जानिए अपने वित्तमंत्री पी.चिदंबरम को

By: | Last Updated: Monday, 17 February 2014 1:42 PM

पी चिदंबरम का जन्म 1945 में हुआ था. उन्होंने अपना बचपन तमिलनाडु के शिवागंगा जिले के गांव कनाडुकाथन में बिताया. पी चिदंबरम की मां का नाम श्रीमती लक्ष्मी अची और पिता का नाम श्री पलनिअप्पन चेत्तियार है. पी चिदंबरम चार भाई बहन थे, लेकिन एक भाई की कुछ साल पहले मौत हो गई जिनका नाम पी अन्नामलाई था. चिदंबरम की बहन सीआईटी कॉलोनी में अपने घर पर ही एक प्री स्कूल चलाती हैं जिसका नाम ‘द नेस्ट’ है.

 

पी चिदंबरम की शादी नलिनी चिदंबरम से हुई थी. सबसे खास बात ये कि युवा चिदंबरम ने नलिनी से घरवालों की मर्जी के खिलाफ प्रेम विवाह किया था. चिदंबरम और नलिनी के एक बेटा है, जिसका नाम कार्ती चिदंबरम और बहू का नाम श्रीनिधि राघवन है. चिदंबरम के एक भाई की पी चिदंबरम के दूसरे भाई का नाम पी लक्ष्मणन है जो एक उद्योगपति हैं.

 

चिदंबरम चेन्नई में बड़े हुए. पी चिंदबरम की प्राथमिक शिक्षा ‘सैंट थॉमस कॉन्वेंट’ में हुई जहां डबल प्रमोशन के साथ इन्हें यूकेजी से सीधे दूसरी कक्षा में डाल दिया गया. चिदंबरम ने अपनी ग्रेजुएशन की पढ़ाई ‘लोयोला, प्रेसिडेंसी और लॉ कॉलेज’ से की. पी चिदंबरम ने एमबीए ‘हारवर्ड यूनिवर्सिटी’ से किया.

 

1984 में पी चिदंबरम ने शिवगंगा क्षेत्र से एमपी का चुनाव जीता. तात्कालीन  प्रधानमंत्री राजीव गांधी पी चिदंबरम से काफी प्रभावित थे और वो उन्हें अपने साथ दिल्ली ले आए. राजीव ने चिदंबरम को अपनी टीम में शामिल कर 1985 में इन्हें वाणिज्य मंत्रालय का उपमंत्री बना दिया. इसी समय में चिदंबरम पब्लिक ग्रैविएन्स और पेंशन मंत्रालय के मंत्री भी नियुक्त किए गए. 1989 तक इन्होंने ये दोनो मंत्रालय संभाले. पी चिदंबरम ने अपने निर्वाचन क्षेत्र से 1989, 1991, 1996, 1998 और 2004 के चुनावों में भी जीत हासिल की. 1991 में पी चिदंबरम वाणिज्य मंत्रालय में राज्य मंत्री के पद पर नियुक्त हुए.

 

पी चिदंबरम ने 1996 में कांग्रेंस छोड़ दी और तमिल मानिला कॉंग्रेस (टीएमसी) में शामिल हो गए. 1996 के चुनाव के बाद यह गठबंधन सरकार में शामिल हो केंद्रीय वित्त मंत्री नियुक्त हुए. 2008 में शिवराज पाटिल पर गृह मंत्री पद छोड़ने का दबाव डाला गया और पी चिदंबरम ने पहली बार गृह मंत्रालय की जिम्मेदारी संभाली. इसी दौरान चिदंबरम नक्सलवादियों के खिलाफ सेना के इस्तेमाल और नक्सलियों के अड्डों पर एयरफोर्स के विमानों से बम बरसाने जैसे विवादों में भी घिरे. जिसपर उन्हें सफाई भी देनी पड़ी. अरुंधति रॉय ने इसी दौरान उड़ीसा के नक्सलप्रभावित इलाकों का दौरा कर वहां मौजूद खनन कंपनी वेदांता में पी.चिदंबरम की हिस्सेदारी होने का आरोप लगाया.

 

2009 में दिल्ली में आयोजित एक प्रेस कांफ्रेंस के दौरान गृहमंत्री पी. चिदंबरम पर जूता भी उछाला गया. ये कारनामा एक सिख पत्रकार जरनैल सिंह ने किया जो 1984 के सिख विरोधी दंगों पर पूछे गए सवाल पर चिदंबरम के जवाब से असंतुष्ट था. चिदंबरम चाहते तो जरनैल सिंह को पुलिस के हवाले कर सकते थे और जरनैल सिंह आज आप से लोकसभा चुनाव का टिकट हासिल करने के बजाय जेल और कोर्ट-कचहरी के चक्कर काट रहे होते. लेकिन चिदंबरम ने मामले को ज्यादा तूल न देते हुए जरनैल को माफ कर उसे आगे नेता बनने का मार्ग प्रशस्त कर दिया.

 

31 जुलाई 2012 को कॉंग्रेस ने केंद्र की अपनी गठबंधन वाली यूपीए सरकार में पी. चिदंबरम को फिर से वित्त मंत्री बना दिया. चिदंबरम अब तक लोकसभा के 7 बजट प्रस्तुत कर चुके हैं जिसमें यूपीए सरकार के वित्त मंत्री के तौर पर उन्होंने 5 बजट पेश किए.

India News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: जानिए अपने वित्तमंत्री पी.चिदंबरम को
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
First Published:

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017