नदियों को जोड़ने की योजना ’ बेहद खतरनाक ’: मेनका गांधी

नदियों को जोड़ने की योजना ’ बेहद खतरनाक ’: मेनका गांधी

By: | Updated: 15 May 2014 03:24 AM

पीलीभीतः बीजेपी नेता और पीलीभीत से चुनाव लड़ने वाली मेनका गांधी ने पार्टी के प्रधानमंत्री पद के उम्मीदवार नरेन्द्र मोदी की नदियों को जोड़ने वाली महत्वाकांक्षी योजना को ’बेहद खतरनाक’ करार देते हुए दावा किया है कि उन्होंने ही पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी बाजपेयी को इस काम से रोका था.

 

पीलीभीत लोकसभा सीट से चुनाव लड़ रही मेनका गांधी ने कल रात यहां उनके स्वागत में आयोजित एक कार्यक्रम के दौरान इस जिले से शुरु होने वाली गोमती नदी को शारदा नदी से जोड़े जाने की संभावना के बारे में पूछे गये सवाल के जवाब में कहा, ’’ मैंने ही अटलजी को रोका था इस... से. ’’ मेनका ने कहा ,’’ इसका (नदियों को जोड़ने का) प्रश्न ही नहीं उठता. दुनिया में इससे घटिया कोई स्कीम हो ही नहीं सकती. हर नदी का अपना ईकोसिस्टम (पारिस्थिकी) है , अपनी मछलियां है, अपना पीएच वैल्यू है. यदि आप एक नदी को दूसरी नदी से जोड़ देते है तो दोनो नदियां मर जायेंगी. यह बेहद खतरनाक है. ’’

 

उन्होंने कहा कि नहर बनायी जा सकती है और उसकी नियमित सफाई की व्यवस्था हो सकती है, मगर गंगा को गोमती से जोड़ दे तो दोनो ही नदियां मर जायेंगी.

 

उन्होंने यह भी कहा, ’’नदियों को जोड़ने के लिए दस से 15 लाख एकड़ जमीन खप जायेगी , इतनी जमीन कहां से आयेगी. ’’ देश के विभिन्न अंचलों में पानी की जरुरत पूरी करने के लिए नदियों को जोड़ने की अवधारणा सबसे पहले भाजपा नीत राजग सरकार के प्रधानमंत्री रहे अटल बिहारी बाजपेयी ने की थी और पार्टी के प्रधानमंत्री पद के उम्मीदवार नरेन्द्र मोदी लोकसभा चुनाव के लिए प्रचार के दौरान अपनी लगभग सभी जनसभाओं में इसका जिक्र करते रहे हैं.

फटाफट ख़बरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर और डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App
Web Title:
Read all latest India News headlines in Hindi. Also don’t miss today’s Hindi News.

First Published:
Next Story गृह मंत्रालय की ब्लैकलिस्ट में नहीं है खालिस्तानी आतंकी जसपाल अटवाल का नाम