गोपाल कांडा को चेक बाउंस मामले में जमानत

गोपाल कांडा को चेक बाउंस मामले में जमानत

By: | Updated: 26 Oct 2012 09:15 AM


नई
दिल्ली:
दिल्ली की एक अदालत
ने 14 वर्ष पुराने चेक बाउंस के
एक मामले में हरियाणा के
पूर्व मंत्री गोपाल गोयल
कांडा को जमानत दे दी. इस
मामले में अदालत द्वारा जारी
वारंटों को कांडा नजरअंदाज
करता रहा है.

अदालत के
आदेश की प्रति शुक्रवार को
उपलब्ध हुई. 1998 में गोपाल
कांडा द्वारा जारी चार लाख
रुपये का चेक बाउंस हो गया था.
इस मामले में दिल्ली की एक
अदालत ने गोपाल और उसके भाई
गोविंद कांडा को कई बार समन
और फिर वारंट जारी किया था
लेकिन दोनों भाई कभी अदालत
में पेश नहीं हुए.

अतिरिक्त
सत्र न्यायाधीश नीना बंसल
कृष्णा ने 25,000 रुपये के
वैयक्तिक मुचलके के साथ उतनी
ही रकम की जमानत राशि पर 16
अक्टूबर को गोपाल कांडा को
जमानत दे दी.

कांडा
हालांकि अभी न्यायिक हिरासत
में ही रहेगा. पूर्व विमान
परिचारिका गीतिका शर्मा को
आत्महत्या के लिए उकसाने के
मामले में शहर की एक अन्य
अदालत ने शुक्रवार को उसकी
न्यायिक हिरासत अवधि दो
नवम्बर तक बढ़ा दी.

चेक
बाउंस मामले में दिल्ली की एक
अदालत ने 10 अक्टूबर को गोपाल
कांडा के भाई एवं सह-आरोपी
गोविंद कांडा की अंतरिम
जमानत 31 अक्टूबर तक बढ़ा दी
थी. उसे 10 सितम्बर को 10,000 रुपये
के वैयक्तिक मुचलके और उतनी
ही रकम की जमानत राशि पर
अंतरिम जमानत दी गई थी.

इसी
बीच, गीतिका आत्महत्या मामले
की सुनवाई कर रही रोहिणी
अदालत परिसर स्थित
दंडाधिकारी की अदालत ने
शुक्रवार को गोपाल कांडा और
उसकी कम्पनी में कर्मचारी
अरुणा चड्ढा की न्यायिक
हिरासत दो नवम्बर तक बढ़ा दी.

गीतिका
ने चार-पांच अगस्त की रात
उत्तरी दिल्ली के अशोक विहार
स्थित अपने घर में आत्महत्या
कर ली थी. अपने सुसाइड नोट में
उसने कांडा पर प्रताड़ना तथा
आत्महत्या के लिए विवश करने
का आरोप लगाया था.

आरोप
लगने पर कांडा को हरियाणा के
गृह राज्यमंत्री के पद से
इस्तीफा देना पड़ा था. अपराध
में भाई का साथ देने और
गिरफ्तारी से बचाने के आरोप
में गोविंद कांडा को 18 अगस्त
को गिरफ्तार किया गया था,
लेकिन दिल्ली की एक अन्य
अदालत ने उसी दिन उसे जमानत
दे दी थी.




फटाफट ख़बरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर और डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App
Web Title:
Read all latest India News headlines in Hindi. Also don’t miss today’s Hindi News.

First Published:
Next Story सरकार और राजनीतिक पार्टियों को कोर्ट के मौजूदा संकट से दूर रहना चाहिए: पीएम मोदी