पत्नी हिना का दावा शहाबुद्दीन के गढ़ में नही चलेगी 'मोदी लहर'

पत्नी हिना का दावा शहाबुद्दीन के गढ़ में नही चलेगी 'मोदी लहर'

By: | Updated: 23 Mar 2014 11:29 AM
सीवान: ‘मोदी लहर’ के जरिये बिहार में क्लीन स्वीप के सपने देख रही भाजपा को चुनौती देते राजद उम्मीदवार और पूर्व बाहुबली सांसद मोहम्मद शहाबुद्दीन की पत्नी हिना साहेब ने कहा है कि सीवान में मोदी लहर नहीं चलेगी और जनता इस बार सही उम्मीदवार का चुनाव करेगी .

 

हिना का मुख्य मुकाबला भाजपा प्रत्याशी और मौजूदा सांसद ओमप्रकाश यादव से है जिन्होंने निर्दलीय उम्मीदवार के तौर पर उन्हें 2009 के लोकसभा चुनाव में 63000 मतों से हराया था . चार बार के सांसद और दो बार विधायक रह चुके शहाबुद्दीन को हत्या के इरादे से अपहरण के मामले में आजीवन कारावास होने के बाद हिना ने 2009 में राजनीति में पदार्पण किया था .

 

उन्होंने कहा, ‘‘पिछली बार गलत अफवाहें फैलाकर और धर्म के आधार पर बांटकर मुझे हरवाया गया . मौजूदा सांसद अब भगवा पहनकर वोट मांग रहे हैं . मोदी  का भी काम धर्म को बांटकर राजनीति करना है . भले ही अब वे मुसलमानों को फुसला रहे हों लेकिन सीवान के लोग उनके झांसे में नहीं आने वाले . वे समझदार हैं और उन्हीं को चुनेंगे जो धर्म और जाति से ऊपर उठकर राजनीति कर रहे हैं .

 

 मोदी की कोई लहर यहां नहीं है.’’ हिना ने स्वीकार किया कि पिछली बार उनके हारने का कारण पर्दादारी भी था क्योंकि मतदाताओं ने कभी उनकी शक्ल भी नहीं देखी थी लेकिन इस बार वह पूरा फील्डवर्क कर रही हैं .

 

हिना ने कहा, ‘‘लोगों का कहना है कि पिछली बार मैं पर्दे में थी और उन्होंने मेरा चेहरा भी नहीं देखा था और जिसे देखा नहीं, उसे वोट कैसे करते . हार का यह भी एक कारण था लेकिन इस बार मैं खुलकर सभी से मिल रही हूं .’’

 

उन्होंने कहा, ‘‘मुझे जब 2009 में चुनाव लड़ने के लिये कहा गया, तब मैने मना कर दिया था . मैं अपने पति :शहाबुद्दीन: का इंतजार कर रही थी और यही जानती थी कि वही चुनाव लड़ेंगे . जब यह तय हो गया कि वह चुनाव नहीं लड़ सकते तभी मैने लड़ने का मन बनाया . मुझे नामांकन के बाद सिर्फ 16 दिन मिले थे लेकिन अबकी बार मुझे पहले ही से पता था कि चुनाव लड़ना है लिहाजा तैयारी बेहतर है .’’

 

युवाओं के लिये शिक्षा और महिलाओं की सुरक्षा को चुनावी मुद्दा बनाने वाली हिना ने कहा कि उनका मकसद अपने पति के अधूरे कामों को पूरा करना है .

 

हिना ने कहा, ‘‘साहेब :शहाबुद्दीन: ने सीवान में स्कूल, कालेज, अस्पताल और बच्चों के लिये इंडोर स्टेडियम बनवाये जिनकी पिछले पांच साल में मरम्मत तक नहीं की गई . उनके जो अधूरे काम थे, वह मैं पूरे करना चाहती हूं . गांवों में इंटर स्कूल खुलवाना और बलात्कार की घटनाओं पर रोक लगाना मेरी प्राथमिकता है .’’ राष्ट्रीय जनता दल के शासन में ही शहाबुद्दीन को जेल जाना पड़ा था लेकिन हिना ने कहा कि दल बदल के इस दौर में उनका इरादा पार्टी छोड़ने का नहीं है .

 

उन्होंने कहा, ‘‘हमारे लिये पार्टी परिवार की तरह है और हम अंत तक राजद के साथ रहेंगे . मौजूदा बिहार सरकार हमारे खिलाफ है जो नहीं चाहती कि मेरे पति जेल से बाहर आयें . मुझे आज भी पल-पल उनका इंतजार है और मैं जानती हूं कि पिछले दस साल मैने किन कठिनाइयों, संघषो’ और डर के साथ निकाले लेकिन इन्हीं से मुझे हौसला मिला और चुनाव में लोगों का साथ भी मिलेगा .’’

फटाफट ख़बरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर और डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App
Web Title:
Read all latest India News headlines in Hindi. Also don’t miss today’s Hindi News.

First Published:
Next Story जम्मू कश्मीर में आतंकी हमला, दो पुलिसकर्मी शहीद