चोगम में शायद ही जाएंगे प्रधानमंत्री

By: | Last Updated: Saturday, 9 November 2013 9:17 PM

<p xmlns=”http://www.w3.org/1999/xhtml”>
<b>नई
दिल्ली :</b> इस बात के पुरजोर
संकेत देते हुए कि
प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह
राष्ट्रमंडल शिखर सम्मेलन
(चोगम) में हिस्सा लेने के लिए
अगले सप्ताह शायद ही कोलंबो
की यात्रा पर जाएंगे, विदेश
मंत्रालय ने शनिवार को कहा कि
इसमें हिस्सा कौन लेगा इस बात
का अभी तक फैसला नहीं किया जा
सका है. प्रधानमंत्री के
सम्मेलन में शामिल न होने का
मजबूत आधार तैयार करते हुए
विदेश मंत्रालय ने कहा है कि
चोगम के पिछले 10 सम्मेलनों
में से केवल पांच में
तत्कालीन प्रधानमंत्रियों
ने हिस्सा लिया था.<br /><br />शेष
पांच सम्मेलनों में से चार
में एक मंत्री शामिल होने गए
जिसमें 1993 में तत्कालीन वित्त
मंत्री के तौर पर मनमोहन सिंह
हिस्सा लेने गए थे.<br /><br />विदेश
मंत्रालय के प्रवक्ता सैयद
अकबरुद्दीन ने यहां एक
संवाददाता सम्मेलन में कहा
कि भारत ने अभी तक कोलंबो को
यह नहीं बताया है कि सम्मेलन
में हिस्सा लेने कौन जा रहा
है. उन्होंने कहा, “हमने अभी तक
अपनी आंतरिक निर्णय
प्रक्रिया के निष्कर्ष के
बारे में सूचना नहीं दी है.
श्रीलंका को इस बारे में
सूचित कर दिए जाने के बाद हम
इसे जाहिर कर देंगे.”<br /><br />तमिलनाडु
की राजनीतिक पार्टियों और
राज्य से आने वाले कुछ
मंत्रियों तक ने श्रीलंका
सरकार द्वारा वहां के तमिल
नागरिकों को मानवाधिकार
देने में आनाकानी और लिबरेशन
टाइगर्स ऑफ तमिल ईलम के साथ
युद्ध के अंतिम चरण में वहां
की सेना द्वारा तमिलों के
खिलाफ कथित युद्ध अपराध किए
जाने के खिलाफ शिखर सम्मेलन
में हिस्सा लेने पर विरोध
जताया है.<br /><br />कांग्रेस की कोर
समिति और इसकी शुक्रवार को
हुई बैठक में इस मुद्दे पर
चर्चा की गई और माना जा रहा है
कि उसने भी प्रधानमंत्री के 15
से 17 नवंबर के बीच आयोजित हो
रहे चोगम में हिस्सा नहीं
लेने पर जोर दिया है.<br /><br />यह
पूछे जाने पर कि श्रीलंका में
नवगठित उत्तरी प्रांत के
मुख्यमंत्री सी.वी.
विगेंस्वरन के आमंत्रण पर
प्रधानमंत्री जाफना जाएंगे
या नहीं, विदेश मंत्रालय के
प्रवक्ता ने कहा, “एक बार जब हम
श्रीलंका सरकार को यह बता
देंगे कि वहां हमारे
प्रतिनिधिमंडल का नेतृत्व
कौन करेगा, इस सवाल का जवाब
अपने आप मिल जाएगा. आप हमारे
ऊपर भरोसा रखिए.”<br /><br />यह पूछे
जाने पर कि भारत सरकार कब
श्रीलंका को बताएगी कि शिखर
सम्मेलन में हिस्सा लेने कौन
जा रहा है, अकबरुद्दीन ने कहा,
“ऐसे कूटनीतिक संदेशों से
अवगत कराने की कोई समय सीमा
नहीं होती है.”<br /><br />श्रीलंका
के विदेश मंत्री जी.एल पेइरिस
अगस्त महीने में नई दिल्ली आए
थे और व्यक्तिगत रूप से
मनमोहन सिंह को शिखर सम्मेलन
में हिस्सा लेने का
राष्ट्रपति महिंदा राजपक्षे
का न्योता सौंपा था.<br /><br />राष्ट्रमंडल
शिखर सम्मेलन से पहले कोलंबो
में आधिकारिक स्तर और
मंत्रिस्तरीय वार्ता होगी
जिसके लिए भारत ने श्रीलंका
को बता दिया है कि इसमें कौन
हिस्सा लेगा. विदेश मंत्रालय
में अतिरिक्त सचिव नवतेज
सरना और संयुक्त सचिव
(संयुक्त राष्ट्र) आधिकारिक
स्तर की वार्ता में शामिल
होंगे.<br /><br />प्रवक्ता ने बताया
कि विदेश मंत्री सलमान
खुर्शीद 14 नवंबर से शुरू होने
वाली मंत्रिस्तरीय वार्ता
में हिस्सा लेंगे और सरना व
कपूर के अलावा विदेश सचिव
सुजाता सिंह उनकी सहायता
करेंगे.<br /><br />
</p>

India News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: चोगम में शायद ही जाएंगे प्रधानमंत्री
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
और जाने: ???? ??????? ?????? ?????? ????
First Published:

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017