'पीएमओ के अधीन गठित हो रक्षा उद्योग आयोग'

'पीएमओ के अधीन गठित हो रक्षा उद्योग आयोग'

By: | Updated: 02 Apr 2012 07:24 AM


नई दिल्ली: दुनिया में
हथियारों के सबसे बड़े आयातक
के रूप में देश के उभरने को
देखते हुए कंफेडरेशन ऑफ
इंडियन इंडस्ट्री (सीआईआई) ने
प्रधानमंत्री कार्यालय
(पीएमओ) के अधीन राष्ट्रीय
रक्षा उत्पादन आयोग
(एनडीएमसी) के गठन की अनुशंसा
की है, ताकि देश को इस क्षेत्र
में आत्मनिर्भर बनाया जा सके.


सीआईआई और बोस्टन
कंसलटेंसी ग्रुप ने संयुक्त
रूप से एक सर्वेक्षण के बाद
कुछ मामलों में 49 प्रतिशत
प्रत्यक्ष विदेशी निवेश की
अनुमति देने का प्रस्ताव भी
रखा है. साथ ही रक्षा क्षेत्र
में निजी भागीदारी को
प्रोत्साहन देने के लिए
रक्षा उद्योग चैम्पियंस
अथवा रक्षा उद्योग रत्न जैसी
अवधारणाओं को पुनर्जीवित
करने की भी अनुशंसा की गई है.


सीआईआई के राष्ट्रीय
रक्षा परिषद के अध्यक्ष व
एचसीएल के संस्थापक अजय
चौधरी ने परमाणु ऊर्जा आयोग
तथा अंतरिक्ष आयोग के समान ही
एनडीएमसी के गठन की अनुशंसा
की, ताकि प्रधानमंत्री
कार्यालय देश के रक्षा
निर्माण क्षेत्र पर सीधी
निगरानी रख सके.

चौधरी ने
कहा, "रक्षा उद्योग रत्न को
जल्द से जल्द पुराने स्वरूप
में लाया जाना चाहिए."

स्टॉकहोम
इंटरनेशनल पीस रिसर्च
इंस्टीट्यूट ने मार्च में एक
रिपोर्ट में भारत को वर्ष 2007
से 2011 के बीच हथियारों का सबसे
बड़ा आयातक बताया है. देश
अपनी रक्षा जरूरतों का करीब 70
प्रतिशत वैश्विक बाजार से
आयात करता है, जबकि 30 प्रतिशत
आवश्यकताओं की पूर्ति घरेलू
बाजारों से करता है.




फटाफट ख़बरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर और डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App
Web Title:
Read all latest India News headlines in Hindi. Also don’t miss today’s Hindi News.

First Published:
Next Story 20 MLA की छु्टी पर केजरीवाल ने ट्वीट में नर्म तो जनता के सामने दिखाए सख्त तेवर