क्या मोदी के बजाए राजनाथ को अटल ने दिया आशीर्वाद?

क्या मोदी के बजाए राजनाथ को अटल ने दिया आशीर्वाद?

By: | Updated: 03 Apr 2014 01:35 PM
लखनउ. भाजपा के वरिष्ठ नेता एवं पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी बाजपेयी ने लखनउ लोकसभा सीट से उम्मीदवार और पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष राजनाथ सिंह के लिए आशीर्वाद स्वरूप अंगवस्त्र भेजा है, जिसे धारण करके वे पांच अप्रैल को अपना नामांकन दाखिल करेंगे.

 

अटल जी का भेजा अंगवस्त्र लेकर आज यहां पहुंचे उनके अनन्य सहयोगी शिवकुमार ने लखनउ के मौजूदा सांसद तथा चुनाव प्रभारी लालजी टंडन के साथ संवाद्दाताओं को बताया ‘‘अस्वस्थ होने के कारण अटल जी अब कहीं आते जाते नहीं है ..उन्होंने राजनाथ सिंह के लिए आशीर्वाद स्वरूप अंगवस्त्र भेजा है.’’ टंडन ने बताया कि राजनाथ सिंह दिल्ली से अटल जी का आशीर्वाद लेकर कल शाम लखनउ पहुंचेगे और पांच अप्रैल को भारी जुलूस के साथ अपना नामांकन दाखिल करेंगे.

 

वर्ष 1991 से लेकर 2004 के लोकसभा चुनाव तक लगातार लखनउ से विजयी रहे बाजपेयी के बाद वर्ष 2009 में उनकी जगह पर चुनाव लड़े और जीते टंडन ने कहा, ‘‘तब अटल जी इतने अस्वस्थ नहीं थे...पढ लिख लेते थे..उन्होंने मेरे पक्ष में लिखित अपील भेजी थी..राजनाथ जी के लिए आशीर्वाद स्वरूप अंगवस्त्र भेजा है.’’ यह कहते हुए कि लखनउ में अटल जी का जादू अब भी बरकरार है, टंडन ने दावा किया कि राजनाथ को आशीर्वाद स्वरूप उनका भेजा अंगवस्त्र जीत की गारंटी है और यह बात कल उनके नामांकन जुलूस में जुटने वाली भीड़ से साबित हो जायेगी.

 

यह पूछे जाने पर अटल जी ने वाराणसी से चुनाव लड़ रहे पार्टी के प्रधानमंत्री पद के उम्मीदवार नरेन्द्र मोदी को भी ऐसा कोई आशीर्वाद क्यों नही भेजा, शिवकुमार ने कहा कि अटल जी स्वयं लखनउ से पांच बार सांसद रह चुके हैं. उन्होंने यह भी बताया कि पार्टी ने राजनाथ सिंह को लखनउ से चुनाव लड़ाने का फैसला तब किया जब यह तय हो गया कि मोदी को वाराणसी से लडाया जाना है.

 

शिवकुमार ने कहा कि राजनाथ के लखनउ से लड़ने का निर्णय पार्टी ने टंडन जी की सहमति और सलाह से किया है.

 

टंडन ने बताया कि राजनाथ के चार प्रस्तावकों में उनके समेत लखनउ के पूर्व मेयर पद्मश्री डा0 एस.सी.राय, मौजूदा मेयर डा0 दिनेश शर्मा और वरिष्ठ अधिवक्ता एल.पी. मिश्रा शामिल है.

 

उन्होंने यह भी बताया कि वे और डॉ. राय अटल जी के नाम के भी प्रस्तावक रहते रहे हैं.

 

टंडन से इस सवाल पर कि लखनउ सीट छोडने के बदले उन्हें क्या कुछ आश्वासन भी मिला है उन्होंने कहा ‘‘पार्टी का कार्यकर्ता हूं सौदेबाजी की राजनीति नहीं करता हूं...सांसद रहूं न रहूं जब तक शरीर साथ देगा समाज और पार्टी की सेवा करता रहूंगा.’’ टंडन और शिवकुमार ने अटल जी का भेजा अंगवस्त्र भी दिखाया जो पीले रंग का एक पटुका है.

फटाफट ख़बरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर और डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App
Web Title:
Read all latest India News headlines in Hindi. Also don’t miss today’s Hindi News.

First Published:
Next Story पर्रिकर को मुंबई के अस्पताल से मिली छुट्टी, गोवा विधानसभा में किया बजट पेश