चौथे दौर में आज बंपर वोटिंग, त्रिपुरा में 80 फीसदी और गोवा में 75 फीसदी से ज्यादा मतदान

By: | Last Updated: Saturday, 12 April 2014 4:31 PM

गोवा. गोवा की दो सीटों के लिए हुई वोटिंग में 20 फीसदी का इजाफा. साल 2009 में 55 फीसदी वोटिंग हुई थी इस बार 75 फीसदी वोटिंग हुई . असम में 75, त्रिपुरा में 80 औऱ सिक्किम में 76 फीसदी वोटिंग . असम में पहले के मुकाबले 6 फीसदी ज्यादा वोटिंग हुई तो त्रिपुरा में 3 फीसदी कम वोटिंग हुई है  .

 

असम में रिकॉर्ड मतदान

असम की तीन लोकसभा सीटों, सिल्चर, करीमगंज और दीफू (स्वायत्त जिला) में चौथे चरण के अंतर्गत शनिवार को हुए मतदान में भारी संख्या में मतदाताओं ने हिस्सा लिया तथा मतदान के 75 फीसदी तक पहुंच जाने की उम्मीद है. निर्वाचन अधिकारियों ने बताया कि वे अभी भी विभिन्न मतदान केंद्रों से मिल रहे मतदान रिपोर्ट एकत्रित करने में लगे हुए हैं, तथा उन्हें तीनों लोकसभा सीटों पर कुल 75 फीसदी से अधिक मतदान पहुंच जाने की उम्मीद है. अपराह्न 3.0 बजे तक 62.14 फीसदी मतदान हो चुका था.

 

अधिकारियों ने बताया, “हमें अभी भी मतदान की रिपोर्ट मिल रही है. मतदान फीसदी की आखिरी रिपोर्ट मिलने में अभी समय लगेगा.”

 

सुबह सात बजे मतदान शुरू होने के प्रथम दो घंटे में तीनों सीटों पर 11 फीसदी मतदान दर्ज किया गया, इसके बाद पूर्वाह्न 11 बजे तक 32.23 फीसदी मतदान हुआ और अपराह्न एक बजे तक 52.52 फीसदी मतदान दर्ज किया गया.

 

राज्य के मुख्य निर्वाचन अधिकारी विजेंद्र ने कहा कि मतदान सभी तीन सीटों पर शांतिपूर्ण रहा. “किसी भी स्थान से अब तक किसी अप्रिय घटना की खबर नहीं है.”

 

कुछ मतदान केंद्रों पर ईवीएम में तकनीकी गड़बड़ी की शिकायत मिली.

 

लगभग 3,698 केंद्रों पर करीब 30 लाख मतदाता थे.

 

अधिकारियों ने 60 मतदान केंद्रों को संवेदनशील घोषित किया था. शांतिपूर्ण मतदान के लिए असम रायफल्स के 8,880 जवान और अर्धसैनिक बलों की 204 टुकड़ियां तैनात की गईं. 68 केंद्रों पर वेबकास्टिंग भी की गई.

 

दूसरे चरण के मतदान के तहत 37 उम्मीदवार अपनी किस्मत आजमा रहे हैं. पांच सीटों के लिए सात अप्रैल को मतदान कराए गए थे. अंतिम चरण में 24 अप्रैल को शेष छह सीटों पर मतदान होगा.

 

सिल्चर में भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के मौजूदा सांसद कबिंद्र पुरकायस्थ, कांग्रेस विधायक सुष्मिता देब और ऑल इंडिया युनाइटेड डेमोक्रेटिक फ्रंट (एआईडीयूएफ) के कुतुब अहमद मजूमदार के बीच मुख्य मुकाबला है.

 

करीमगंज में भाजपा के कृष्णा दास, कांग्रेस के ललित मोहन सुकलाबैद्य और एआईडीयूएफ के राधेश्याम बिस्वास सहित 15 उम्मीदवार मैदान में हैं.

 

कांग्रेस के मौजूदा सांसद बिरेन सिंह एंगती, भाजपा के जोयराम एंगलेंग सहित पांच उम्मीदवार दिफु से अपनी किस्मत आजमा रहे हैं.

