चेन्नई ट्रेन धमाके: सबूत न मिलने पर हिरासत में लिए गए दोनों संदिग्ध छोड़े गए

चेन्नई ट्रेन धमाके: सबूत न मिलने पर हिरासत में लिए गए दोनों संदिग्ध छोड़े गए

By: | Updated: 02 May 2014 02:48 AM

नई दिल्ली: चेन्नई सेंट्रल रेलवे स्टेशन पर ट्रेन में हुए धमाकों के सिलसिले में हिरासत में लिए गए दोनों संदिग्धों को पुलिस ने कोई सबूत न मिलने पर छोड़ दिया है.

 

गुरूवार को बैंगलोर-गुवाहाटी एक्सप्रेस में हुए धमाके के मामले की जाँच के लिए गृह मंत्रालय की एक टीम आज घटनास्थल पर जाकर विस्फोट की वजहों का पता लगाएगी. उल्लेखनीय है कि गुरूवार सुबह 7 बजकर 05 मिनट पर चेन्नई सेंट्रल रेलवे स्टेशन पर खड़ी बैंगलोर-गुवाहाटी एक्सप्रेस के एस4 और एस5 में बारी बारी से में धमाका हुआ था जिसमे एक युवती की मौत हो गई थी वहीँ 11 लोग घायल हुए थे.

 

तमिलनाडु की जयललिता सरकार ने चेन्नई रेलवे स्टेशन पर हुए ब्लास्ट के केस केंद्रीय जांच एजेंसियों की मदद लेने से इनकार कर दिया है. राज्य पुलिस की CB-CID जांच कर रही है.

 

चेन्नई रेलवे स्टेशन के पास एक बैग में पाइप बम बनाने का सामान मिला है. आशंका है कि ट्रेन के चेन्नई स्टेशन पहुंचने के दौरान ही जल्दबाजी में बम प्लांट किया गया. क्योंकि किसी यात्री ने चेन्नई पहुंचने से पहले सीट के नीचे कोई संदिग्ध सामान रखा नहीं देखा. इस धमाके में 3-4 लोगों की टीम के होने का शक जताया जा रहा है जो कि अलग अलग दिशाओं में बम प्लांट करने के बाद भागे.

 

श्रीलंका के कैंडी का रहने वाला शाकिर हुसैन हुसैन से पूछताछ की जा रही है. मंगलवार को शाकिर हुसैन को गिरफ्तार किया गया था. शाकिर चेन्नई में आईएसआई एजेंट है और भर्ती के लिए आया था. उसने आतंकी हमले के योजना बनाने की जानकारी दी थी. इस घटना का इससे कोई लिंक है या नहीं इस जानकारी के लिए उससे पूछताछ हो रही है.

 

इस धमाके में जान गवांने वाली महिला की पहचान 22 साल की स्वाति के रूप में हुई है. रेलवे ने स्वाति के परिजनों को मुआवजे के रूप में एक लाख रूपये देने की घोषणा की है. गंभीर रूप से घायल लोगों को 25 हजार रूपये और थोड़ी चोटें आई हैं उन्हें 5 हजार रूपये दिए जाएंगे.

फटाफट ख़बरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर और डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App
Web Title:
Read all latest India News headlines in Hindi. Also don’t miss today’s Hindi News.

First Published:
Next Story गृह मंत्रालय ने दिल्ली सरकार-मुख्य सचिव विवाद पर एलजी से मांगी रिपोर्ट