ग्रेटर नोएडा: पाकिस्तान मुर्दाबाद नहीं कहने पर कश्मीरी छात्रों ने लगाया सीनियर पर बदसलूकी और मारपीट का आरोप

ग्रेटर नोएडा: पाकिस्तान मुर्दाबाद नहीं कहने पर कश्मीरी छात्रों ने लगाया सीनियर पर बदसलूकी और मारपीट का आरोप

By: | Updated: 05 May 2014 04:42 AM

नई दिल्ली: शिक्षा के मन्दिर में दो देशो के बीच जिंदाबाद मुर्दाबाद के नारे को लेकर दो छात्रों के गुट आपस में भिड़ गये, जिसकी शिकायत कश्मीर के छात्रों पुलिस को शिकायत करी लेकिन पुलिस कार्यवाही नहीं की गई.

 

गुस्से में खड़े ये छात्र  इस का विरोध कर रहे है क्योंकि कुछ छात्रों ने इनसे पाकिस्तान मुर्दाबाद का नारा लगाने के लिए बोला था इसी बात पर छात्र के गुट ने इनके साथ मारपीट कर डाली दरसल ग्रेटर नोएडा के निजी कॉलेज में पढ़ने वाले कुछ छात्र के हॉस्टल में  का गुट घुस गया था  उनसे भारत जिंदाबाद  पाकिस्तान मुर्दाबाद के नारे लगाने के लिए बोला गया था जिसको मना करने पर छात्रों ने इनके साथ मारपीट कर दी ये सभी छात्र कश्मीर के रहने वाले है इस पूरे मामले पर अभी तक पुलिस ने कोई कार्यवाही नहीं की है

 

इधर हॉस्टल के वार्डन का मानना है कि मारपीट का मामला हुआ है लेकिन नारे वाली बात सामने नहीं आई है अगर इस तरह की  सामने आती है  तो इसपर कार्यवाही की जायगी.

जम्मू कश्मीर के मुख्यमंत्री ने इस पूरी घटना पर कड़ी प्रतिक्रिया दर्ज कराई है.

उमर ने तंज कसते हुए कहा है ये अच्छा तरीका है कि कश्मीरी छात्रों में देशभक्ति पीट-पीट कर भरी जाए, ये हम कर सकते हैं. कोई राज्य या यूनिवर्सिटी अगर उनके यहां पढने वाले कश्मीरी छात्रों को सुरक्षा नहीं दे सकते तो ये उनकी अक्षमता है.

 

उमर ने ट्वीट में आगे लिखा कि वो अपने यहां के रेजिडेंट कमिश्नर को दिल्ली भेज रहे हैं ताकि वो संबंधित यूनिवर्सिटी से पूरी जानकारी ले सकें. इसके बाद आगे की कार्रवाई पर फैसला लिया जाएगा.

 

Let's beat patriotism in to Kashmiri students, why don't we. Great way to remove any fear or sense of alienation among Kashmiris. Thugs!!!

— Omar Abdullah (@abdullah_omar) May 5, 2014

घटना के बाद जम्मू कश्मीर के मुख्यमंत्री उमर अब्दुल्ला ने ट्वीट किया है कि अगर विश्वविद्यालय या राज्य सरकार कश्मीरी छात्रों की सुरक्षा नहीं कर सकते तो उन्हें अपनी असमर्थता स्वीकार कर लेनी चाहिए.

If the universities or state authorities can't protect Kashmiri students coming there then man up & admit your inability or unwillingness.

— Omar Abdullah (@abdullah_omar) May 5, 2014





उमर ने ट्वीट कर कहा है कि वह अगला कोई भी कदम उठाने से पहले सभी जरूरी तथ्यों को इकट्ठा करने के लिए विश्वविद्यालय के दौरे पर एक रेजिडेंट कमिश्नर को दिल्ली भेज रहा हूं.

I'm sending the Resident Commissioner from Delhi to visit the university in question to ascertain all the facts before deciding next steps.

— Omar Abdullah (@abdullah_omar) May 5, 2014


अब देखना है कि क्या इस मामले तो पुलिस प्रशासन गंभीरता से लेता है या नहीं क्योंकि कुछ समय पहले भी एक निजी कॉलेज में इस तरह का मामला आया था और अब लगतार दोनों देशो के बीच दीवार खड़ी होती नज़र आ रही है.

फटाफट ख़बरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर और डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App
Web Title:
Read all latest India News headlines in Hindi. Also don’t miss today’s Hindi News.

First Published:
Next Story पर्रिकर को मुंबई के अस्पताल से मिली छुट्टी, गोवा विधानसभा में किया बजट पेश