एबीपी न्यूज़-नीलसन सर्वे: मोदी के मैजिक से उखड़ सकती है यूपीए सरकार, खिल उठेगा कमल

By: | Last Updated: Saturday, 25 January 2014 3:31 PM

नई दिल्ली: लोकसभा चुनावों की उल्टी गिनती शुरू हो चुकी है. सभी राजनीतिक पार्टियों ने चुनाव के लिए कमर कस ली है, लेकिन एबीपी न्यूज़-नीलसन के सर्वे से जो आंकड़े निकल रहे हैं उससे सत्ताधारी यूपीए यानी संयुक्त प्रगतिशील गठबंधन सरकार में खलबली मचना लाज़मी है.

 

एबीपी न्यूज़-नीलसन सर्वे के मुताबिक अगर अभी चुनाव हुए तो नरेंद्र मोदी के मैजिक के सहारे बीजेपी सबसे बड़ी पार्टी के तौर पर उभरेगी, साथ ही एनडीए यानी राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन सबसे बड़ा गठबंधन होगा, जबकि कांग्रेस के साथ ही यूपीए का डिब्बा गोल हो जाएगा.

 

सर्वे के मुताबिक लोकसभा की 543 सीटों में से बीजेपी 210 सीटें जीत सकती है जबकि कांग्रेस को सिर्फ 81 सीटें मिलेंगी. बड़े शहरों में शोर के बावजूद केजरीवाल की आम आदमी पार्टी 11 सीटें ही जीत पाएगी.

 

इस तरह एनडीए 226 सीटें जीतकर बीते दस साल से सत्तासीन यूपीए सरकार को उखाड़ फेंक सकती है. लेकिन बहुमत के जादुई आंकड़े से वह फिर भी दूर रह जाएगी. यूपीए महज़ 101 सिटों पर सिमट जाएगी.

 

लेफ्ट पार्टियां 30 सीटें जीत सकती हैं, जबकि दूसरी अन्य पार्टियों की झोली में 186 सीटें जा सकती हैं.

 

 

बतौर पीएम मोदी हैं पहली पसंद

 

एबीपी न्यूज़-नीलसन सर्वे के मुताबिक ऐसा लगता है कि जनता के बीच मोदी पीएम के सबसे प्रबल दावेदार हैं. 53 फीसदी जनता उन्हें बतौर पीएम देखना चाहती है, जबकि 15 फीसदी जनता की पसंद राहुल हैं. दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल को पांच फीसदी जनता पसंद कर रही है. 7 फीसदी मनमोहन और 6 फीसदी सोनिया गांधी के हक में हैं.

 

 

वोट शेयर

 

सर्वे के मुताबिक एनडीए 31 फीसदी वोट अपनी झोली में खींच सकती है, जबकि यूपीए सिर्फ 23 फीसदी मत ही हासिल कर पाएगी. लेफ्ट पार्टियों को 5 फीसदी वोट मिलेंगे, जबकि अन्य पार्टियों के खाते में सबसे ज्यादा 41 फीसदी वोट जाएंगे.

 

47 फीसदी लोगों ने मंहगाई सबसे बड़ा मुद्दा माना

 

सर्वे के दौरान 47 फीसदी लोगों को मंहगाई सबसे बड़ा मुद्दा लगा, 29 फीसदी का मानना है कि उनका वोट उस पार्टी को जाएगा जो ज्यादा अवसर लाएं. 27 फीसदी का कहना है कि वे उस पार्टी को वोट करेंगे जो किसानों की बात करेगा. 24 फीसदी के लिए भ्रष्टाचार बड़ा मुद्दा है.

 

ज्यादातर जनता ने माना कि बीजेपी ऐसी पार्टी है जिसकी छवि ऐसी है कि वह महंगाई पर लगाम लगा सकती है.

