एबीपी न्यूज के कार्यक्रम घोषणापत्र में अंबानी-अडाणी के सवाल पर बोले अमित शाह, कहा- केजरीवाल के पास सबूत है तो कोर्ट जाएं

By: | Last Updated: Saturday, 22 March 2014 2:26 PM
एबीपी न्यूज के कार्यक्रम घोषणापत्र में अंबानी-अडाणी के सवाल पर बोले अमित शाह, कहा- केजरीवाल के पास सबूत है तो कोर्ट जाएं

नई दिल्ली. बीजेपी के पीएम उम्मीदवार नरेंद्र मोदी के बेहद भरोसेमंद अमित शाह और यूपी में बीजेपी के चुनाव प्रभारी हैं. पर्दे के पीछे काम करने वाले अमित शाह ना ज्यादा बोलते हैं ना ज्यादा दिखते हैं. दिखता है तो बस इनका काम. आज हमारे खास कार्यक्रम घोषणा पत्र में तीखे सवालों का जवाब दे रहे हैं शाह.

 

सवाल. लोकसभा चुनाव से ऐन पहले आम आदमी पार्टी के संयोजक अरविंद केजरीवाल अंबानी – अदाणी के बहाने मोदी पर हमला बोल रहे हैं. केजरीवाल का बड़ा आरोप है कि उद्योगपति मुकेश अंबानी और अदाणी ग्रुप को नरेंद्र मोदी ने खूब फायदा पहुंचाया है. गुजरात में गरीबों का नहीं बल्कि अंबानी – अदाणी का विकास हुआ है. क्या वाकई मोदी ने अंबानी और अदाणी को फायदा पहुंचाया है ?

 

जवाब. कोई बुनियाद वाली बात करे तो उसका जवाब भी दिया जाए. इस देश में अदालतें हैं वह पीआइएल दाखिल करें. उसका जवाब दिया जाएगा. उनके पास कोई सबूत है तो कोर्ट जाना चाहिए.

 

गुजरात सरकार की तरफ से रिलायंस को कोई जमीन नहीं दी गई है. रिलायंस ने किसानों से खुद ही जमीन खरीदी है. एक रूपये के आधार पर कहीं जमीन नहीं दी गई है. उद्योग धंधे के लिए क्या जमीन नहीं दी जाएगी.

 

राहुल गांधी पर निशाना साधते हुए शाह ने कहा कि शहजादे का मतलब यह नहीं है कि राजनीति में शहजादे ना हों . हम यह नहीं चाहते हैं कि केवल जन्म की वजह से ही वह पीएम कैंडिडेट हों या पार्टी के अध्यक्ष.

 

सवाल. बीजेपी को अब तक की सबसे ज्यादा सीट मिलने का अनुमान है. 1998 में बीजेपी को 182 सीट मिली थीं. ऐसे में सवाल ये है कि क्या मोदी अपने दम पर बीजेपी और एनडीए को बहुमत के आंकड़े 270 तक ले जा पाएंगे.

 

जवाब. मैं कोई भविष्यवक्ता तो नहीं हूं. लेकिन मैं मानता हूं कि बीजेपी यूपी में सबसे बड़ी पार्टी के रूप में आएगी. यूपी में सबसे ज्यादा लहर है.

 

एक भी नेता के लिए सेफ सीट की तलाश नहीं हुई. मोदी जी के लिए वाराणसी सीट इसलिए तय की गई क्योंकि इससे पूर्वांचल और बिहार पर असर पड़ेगा.

 

भारतीय जनता पार्टी के नेता हिन्दू मुस्लिम बंटवारे की बात नहीं करते हैं. सपा सरकार के नेता ऐसा करते हैं. हमारे विधायकों का सम्मान उनकी प्रताड़ना सहने के लिए उनको सम्मान किया गया. आप लोगों के चश्मे का कलर बदल गया है. दंगों के लिए सिर्फ सपा सरकार जिम्मेदार है.