 

त्रिपुरा में 9,40,000 मतदाताओं ने डाले मत

 

त्रिपुरा की दो लोकसभा सीटों में से दूसरी लोकसभा सीट के लिए चौथे चरण के तहत शनिवार को लगभग 83 फीसदी मतदान दर्ज हुआ. एक अधिकारी ने यह जानकारी दी. मुख्य निर्वाचन अधिकारी आशुतोष जिंदल ने आईएएनएस को बताया, “जनजातियों के लिए आरक्षित त्रिपुरा पूर्व सीट पर अब तक किसी अप्रिय घटना की खबर नहीं है, तथा मतदान पूरी तरह शांतिपूर्ण रहा.”

 

त्रिपुरा पूर्व संसदीय क्षेत्र में कुल मतदाताओं की संख्या 11.3 लाख है, जिनमें अधिकांश जनजातीय हैं. शनिवार को 9,40,000 मतदाताओं ने 1,490 मतदान केंद्रों पर अपने मताधिकार का प्रयोग किया.

 

पिछले लोकसभा चुनाव-2009 में भी इस संसदीय सीट पर 83 फीसदी के लगभग ही मतदान हुआ था. सात अप्रैल को पहले चरण के अंतर्गत त्रिपुरा पश्चिम सीट पर 86 फीसदी मतदान हुआ था.

 

आरक्षित इस सीट पर 12 उम्मीदवारों के बीच मुकाबला है. यहां दो महिलाएं भी चुनाव मैदान में हैं.

 

जिंदल ने बताया, “गर्मी के बावजूद महिलाओं सहित बड़ी संख्या में मतदाता सुबह सात बजे से पहले मतदान केंद्र पहुंच गए.”

 

एक अन्य अधिकारी ने बताया, “निर्वाचन अधिकारी एवं जिलाधिकारियों तथा कलेक्टरों से मतदान की अंतिम रिपोर्ट मिलने तक मतदान फीसदी में इजाफा हो सकता है. मतदान की अंतिम समयसीमा पांच बजे के बाद भी अनेक मतदान केंद्रों पर मतदाता कतारें लगाए देखे गए.”

 

जिंदल ने आगे कहा, “इलेक्ट्रॉनिक वोटिंग मशीन (ईवीएम) में तकनीकी गड़बड़ी की वजह से कुछ मतदान केंद्रों में मतदान में देरी हुई, लेकिन इंजीनियरों ने 10-15 मिनट के अंदर या तो उन्हें बदल दिया या फिर दुरुस्त कर दिया, जिसके बाद मतदान सुचारु रूप से चलने लगा.”

 

1,490 मतदान केंद्रों में से छह महिलाओं के लिए हैं जिनमें सिर्फ महिला अधिकारी तैनात की गई हैं.

 

शांतिपूर्ण और निष्पक्ष चुनाव के लिए मणिपुर स्टेट राइफल्स, केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल (सीआरपीएफ), असम राइफल्स, सीमा सुरक्षा बल (बीएसएफ) और राज्य सुरक्षा बल के 12,000 जवान तैनात किए गए हैं.

 

मतदान केंद्रों के हवाई सर्वेक्षण के लिए हेलिकॉप्टर की सेवाएं भी ली जा रही हैं.

 

इस सीट पर मुख्य मुकाबला मार्क्‍सवादी कम्युनिस्ट पार्टी (माकपा) के उम्मीदवार और त्रिपुरा के उद्योग, वाणिज्य व ग्रामीण विकास मंत्री जितेंद्र चौधरी और कांग्रेस के सचित्र देबबर्मा के बीच है.

 

त्रिपुरा पूर्व से भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) ने परीक्षित देबबर्मा और तृणमूल कांग्रेस ने भृगुराम रेयांग और आम आदमी पार्टी (आप) ने कर्ण बिजॉय जमातिया को मैदान में उतारा है.

 

राज्य में 1952 से कराए जा रहे लोकसभा चुनाव में वाम मोर्चे ने 10 बार त्रिपुरा पूर्व सीट पर जीत हासिल की है तथा पांच बार कांग्रेस के उम्मीदवार जीते हैं.

India News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: चौथे दौर में आज बंपर वोटिंग, त्रिपुरा में 80 फीसदी और गोवा में 75 फीसदी से ज्यादा मतदान
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
और जाने: ele2014
First Published:

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017