जो सबसे झूठा, बन जाता है नेता: कल्बे सादिक

By: | Last Updated: Monday, 31 March 2014 5:44 AM

बाराबंकी: ऑल इंडिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड के उपाध्यक्ष हकीम-ए-उम्मत मौलाना डा. कल्बे सादिक ने कहा कि इस्लाम कॉमन सेंस का मजहब है. यह कहता है जब तक समझ में न आए न मानो. 

 

मौलाना कल्बे सादिक सैयद शुजाअत हुसैन रिजवी नगरामी मेमोरियल ट्रस्ट द्वारा हजरत फातमा जहरा की शहादत पर रविवार को कर्बला सिविल लाइंस में आयोजित अजीम यौमे गम कार्यक्रम में बोल रहे थे.

 

उन्होंने कहा कि जो आजकल सबसे झूठा, वह नेता बन जाता है. नेता से हर कोई डरता है सिवाय उसके जो अल्लाह से डरता है. हजरत अली जो दुनिया के सबसे बेखौफ निडर इंसान थे लेकिन अल्लाह के आगे लरजते थे. जो अल्लाह से डरता है कमजोर से कमजोर इंसान भी उससे नहीं डरता क्योंकि वह जानता है कि अल्लाह से डरने वाला जालिम नहीं होगा.

 

मौलाना सादिक ने कहा कि इस्लाम में ईमान है अकीदा नहीं, कुरआन में अकीदे का लफ्ज ही नहीं है, अकीदे के जरिये मोहब्बत पैदा होती है लेकिन मरिफत हासिल नहीं होगी. अकीदे से अंधविश्वास पैदा होता है.

 

मौलाना ने मुसलमानों से अपील की वह मस्जिदे अल्लाह के लिए बनाए फिरके में न बंटें. कोई मस्जिद देवबंदी या बरेलवी की नहीं होती, सिर्फ अल्लाह की होती है. अंत में उन्होंने हजरत फातमा जहरा की शहादत के दर्दनाक मसायब पेश किए.

 

इससे पहले 1200 मदरसों के बोर्ड तंजीमुल मकातिब के सचिव मौलाना सफी हैदर ने मजलिस को संबोधित करते हुए कहा कि तरबियत के बाद तालीम दी जाए तो कामयाबी मिलती है, अगर बगैर तरबियत के तालीम देंगे तो रट्टू तोते तो होंगे, लेकिन कामयाबी कोसों दूर होगी.

India News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: जो सबसे झूठा, बन जाता है नेता: कल्बे सादिक
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
और जाने: ele2014
First Published:

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017