चुनाव प्रचार में कम खर्चा करके भी लोगों को लुभा रही 'आप'

चुनाव प्रचार में कम खर्चा करके भी लोगों को लुभा रही 'आप'

By: | Updated: 15 Apr 2014 02:11 PM
बेंगलुरू:  दिल्ली विधानसभा चुनाव में धमाकेदार प्रदर्शन कर राष्ट्रीय स्तर पर सुर्खियां बटोरने वाली आम आदमी पार्टी (आप) लोकसभा चुनाव में यहां के मतदाताओं के बीच पैठ बनाने के लिए 'सस्ता मगर बेहद असरदार प्रचार' का जरिया अपनाए हुई है. राज्य में मतदान गुरुवार को कराया जाएगा.

 

राज्य की सभी 28 सीटों पर प्रत्याशी उतारना पार्टी के लिए कोई बड़ी समस्या नहीं थी. अपनी प्रतिद्वंद्वी पार्टियों के मुकाबले धनबल की समस्या से जूझ रही पार्टी को प्रचार के लिए स्वयंसेवियों का सहारा है.

 

बेंगलुरू सेंट्रल से प्रत्याशी वी. बालाकृष्णन ने  बताया, "हमारा प्रचार स्वयंसेवियों पर टिका है जिन्होंने अपनी आकर्षक नौकरियों से एक 'बड़े कारण' के लिए छुट्टी ले रखी है. हमारा प्रचार सस्ता है, लेकिन यह लोगों के बीच बदलाव के लिए असर पैदा करता है."

 

इन्फोसिस में प्रभावी भूमिका अदा कर चुके बालकृष्णन ने अपने शपथपत्र में 189 करोड़ रुपये की संपत्ति घोषित की है. वे यहां चौकोने मुकाबले में हैं. उनके खिलाफ भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के मौजूदा सांसद पी.सी. मोहन, कांग्रेस के युवा तुर्क रिजवान अरशद और जनता दल-सेक्युलर (जेडी-एस) की नंदिनी अल्वा प्रत्याशी हैं.

 

इस चुनाव क्षेत्र में 19 लाख मतदाता हैं और यहां सबसे ज्यादा 36 प्रत्याशी मैदान में हैं.

 

कांग्रेस और भाजपा के चमक-दमक वाले प्रचार के विपरीत आप समर्पित स्वयंसेवियों के सहारे पहुंचने के प्रयास में है. ज्यादातर ये लोग पैदल चलते हुए जनसंपर्क करते हैं.

फटाफट ख़बरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर और डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App
Web Title:
Read all latest India News headlines in Hindi. Also don’t miss today’s Hindi News.

First Published:
Next Story नसीमुद्दीन सिद्दीकी की 'घरवापसी' के बाद कांग्रेस में उठने लगे विरोध के स्वर