एक के बाद एक विवादों से बीजेपी में हड़कंप: मोदी का समर्थकों से ‘हर-हर-मोदी’ नारे का इस्तेमाल नहीं करने का अनुरोध

By: | Last Updated: Sunday, 23 March 2014 2:43 PM
एक के बाद एक विवादों से बीजेपी में हड़कंप: मोदी का समर्थकों से ‘हर-हर-मोदी’ नारे का इस्तेमाल नहीं करने का अनुरोध

अहमदाबाद: द्वारका पीठ के शंकराचार्य स्वरूपानंद सरस्वती और विपक्षी दलों के ‘‘हर हर मोदी’’ नारे पर आपत्ति जताये जाने के बाद प्रधानमंत्री पद के लिए भाजपा के उम्मीदवार नरेंद्र मोदी ने आज अपने समर्थकों से इसका इस्तेमाल नहीं करने की अपील की.

 

मोदी ने सोशल वेबसाइट ट्विटर पर लिखा, ‘‘कुछ उत्साही समर्थक ‘‘हर हर मोदी’’ नारे का इस्तेमाल कर रहे थे. मैं उनके उत्साह का सम्मान करता हूं लेकिन उनसे अनुरोध करता हूं कि वे भविष्य में इस नारे का इस्तेमाल नहीं करें.’’

 

द्वारका पीठ के शंकराचार्य स्वरूपानंद सरस्वती ने इस नारे पर आपत्ति जतायी थी और राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) प्रमुख मोहन भागवत से कड़ा विरोध दर्ज कराकर उनसे ऐसी ‘‘व्यक्तिपूजा’’ रोकने को कहा था.

 

शंकराचार्य इस बात को लेकर नाखुश थे कि भगवान शिव की जयजयकार करने के लिए इस्तेमाल पारंपरिक उद्घोष ‘‘हर हर महादेव’’ को ‘‘परिवर्तित’’ करके उत्तर प्रदेश की वाराणसी लोकसभा सीट से चुनाव लड़ रहे मोदी के प्रचार को ‘‘चमकाने’’ के लिए उसे ‘‘हर हर मोदी’’ कर दिया गया. मोदी वाराणसी के अलावा अपने गृह राज्य वडोदरा से भी चुनाव लड़ रहे हैं.

समाजवादी पार्टी और कांग्रेस जैसे राजनीतिक दलों ने भाजपा के नारे ‘हर हर मोदी, घर घर मोदी’ के खिलाफ यह कहते हुए विरोध किया था इससे भगवान शिव का अपमान होता है. केंद्रीय मंत्री सलमान खुर्शीद ने भी नारे का कड़ा विरोध किया और चुनाव आयोग से इस पर संज्ञान लेने का अनुरोध किया.

 

स्वरूपानंद ने आज पीटीआई से कहा, ‘‘इसकी जानकारी होने पर मैंने कल भागवत को फोन किया और उनसे ऐसी जयजयकार रोकने के लिए कहा जो कि भगवान शिव का अपमान है. मैंने उनसे कहा कि ‘‘हर हर महादेव’’ का ‘हर हर मोदी’ के रूप में ‘‘परिवर्तन’’ बंद होना चाहिए. भगवान की पूजा करने की बजाय यह एक विशेष मनुष्य को पूजने का एक प्रयास है और यह हिंदू धर्म के खिलाफ है.’’ शंकराचार्य ने कहा कि उनके पास श्रद्धालुओं के बड़ी संख्या में फोन कॉल आ रहे थे जो कि ऐसे नारेबाजी से बहुत आहत हैं.

 

भागवत ने अपने जवाब में दावा किया कि संघ हमेशा से ही व्यक्तित्व पूजा के खिलाफ रहा है. उन्होंने यह भी दावा किया कि ऐसी नारेबाजी कुछ समर्थकों के अतिउत्साह के चलते होती है और यह भाजपा का जानबूझकर किया गया प्रयास नहीं है.’’ मोदी द्वारा समर्थकों से नारे का इस्तेमाल नहीं करने वाले ट्विट के बाद स्वामी स्वरूपानंद से सम्पर्क किये जाने पर उनके शिष्य ब्रह्मविद्यानंद ने पीटीआई से फोन पर कहा, ‘‘महाराज जी मोदी के कदम का स्वागत करेंगे.’’ उन्होंने साथ ही यह भी स्पष्ट किया कि शंकराचार्य कोई टिप्पणी नहीं करेंगे.

 

India News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: एक के बाद एक विवादों से बीजेपी में हड़कंप: मोदी का समर्थकों से ‘हर-हर-मोदी’ नारे का इस्तेमाल नहीं करने का अनुरोध
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
First Published:

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017