कोयला घोटाला: केंन्‍द्रीय मंत्री से हो सकती है पूछताछ

कोयला घोटाला: केंन्‍द्रीय मंत्री से हो सकती है पूछताछ

By: | Updated: 25 Sep 2012 02:38 AM


नई
दिल्‍ली:
कोयला घोटाले को
लेकर सीबीआई जांच में बड़ा
खुलासा हुआ है. कांग्रेस
सांसद विजय दर्डा का बेटा
देवेन्द्र दर्डा एएमआर आयरन
एंड स्टील प्राइवेट लिमिटेड
में निदेशक नहीं हैं, जबकि
उन्‍होंने कई दस्‍तावेजों
में बतौर निदेशक के तौर पर
हस्ताक्षर किए थे.

कोल
ब्लॉक आवंटन के समय सरकारी
कमेटी के सामने एएमआर कंपनी
की तरफ से देवेन्द्र दर्डा ने
प्रेजेटेंशन दिया था और उनका
नाम एएमआर कंपनी के खिलाफ
एफआईआर में शामिल है.

जांच
में यह भी सामने आया है कि
जायसवाल बंधुओं में से एक कोल
ब्‍लॉक लाने के बदले चालीस
फीसदी शेयर की मांग कर रहा था
और इस झगड़े को सुलझाने के
लिए एक बडे राजनेता को
बिचौलिए के तौर पर लाने की
बात की जा रही थी.

कोलगेट
घोटाले की जांच के दौरान
सीबीआई ने पिछले हफ्ते
अरविंद जायसवाल, मनोज
जायसवाल, आनंद जायसवाल और
अभिषेक जायसवाल से गहन
पूछताछ की. सूत्रों के
मुताबिक सीबीआई अधिकारियो
ने जानना चाहा कि एएमआर स्टील
के लिए कोल ब्‍लॉक हासिल करने
में किन लोगो ने सरकारी कमेटी
के सामने दस्तावेजों को पेश
किया था और वहां क्या बाते
हुई थी.

पूछताछ में पता
चला कि कमेटी के सामने
प्रजेटेंशन काग्रेसी सांसद
विजय दर्डा के बेटे
देवेन्द्र दर्डा ने दिया था.
सीबीआई अधिकारियो ने जानना
चाहा कि देवेन्द्र किस
हैसियत से कमेटी के सामने पेश
हुआ था लेकिन जायसवाल बंधु
कोई सीधा जवाब नहीं दे पाए.

सूत्रो
के मुताबिक सीबीआई
अधिकारियो ने जायसवाल
बंधुओं के सामने कुछ
दस्तावेज पेश किए जिन पर
देवेन्द्र दर्डा ने एएमआर
स्टील के निदेशक के तौर पर
हस्ताक्षर किए हुए थे.
अधिकारियो ने जानना चाहा कि
क्या देवेन्द्र दर्डा इस
कंपनी के निदेशक है? इस पर
जायसवाल बंधुओं ने उनके
निदेशक होने से इंकार कर
दिया.

सूत्रो के मुताबिक
पूछताछ के दौरान यह भी खुलासा
हुआ कि जायसवाल बंधुओं में से
एक कोल ब्‍लॉक लाने के बदले 40
फीसदी शेयर की मांग कर रहा था,
जबकि अन्य लोग 26 फीसदी शेयर
देने के लिए राजी थे.

इस
झगडे को निबटाने के लिए एक
बडे नेता को बिचौलिए के तौर
पर लाने को कहा जा रहा था.
सीबीआई सूत्रों के मुताबिक
जांच के अगले चरणों में जरूरत
पडने पर इस नेता से भी पूछताछ
की जाएगी कि उसे इस मामले की
कितनी जानकारी थी.

जायसवाल
बंधुओं ने पूछताछ के दौरान जो
जानकारी सीबीआई को दी है उसकी
जांच की जा रही है और अगले चरण
में दर्डा बंधुओं को भी
पूछताछ के लिए बुलाया जाएगा.
देवेन्द्र दर्डा को सीबीआई
ने एएमआर आयरन एंड स्टील
कंपनी के खिलाफ दर्ज एफआईआर
में आरोपी बनाया हुआ है.

कोलगेट
घोटाले में सीबीआई अब तक सात
एफआईआर दर्ज कर चुकी है और अब
सीबीआई 1993 से हुए कोल ब्‍लॉक
आवंटन की जांच कर रही है.

साल
1993 से नवंबर 2005 तक कुल 61 कोल
ब्‍लॉक आवंटित किए गए हैं.
इनमें वाजपेयी सरकार के समय
में कुल 30 कोल ब्‍लॉक आवंटित
किए गए थे, जिनमें से 18 निजी और
12 सरकारी कंपनियों के थे.




Normal 0 false false false MicrosoftInternetExplorer4 /* Style Definitions
*/ table.MsoNormalTable {mso-style-name:"Table Normal";
mso-tstyle-rowband-size:0; mso-tstyle-colband-size:0;
mso-style-noshow:yes; mso-style-parent:""; mso-padding-alt:0in 5.4pt 0in
5.4pt; mso-para-margin:0in; mso-para-margin-bottom:.0001pt;
mso-pagination:widow-orphan; font-size:10.0pt; font-family:"Times New
Roman"; mso-ansi-language:#0400; mso-fareast-language:#0400;
mso-bidi-language:#0400;} http://www.youtube.com/watch?v=USc-KRj7NG4





संबंधित खबरें




जायसवाल
बंधुओं के मध्‍यस्‍थ थे
श्रीप्रकाश?






पीएम
मनमोन सिहं ने ने किसकी आब्रू
रखी






कोलगेट:
सीएजी की रिपोर्ट से सहमत
नहीं कांग्रेस










फटाफट ख़बरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर और डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App
Web Title:
Read all latest India News headlines in Hindi. Also don’t miss today’s Hindi News.

First Published:
Next Story ओम प्रकाश रावत होंगे नए मुख्य चुनाव आयुक्त, 23 जनवरी से संभालेंगे कामकाज