 

 

 

61 फीसदी का मानना है कि यूपीए को तीसरा मौका नहीं मिलना चाहिए

 

दस साल से सत्तासीन यूपीए से ज्यादातर लोग नाराज़ हैं. 61 फीसदी लोगों का मानना है कि यूपीए को हैट्रिक लगाने का मौका नहीं मिलना चाहिए, जबकि आधे से ज्यादा 52 फीसदी लोगों की राय है कि पिछली एनडीए सरकार यूपीए सरकार से बेहतर थी.

 

 

47 फीसदी का मानना है कि मोदी पर महिला जासूसी का आरोप सही नहीं है

 

सर्वे के मुताबिक 47 फीसदी लोग मानते हैं कि मोदी पर एक युवती के गैर कानूनी जासूसी कराने का आरोप सही नहीं है. 36 फीसदी लोगों का मानना है कि केंद्र सरकार का इस मामले की जांच के आदेश देने का सही फैसला नहीं है.

 

आधे से ज्यादा लोग मानते हैं कि 2014 में एनडीए सरकार बनाएगी

 

सर्वे के मुताबिक अगर अभी चुनाव हुए तो 52 फीसदी जनता की राय है कि 2014 में बीजेपी एनडीए के सहयोगियों के साथ सरकार बनाएगी. महज़ 24 फीसदी को लगता है कि यूपीए सरकार बनाएगी.

 

आप को जानते हैं लेकिन 49 फीसदी नहीं देंगे वोट

 

एबीपी न्यूज़ नीलसन सर्वे के मुताबिक 63 फीसदी लोग केजरीवाल की नई नवेली पार्टी आम आदमी पार्टी से परिचित हैं. दिल्ली में उम्मीद के मुताबिक 99 फीसदी लोग जानते हैं. लेकिन 49 फीसदी का कहना है कि वे आप को वोट नहीं करेंगे.

 

38 फीसदी लोग मनमोहन के कामकाज से नाखुश

 

38 फीसदी लोगों ने प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह के कामकाज को बुरा या बहुत बुरा माना. 30 फीसदी ने औसत तो 29 फीसदी ने अच्छा या बहुत अच्छा कहा.

 

43 फीसदी यूपीए के कामकाज से नाखुश

 

43 फीसदी जनता ने यूपीए के कामकाज को बुरा या बहुत बुरा माना, जबकि 23 फीसदी ने अच्छा या बहुत अच्छा कहा. 29 फीसदी ने औसत करार दिया.

 

यूपीए के कदम अप्रभावी

 

सर्वे के मुताबिक सूचना का अधिकार कानून, शिक्षा का अधिकार कानून और खाद्य सुरक्षा का कानून का महज़ 10 फीसदी लोगों ने स्वागत किया.

 

 

# एबीपी न्यूज़ नीलसन सर्वे के मुताबिक गुजरात में 58 फीसदी लोगों का माना है कि गुजरात के विकास को देश में दोहराया जाए.

 

# महाराष्ट्र में 61 फीसदी लोगों का मानना है कि राज ठाकरे को शिवसेना और बीजेपी से गठबंधन कर लेना चाहिए.

 

# यूपी में 51 फीसदी लोगों का मानना है कि अखिलेश सरकार ने बुरा या बहुत बुरा काम किया है. 42 फीसदी का मानना है कि मुजफ्फरनगर दंगों से बीजेपी को फायदा होगा.

 

# बिहार में 72 फीसदी लोगों का मानना है कि नीतीश ने बीजेपी से नाता तोड़कर गलती की है.

 

# पश्चिम बंगाल में 49 फीसदी लोगों का ख्याल है कि नरेंद्र मोदी की छवि से यहां बीजेपी को फायदा होगा.

 

आपको बता दें कि एबीपी न्यूज- नीलसन का यह सर्वे 28 दिसंबर, 2013 से 12 जनवरी, 2014 के बीच किया गया. जिनमें 64006 लोग शामिल हुए. 

India News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: एबीपी न्यूज़-नीलसन सर्वे: मोदी के मैजिक से उखड़ सकती है यूपीए सरकार, खिल उठेगा कमल
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
और जाने: kbp
First Published:

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017