प्रशासन के दबाव में पीछे हटा परिवार

By: | Last Updated: Saturday, 12 January 2013 5:24 AM

मथुरा/नई
दिल्‍ली:
एलओसी पर शहीद हुए
हेमराज का परिवार प्रशासन के
दबाव में प्रदर्शन वाली जगह
से घर लौट गया है, लेकिन
परिवार का कहना है कि वो भूख
हड़ताल जारी रखेंगे.

शहीद हेमराज का सिर लाने की
मांग को लेकर शनिवार को
परिवार और गांव वाले उस जगह
पर धरने पर बैठ गए थे जहां
अंतिम संस्कार हुआ था.

दिल्ली से करीब 175 किलोमीटर
दूर मथुरा के शेरनगर गांव में
दो दिन पहले शहीद हेमराज का
अंतिम संस्कार किया गया था.

अंतिम
संस्‍कार की जगह पर शनिवार को
शहीद लांस नायक हेमराज के
परिजन और गांववाले भूख
हड़ताल पर बैठ गए. मांग ये कि
शहीद का सिर वापस लाए भारत
सरकार.

प्रशासन के दबाव
में शहीद हेमराज का परिवार
प्रदर्शन वाली जगह से लौट
गया. लेकिन परिवार वालों ने
ये जरूर कहा कि वो भूख हड़ताल
जारी रखेंगे.

एक तरफ
परिवार से लेकर शहीद के गांव
वाले नाराज हैं तो दूसरी तरफ
समाजवादी पार्टी इनकी
नाराजगी को गलत बताकर उनके
जख्मों पर नमक छिड़क रही है.

समाजवादी
पार्टी के महासचिव राम आसरे
कुशवाहा के मुताबिक, ‘यूपी
सरकार ने शहीद के परिवार के
लिए 20 लाख रुपये की घोषणा की
है. उनके परिवार की नाराजगी
गलत है क्‍योंकि माननीय
नेताजी (मुलायम सिंह यादव) की
वजह से ही उनके बेटे का शव उन
तक पहुंच पाया है. जब नेताजी
रक्षा मंत्री थे तो
उन्‍होंने ही शहीदों के शव
उनके घरवालों तक पहुंचाने की
व्‍यवस्‍था कराई थी.’

यूपी
सरकार की बदइंतजामी का
अंदाजा देश ने उस दिन भी देखा
जब शहीद के अंतिम संस्कार में
रोशनी तक का इंतजाम नहीं हो
पाया था. सरकार दावे तो बडी
बड़ी करती है लेकिन हकीकत
कोसों दूर है.

गौरतलब है
कि मंगलवार को पाकिस्तानी
हमलावरों के हमले में हेमराज
शहीद हुए थे. बताया जाता है कि
पाकिस्तानी हमलावर शहीद
हेमराज का सिर साथ ले गए थे.

संबंधित ख़बरें

बॉर्डर
पर फिर सीजफायर का उल्‍लंघन

पाक
फौजियों ने दरिंदगी पर दी
बधाई!

पाक
पर हमला करे भारत: शिव सेना

सरहह
तक क्‍यों आया था हाफिज सईद

LOC:
पूरी कहानी ABP News की जुबानी

India News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: प्रशासन के दबाव में पीछे हटा परिवार
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
First Published:

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017