एक अप्रैल से नहीं बढ़ेगी गैस की कीमत, केजरीवाल ने कहा-मुद्दा अभी खत्म नहीं हुआ है

एक अप्रैल से नहीं बढ़ेगी गैस की कीमत, केजरीवाल ने कहा-मुद्दा अभी खत्म नहीं हुआ है

By: | Updated: 24 Mar 2014 05:16 PM
नई दिल्ली. एक अप्रैल से गैस के दाम नहीं बढ़ेंगे. चुनाव आयोग ने एक अप्रैल से गैस दाम बढ़ाने के सरकार के फैसले पर रोक लगा दी है. चुनाव आयोग के इस फैसले से सीएनजी और पीएनजी के दाम बढ़ने का खतरा फिलहाल टल गया है.

 

चुनाव से पहले राहत की खबर दी है चुनाव आयोग ने. अब एक अप्रैल से प्राकृतिक गैस के दाम नहीं बढ़ेंगे. चुनाव आयोग ने सरकार की चिट्ठी के बाद एक अप्रैल से गैस के दाम बढ़ाने के फैसले पर रोक लगा दी है. पेट्रोलियम मंत्रालय ने चुनाव आयोग से पूछा था कि एक अप्रैल से गैस के दाम बढ़ने पर आपको कोई एतराज तो नहीं है. इसके जवाब में चुनाव आयोग ने अपने आदेश में कहा है कि अप्रैल से जून 2014 की तिमाही में गैस के दाम को लेकर जारी अधिसूचना पर 14 मार्च 2014 को जो आपने चिट्ठी भेजी उसमें उठाए गए मुद्दों पर सभी जरूरी तथ्यों के मुताबिक विचार किया गया. इसके अलावा ये मामला सुप्रीम कोर्ट में है, ये ध्यान में रखते हुए आयोग ने ये फैसला किया है कि उस प्रस्ताव को टाला जा सकता है.

 

 

चुनाव आयोग के फैसले पर एबीपी न्यूज से केजरीवाल ने कहा है कि गैस की कीमत का मुद्दा खत्म नहीं होगा. केजरीवाल ने ट्विटर पर लिखा है कि चुनाव के बाद कांग्रेस सरकार में आई तो कीमत आठ डॉलर होगी, बीजेपी सत्ता में आई तो सोलह डॉलर. आप चाहती है चार डॉलर हो. अब जनता को फैसला करना है कि किसे चुनें. मोदी और राहुल दोनों अंबानी के लिए गैस की ऊंची कीमतों का समर्थन कर रहे हैं. सिर्फ आप में अंबानी से मुकाबला करने की हिम्मत है.

 

 

इससे पहले केजरीवाल मोदी से मुकाबले के लिए जनता की राय जानने वाराणसी रवाना हो गए. केजरीवाल ने वाराणसी जाने से पहले वो चिट्ठी पेश की जो वो वाराणसी की जनता में बांटेगें. केजरीवाल ने चिट्ठी में मोदी के खिलाफ चुनाव लड़ने की वजह बताई है और इसमें गैस की बढ़ने वाली कीमतों का भी जिक्र है.

 

केजरीवाल ने लिखा है कि फिलहाल केंद्र सरकार ने आदेश पारित कर दिए हैं कि 1 अप्रैल 2014 से मुकेश अंबानी को आठ डॉलर प्रति यूनिट के हिसाब से गैस के दाम दिए जाएंगे. कहा जा रहा है कि मुकेश अंबानी को इससे सालाना 54 हजार करोड़ का नाजायज फायदा होगा. 1 अप्रैल से देश के अंदर त्राहि-त्राहि मच जाएगी. सीएनजी के रेट बढ़ जाएंगे. पूरे देश में यातायात महंगा हो जाएगा. इसी गैस से देश में बिजली-खाद का उत्पादन होता है जो महंगी हो जाएंगी.

 

खाने-पीने की चीज बनती है जो महंगी हो जाएंगी. मैंने फरवरी में मोदीजी को चिट्ठी लिखकर पूछा कि यदि आप प्रधानमंत्री बन गए तो आप मुकेश अंबानी को गैस का क्या रेट देंगे. आज तक उनका जवाब नहीं आया. बाद में पता चला कि वो जवाब इसलिए नहीं दे रहे क्योंकि उन्होंने खुद केंद्र सरकार को चिट्ठी लिखकर गैस के दाम सोलह डॉलर प्रति यूनिट करने की मांग की है. यानी मोदी जी एक डॉलर की चीज के मुकेश अंबानी को सोलह डॉलर प्रति यूनिट देना चाहते हैं. आखिर क्यों.. तो कीमतें वोट डालने से पहले ही बढ़ जाएंगी. हो सके तो मोदी जी को वोट डालने से पहले एक बार जरूर सोच लीजिएगा क्योंकि उसके बाद सोचना भी महंगा पड़ेगा.

 

हालांकि केजरीवाल के वाराणसी पहुंचने से पहले ही गैस के दाम पर फैसला रोक दिया गया है. अब नजर इस बात पर होगी कि केजरीवाल आयोग को फैसले को वाराणसी में कैसे भुनाते हैं.

फटाफट ख़बरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर और डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App
Web Title:
Read all latest India News headlines in Hindi. Also don’t miss today’s Hindi News.

First Published:
Next Story बरेली: शादी वाले दिन ही ट्रेन से कट कर दूल्हे की मौत, परिवार में कोहराम