'घोषणापत्र' में सीताराम येचुरी ने कहा हर गठबंधन चुनाव बाद ही बनता है और हम तीसरे मोर्चे की सरकार बनाने में सफल होंगे

By: | Last Updated: Sunday, 27 April 2014 2:21 PM
‘घोषणापत्र’ में सीताराम येचुरी ने कहा हर गठबंधन चुनाव बाद ही बनता है और हम तीसरे मोर्चे की सरकार बनाने में सफल होंगे

नई दिल्ली: सीपीआई(एम) के नेता सीताराम येचुरी आज एबीपी न्यूज़ के खास कार्यक्रम घोषणा पत्र में शामिल हुए. सबसे अहम सवाल के जवाब की 16 मई के बाद अगर तीसरे मोर्चे की सरकार नहीं बनती हैं तो वो किसे समर्थन देंगे. इस सवाल के जवाब से सीताराम येचुरी बचते दिखे.

 

साथ ही उन्होनें कहां हर गठबंधन चुनाव बाद ही बनता है और हम तीसरे मोर्चे की सरकार बनाने में सफल होंगे.

 

येचुरी वामपंथी विचारधारा के एक बड़े नेता हैं. येचुरी इमरजेंसी के दौरान जेल भी गए और उसके बाद जेएनयू के अध्यक्ष बनें. देखें और पढ़ें क्या है देश के अगले पीएम को लेकर इनकी राय और पसंद.

 

सीताराम येचुरी: देश को नेता नहीं नीती चाहिए. देश को एक नई नीती की जरूरत हैं.

 

सवाल: क्या तीसरा मोर्चा फ्लॉप हैं ?

जवाब: पहले तीसरे मोर्चे की सरकार में अस्थिरता थी लेकिन अब ऐसी स्थिती नहीं है. हमारी कोशिश यहीं है की इस बार बाहरी अस्थिरता से बचा जाए.

 

और खुद मीडिया को सर्वे में बी ये ही दिखाया जा रहा है की यूपीए और एनडीए के मुकाबले तीसरे मोर्चे को ज्यादा सीटें मिल रही है.

 

सवाल: सीपीएम या वामदल सिमट क्यों रहे हैं ?

जवाब: सिर्फ राजनीति में सीटें ना ला पाना सिमटना नहीं होता. राजनीति में आप आंदोलन कर सकते हैं. चुनाव के परिणाम कई कारणों से होते हैं.

 

सवाल: क्या वामदल सिर्फ दो राज्यों में सिमट गया है ?

जवाब: आजादी के बाद पार्टी में कई ऐसे तत्व आए जिसकी वजह से पार्टी को नुकसान हुआ और उन पर कार्रवाई भी हो रही है.

 

सवाल: क्या लेफ्ट का पत्ता साफ हो गया है ?

जवाब: 1970 से यहीं कहा जा रहा है की लेफ्ट का पत्ता साफ हो गया है. लेकिन हम फिर से वापस आए और 34 साल के लिए आए. बंगाल में भी अगर वोट स्वच्छ तरीके से डलेंगी तो हमें कोई संदेह नहीं है.

 

सवाल: क्या चुनाव के बाद वामदल को मजबूरन यूपीए या एनडीए को समर्थन देना पड़ेगा शरद यादव के अनुसार ?

जवाब: शरद यादव जी कू ये मजबूरी है क्योंकि वो यूपीए के साथ है इसलिए वो ऐसा बोल रहे है.

 

सवाल: नरेंद्र मोदी के पास एक मॉडल है, आपके पास 34 साल बाद क्या है ?

जवाब: हमारे पास भी कई मॉडल है. हमने भी अपने कार्यकाल में कई अच्छे काम किए.