नाराज शरद पवार ने दी कैबिनेट छोड़ने की धमकी

नाराज शरद पवार ने दी कैबिनेट छोड़ने की धमकी

By: | Updated: 19 Jul 2012 10:07 AM


नई दिल्ली: सरकार में
नंबर दो की हैसियत को लेकर
कृषि मंत्री शरद पवार खासे
नाराज़ बताए जा रहे हैं और
सूत्रों से मिली जानकारी के
मुताबिक उन्होंने कैबिनेट
छोड़ने की धमकी दी है.




एनसीपी सूत्रों का कहना है कि
पवार ने सरकार से अलग हो कर
बाहर से समर्थन देने की धमकी
दी है.




इससे पहले पवार और उनकी
पार्टी के दूसरे मंत्री
प्रफुल्ल पटेल ने कैबिनेट
बैठक में न जाकर नंबर दो की
लड़ाई को और बढ़ा दिया है.




प्रणब मुखर्जी के इस्तीफ़े
के बाद पवार को उम्मीद थी की
सरकार में ये जगह उन्हीं को
मिलेगी लेकिन ऐसा नहीं हुआ और
ये कुर्सी रक्षा मंत्री एके
एंटनी के हाथ लग गई. पवार इसी
बात से नाराज हैं.




बताया जा रहा है कि कैबिनेट
में नंबर दो का ओहदा नहीं
मिलने से पवार नाराज़ हैं.




क्या है विवाद?




प्रणब मुखर्जी के इस्तीफ़े
के बाद केंद्रीय कैबिनेट में
नंबर दो की हैसियत चाहते हैं
शरद पवार. सरकार ने पवार को
इसका सपना भी दिखाया. प्रणब
मुखर्जी के इस्तीफ़े के बाद
कैबिनेट की जो पहली बैठक हुई
उसमें पवार को पीएम के बगल
में प्रणब की जगह बैठाया गया.
लेकिन बाद में 12 जुलाई को
सरकार ने ये जगह रक्षा मंत्री
एके एंटनी को दे दी.




उस दिन हुई कैबिनेट की बैठक
में पीएम की बगल में एंटनी
बैठे और फिर उनकी बगल में शरद
पवार. मतलब प्रणब की जगह एके
एंटनी मनमोहन सरकार में नंबर
टू हो गये.




बताया जा रहा है कि पवार और
उनकी पार्टी इसी बात को लेकर
पीएम और सोनिया गांधी से
नाराज हैं. एनसीपी सूत्रों का
कहना है कि पवार को इस बात के
लिए सोनिया और मनमोहन ने
विश्वास में नहीं लिया.




इससे पहले 14 जुलाई तो
उपराष्ट्रपति का नाम तय करने
के लिए यूपीए की हुई बैठक में
भी एनसीपी का कोई प्रतिनिधि
शामिल नहीं हुआ था.




उस बैठक में एनसीपी के दूसरे
बड़े नेता प्रफुल्ल पटेल को
पहुंचना था लेकिन दिल्ली में
रहकर भी वो बैठक में नहीं
पहुंचे थे.




पवार ने तब भले ही हामिद
अंसारी की उम्मीदवारी का
समर्थन कर दिया लेकिन बैठक से
गायब रहकर ये संदेश जरूर दे
दिया कि नंबर दो का ओहदा नहीं
मिलने से वो नाराज हैं.




अब एक बार फिर से गुरुवार को
बैठक से गायब रहकर एनसीपी
नेताओं ने जता दिया कि नंबर
दो की कुर्सी को लेकर शुरू
हुई लड़ाई आसानी से खत्म नहीं
होने वाली है.




फटाफट ख़बरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर और डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App
Web Title:
Read all latest India News headlines in Hindi. Also don’t miss today’s Hindi News.

First Published:
Next Story संजय निरूपम ने तोगड़िया के आरोपों की जांच की मांग की