधी बल का गठन की बात कही गयी है.

 

राजद के चुनावी घोषणापत्र में देश की विभिन्न आतंक रोधी एजेंसियों द्वारा मुस्लिम युवाओं की गिरफ्तारी के मामले के जिक्र के बारे में लालू ने कहा कि आतंक के नाम पर जेल में बंद मुस्लिम युवा के मामलों की समीक्षा की जाएगी तथा उन्हें न्याय मिल सके इसके लिए प्रयास किए जाएंगे.

 

राजद ने अपने चुनावी घोषणापत्र में पिछडे और अति पिछडे समुदाय के लोगों को निजी क्षेत्रों और न्यायिक सेवा में आरक्षण दिए जाने की बात कही है. राजद के चुनावी घोषणापत्र में अनुसूचित जाति एवं जनजाति समुदाय के विकास के लिए राज्य में ‘अनुसूचित जाति एवं जनजाति प्राधिकार’ के गठन की बात करते हुए महिलाओं को भी आरक्षण देने का वादा किया है.

 

राजद सुप्रीमो लालू प्रसाद ने कहा कि राजद महिलाओं को आरक्षण दिए जाने के पक्ष में है. हम इसका विस्तार जनसंख्या के अनुपात में विभिन्न जातियों और समुदायों की महिलाओं में किए जाने में विश्वास रखते हैं.

 

राजद के चुनावी घोषणापत्र में ठेके पर कर्मचारियों की बहाली को समाप्त किए जाने की बात को बुलंद आवाज में पढते हुए पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष रामचंद्र पूर्वे ने कहा कि हमारे नेता लालू यादव ने अपने भाषणों में अक्सर कहा है कि अपनी उचित मांगों को उठाने वाले ठेके पर बहाल जिन कर्मचारियों को मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने पिटावाया है उनकी सेवा नियमित की जाएगी. बिहार में ठेके पर बहाली की प्रथा नहीं रहेगी.

 

राजद ने अपने चुनावी घोषणापत्र में राज्य में शराब की बिक्री को क्रमबद्ध ढंग से प्रतिबंधित करने की बात कही है. बिहार में पिछले कुछ वषरे के दौरान पांच हजार लाईसेंसी दुकानों से शराब की बिक्री की आलोचना होती रही है.

 

अपने चुनावी घोषणापत्र में राजद ने किसानों और गरीबी रेखा से नीचे जीवन यापन करने वालों को मुफ्त बिजली उपलब्ध कराने के साथ किसानों को उनके उत्पाद का लाभकारी मूलय दिलाने का वादा किया है.

 

राजद ने अपने चुनावी घोषणापत्र में राष्ट्रीय युवा नीति बनाने के लिए युवा आयोग के गठन तथा युवाओं के लिए रोजगार का अधिकार अधिनियम बनाये जाने की बात करते हुए सर्वेक्षण कराकर प्रत्येक परिवार में कम से कम एक सदस्य को नौकरी अथवा स्वनियोजन का अवसर उपलब्ध कराने का वादा किया है.

फटाफट ख़बरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर और डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App
Web Title:
Read all latest India News headlines in Hindi. Also don’t miss today’s Hindi News.

First Published:
Next Story गोरखपुर: जानिए कौन हैं सीएम योगी की सीट पर प्रत्याशी उपेंद्र दत्त शुक्ला