 

यूपी के लोगों की चाह है कि गुजरात की तरह बिजली मिले. सड़क बने. उद्योग धंधे खुले. माया कोडनानी के मामले में शाह ने कहा कि उन्होंने उच्च अदालत में अपील की है.

 

मुजफ्फरनगर दंगे के दौरान सोनिया गांधी, राहुल गांधी, मुलायम सिंह यादव जा सकते हैं. लेकिन राजनाथ सिंह, अरूण जेटली, सुषमा स्वराज को नहीं जाने दिया गया.

 

ओबीसी आरक्षण पर समहति जताते हुए शाह ने कहा कि ओबीसी पिछड़े हैं. इनको आरक्षण की जरूरत है.  

 

योजना वंचितों के लिए बननी चाहिए. ना कि हिन्दू या मुसलमान के लिए बननी चाहिए.

 

मुलसमानों को टिकट और संगठन में अहम रोल में मुसलमान क्यों नहीं. इस माहौल को अगर मीडिया ठीक कर दे तो सब ठीक हो गया है. देश हिन्दू मुसलमान से काफी आगे निकल चुका है. आप लोग क्यों दो दशक पीछे जा रहे हैं.

 

बाबरी मस्जिद का फैसला अदालत से या बातचीत से ही सुलझेगा. हमें सुप्रीम कोर्ट का फैसला स्वीकार होगा.

 

लालकृष्ण आडवाणी भारी मतों से जीतेंगे. गुजरात ईकाई में कोई मतभेद नहीं होगा.

 

भारतीय जनता पार्टी में आंतरिक लोकतंत्र है. यहां सभी ज्वाइन कर सकते हैं. कांग्रेस मुक्त भारत का मतलब यह है कि ऐसी शासन पद्धति बदलनी है. हमारे बाद भी कांग्रेस रहेगी.

 

चलिए हम आपको उनके बारे में बताते हैं. उम्र 49 साल, पिता गुजरात के बड़े बिजनेसमैन. बायो कैमिस्ट्री में पढ़ाई की है.

करियर की शुरुआत में स्टॉक ब्रोकर रहे. आरएसएस से जुड़े रहे. बीजेपी की छात्र इकाई AVBP में आए.

 

सरखेज से तीन बार विधायक चुने गए. 2003-2010 तक मोदी कैबिनेट में मंत्री रहे. 2013 में बीजेपी के महासचिव बने.

यूपी चुनाव का जिम्मा सौंपा गया.

 

मोदी की कैबिनेट में आते ही अमित शाह ने कम समय में ही मोदी का भरोसा पा लिया और उनके बेहद करीबी बन गए. लेकिन अमित शाह कई विवादों में भी घिरे हैं.

 

अमित शाह सोहराबुद्दीन एनकाउंटर केस में आरोपी हैं, फर्जी एनकाउंटर केस में जेल भी जा चुके हैं. फिलहाल अमित शाह जमानत पर बाहर हैं. अमित शाह महिला जासूसी कांड में भी घिरे हैं. आरोप है कि किसी साहेब के कहने पर अमित शाह ने महिला की जासूसी करवाई.

 

 

बहुत कम लोग जानते हैं कि अमित शाह खेल की दुनिया से भी जुड़े रहे हैं. गुजरात क्रिकेट एसोसिएशन के उपाध्यक्ष से लेकर शतरंज एसोसिएशन के अध्यक्ष भी रहे हैं. फिलहाल अमित शाह पर सबसे बड़ी जिम्मेदारी यूपी में बीजेपी को फतह दिलाना और वाराणसी में मोदी को जीत दिलाना है.

India News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: एबीपी न्यूज के कार्यक्रम घोषणापत्र में अंबानी-अडाणी के सवाल पर बोले अमित शाह, कहा- केजरीवाल के पास सबूत है तो कोर्ट जाएं
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
और जाने: ele2014
First Published:

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017