दिल्ली रेप: पीड़ित की मां ने लगाई न्याय की गुहार

By: | Last Updated: Friday, 17 May 2013 10:11 AM

नई
दिल्ली:
राष्ट्रीय राजधानी
दिल्ली में पिछले साल 16
दिसंबर को चलती बस में
सामूहिक रेप के बाद सिंगापुर
के एलिजाबेथ अस्पताल में दम
तोड़ने वाली युवती की मां ने
त्वरित अदालत से अपनी बेटी को
न्याय दिलाने की गुहार लगाई.

अतिरिक्त सत्र न्यायाधीश
योगेश खन्ना की अदालत में
गवाही के लिए पेश हुई 23
वर्षीया युवती की मां ने
आंखों में आंसू लिए हाथ
जोड़कर अदालत से कहा, “मेरी
बेटी को न्याय दीजिए.”

उन्होंने
अदालत से यह गुहार बचाव पक्ष
के वकीलों द्वारा पूछताछ के
दौरान लगाई. उनसे आरोपी विनय
शर्मा, पवन कुप्ता, अक्षय
ठाकुर के वकीलों ने पूछताछ
की. एक अन्य आरोपी मुकेश के
वकील ने यह कहते हुए उनसे
पूछताछ करने से मना कर दिया
कि उन्होंने अपनी बेटी खोई
है. वह इस बारे में पूछताछ कर
उनकी भावनाओं को आहत नहीं
करना चाहते.

पूछताछ के
दौरान पीड़ित की मां ने अदालत
से कहा कि उनकी बेटी सबसे
बड़ी संतान थी और वह देहरादून
में पढ़ाई कर रही थी. वह
छुट्टियों में नवंबर के पहले
सप्ताह में दिल्ली आई थी.
घटना के दिन उनकी बेटी ने
उनसे कहा कि वह अपने मित्र के
साथ फिल्म देखने जाएगी. वह
पहले भी फिल्में देखने के लिए
सिनेमाघर गई थी.

पीड़ित की
मां ने कहा कि वह बेटी के
मित्र को पिछले दो साल से
जानती हैं, क्योंकि वह पड़ोस
में ही रहने वाले अपने
रिश्तेदार के घर अक्सर
आता-जाता था.

उन्होंने
बताया कि उनकी बेटी शाम चार
बजे घर से निकली. उसने उन्हें
बताया कि उसे कुछ खरीदारी
करनी है और फिर वह फिल्म
देखेगी. जब वह घर से निकली थी
तो उसके पास उसका मोबाइल फोन
और एटीएम कार्ड था.

पीड़ित
की मां ने कहा, “जब वह रात नौ
बजे तक नहीं लौटी तो मैंने
उसके मोबाइल पर फोन किया.
लेकिन उसका फोन बंद था. मेरे
पति जब दफ्तर से लौटे तो
मैंने उन्हें बेटी के घर नहीं
लौटने के बारे में बताया. हम
दोनों अपनी बेटी को लेकर
चिंतित थे.”

उन्होंने
बताया कि उनके बेटे के पास
बहन के मित्र का फोन नंबर था,
जिस पर उन्होंने फोन किया.
लेकिन उसका फोन भी बंद मिला.
रात करीब 11 बजे उन्हें पुलिस
ने फोन कर बताया कि उनकी बेटी
के साथ कुछ हादसा हुआ है और वह
सफदरजंग अस्पताल पहुंच जाएं.

पीड़ित
की मां ने कहा, “मैं अपने पति
के साथ अस्पताल के लिए घर से
निकल गई, जहां मैंने अपनी
बेटी को आपातकालीन वार्ड में
भर्ती पाया. मैं उस वक्त अपनी
बेटी से बातचीत नहीं कर सकी,
क्योंकि उसे ऑपरेशन के लिए ले
जाया जा रहा था.”

पति और
बेटे के साथ अदालत पहुंचीं
पीड़ित की मां ने कहा कि 26
दिसंबर को सिंगापुर ले जाने
से पहले उनकी बेटी बोलने की
स्थिति में नहीं थी. अंतिम
बार 25 दिसंबर की रात बेटी से
उनकी बात बात हुई थी. अगले दिन
उसकी हालत और बिगड़ गई.

उन्होंने
बताया, “मैं अपनी बेटी के साथ 26
दिसंबर की रात सिंगापुर गई.
हम 27 दिसंबर को वहां पहुंचे.
हमारे साथ मेरे पति, दोनों
बेटे, चिकित्सक तथा अन्य
चिकित्साकर्मी भी गए थे.”

उन्होंने
बताया कि पीड़ित की मौत 29
दिसंबर को सिंगापुर के
अस्पताल में हो गई. उसका शव
दिल्ली में इंदिरा गांधी
अंतर्राष्ट्रीय हवाईअड्डे
पर परिजनों को सौंपा गया था.
उन्होंने यह भी कहा कि पुलिस
ने सफदरजंग अस्पताल में उसका
बयान दर्ज किया था.

India News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: दिल्ली रेप: पीड़ित की मां ने लगाई न्याय की गुहार
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
और जाने: ???? ?????? ????
First Published:

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017