दिल्ली में चलते रहेंगे ई-रिक्शा, नहीं होगी लाइसेंस की जरूरत

By: | Last Updated: Tuesday, 17 June 2014 6:27 AM
दिल्ली में चलते रहेंगे ई-रिक्शा, नहीं होगी लाइसेंस की जरूरत

नई दिल्ली: दिल्ली में ई-रिक्शे के लिए अब लाइसेंस की जरूरत नहीं होगी. सड़क एवं परिवहन मंत्री नितिन गडकरी ने आज रामलीला मैदान में आयोजित रैली में यह एलान किया. दिल्ली में अब चार सवारियों को ई-रिक्शा में बैठाने की इजाजत होगी. सवारी के साथ 50 किलो तक का वजन ले जाने की भी इजाजत होगी.  ई-रिक्शा वालों के हक में यह सरकार का एक बड़ा एलान माना जा रहा है.

 

गडरी ने एलान किया कि 650 वॉट वाले बैटरी रिक्शा पर अब किसी लाइसेंस की जरूरत नहीं होगी. गडकरी ने कहा कि चालक ही रिक्शे का मालिक होगा. वहीं ई-रिक्शे का रजिस्ट्रेशन अब नगर निगम परिषद से होगा. वहीं ई-रिक्शा खरीदने के लिए अब बैंक से कर्ज भी मिलेगा.  इसके लिए तीन प्रतिशत की ब्याज दर से कर्ज मिलेगा. सरकार दीन दयाल उपाध्याय के नाम पर दीन दयालई-रिक्शा योजना भी  चलाएगी.

 

केजरीवाल ने ई-रिक्शा चालकों को दिया समर्थन, उपराज्यपाल से की मुलाकात

 

गौरतलब है दिल्ली में अवैध तरीके से चल रहे ई-रिक्शों को सड़कों से हटाने की संभावित योजना के खिलाफ बैटरी रिक्शा चालक संघ आज रामलीला मैदान में रैली कर रहे हैं. गडकरी ने एलान किया कि सरकार का यह फैसला दो करोड़ से ज्यादा लोगों को फायदा पहुंचाएगा.

 

बैटरी रिक्शा संघ ने दावा किया था ति केंद्रीय सड़क परिवहन मंत्री नितिन गडकरी भी आज की रैली में हिस्सा लेंगे और दावे के मुताबिक गडकरी वहां पहुंचे हैं.

 

पुराने नियमों के मुताबिक ई-रिक्शा अवैध तरीके से चल रहा था.

 

इससे पहले कल ई-रिक्शा चालकों के समर्थन में सामने आते हुए पूर्व मुख्यमंत्री और आप प्रमुख अरविंद केजरीवाल ने आज उपराज्यपाल नजीब जंग से अपील की कि वह राज्य अधिकारियों को शहर में ई-रिक्शा ऑपरेटरों के खिलाफ चालान काटने या उनके रिक्शे जब्त करने जैसी दंडात्मक कार्रवाई करने की अनुमति नहीं दें.