दबाव में बेहतर खेलने की कला सीख रही है भारतीय टीम: वॉल्श

By: | Last Updated: Friday, 10 January 2014 7:16 AM

नई दिल्ली: भारतीय हॉकी टीम के मुख्य कोच टेरी वॉल्श ने गुरुवार को कहा कि उनकी देखरेख में खिलाड़ी इन दिनों दबाव में न बिखरने की कला सीख रहे हैं. वॉल्श के मुताबिक वर्ल्ड लीग फाइनल के लिए उन्होंने खिलाड़ियों के सामने खुद को मनोवैज्ञानिक रूप से मजबूत बनाए रखने का लक्ष्य रखा है और उन्हें उम्मीद है कि वे इसे हासिल करने में सफल रहेंगे.

 

इंग्लैंड के साथ होने वाले अपने पहले पूल मैच की पूर्व संध्या पर उपकप्तान और गोलकीपर पीआर श्रीजेश के साथ संवाददाताओं से मुखातिब वॉल्श ने कहा, “यह टूर्नामेंट सभी खिलाड़ियों की मनोवैज्ञानक और शारीरिक परीक्षा लेगा. मैंने सबसे यही कहा है कि जब आप दबाव में हो तो खेल की अपनी मूल कला पर बने रहिए, गलतियां कम होंगी.”

 

वॉल्श ने कहा कि चूंकी विश्व कप सामने है, इसलिए वर्ल्ड लीग फाइनल उनके खिलाड़ियों की मनोवैज्ञानिक प्रगति का जायजा लेने के लिए अच्छा साधन होगा. इस लीग के माध्यम से यह आकलन किया जाएगा कि किस खिलाड़ी ने दबाव को कितने बेहतर तरीके से झेला.

 

बकौल वॉल्श, “हम इस टीम की गुणवत्ता का आकलन सुधार के आधार पर करेंगे. हम यह देखना चाहेंगे कि किस खिलाड़ी ने दबाव को कितने बेहतर तरीके से झेला. हम इस तरह से अभ्यास कर रहे हैं कि हर एक खिलाड़ी अपने साथी के प्रदर्शन का आकलन कर सकेगा. हम इस टूर्नामेंट के दौरान यह देखना चाहेंगे कि हमारे लड़के अभ्यास में आजमाए गए तरीकों को कितनी सफलता से मैच में आजमा रहे हैं.”

 

इस अवसर पर श्रीजेश ने कहा इंग्लैंड के साथ होने वाला पहला मुकाबला उनकी टीम के लिए काफी अहम है और इस मैच के लिए उनके साथी अपना मनोबल ऊंचा रखे हुए हैं. श्रीजेश बोले, “पहला मैच हमेशा अहम होता है. हमें अपना मनोबल ऊंचा रखना होगा. इससे हमारे जूनियर साथियों को बल मिलेगा.”

 

उल्लेखनीय है कि करिश्माई मिडफील्डर सरदार सिंह के नेतृत्व में भारतीय टीम शुक्रवार को इंग्लैंड के साथ अपना पहला पूल मैच खेलने उतरेगी. मेजबान होने के नाते भारत को इस टूर्नामेंट में खेलने का हक मिला है जबकि इंग्लैंड ने सेमीफाइनल में तीसरा स्थान हासिल करते हुए फाइनल के लिए योग्यता पाई है.

 

विश्व वरीयता क्रम में भारत और इंग्लैंड की टीमों के बीच काफी फासला है. इंग्लिश टीम एफआईएच रैंकिंग में चौथे क्रम पर है जबकि भारत 10वें स्थान पर है. भारत बेशक वरीयता क्रम में काफी नीचे है लेकिन क्रचले मानते हैं कि उसमें किसी भी टीम को हराने की क्षमता है और यही बात इंग्लैंड के लिए मुश्किल खड़ी करने वाली है.

India News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: दबाव में बेहतर खेलने की कला सीख रही है भारतीय टीम: वॉल्श
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
First Published:

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017