बीएमसी ने अदालत से कहा :शाहरुख के खिलाफ लिंग परीक्षण के आरोप बेबुनियाद

By: | Last Updated: Thursday, 12 September 2013 10:11 AM
बीएमसी ने अदालत से कहा :शाहरुख के खिलाफ लिंग परीक्षण के आरोप बेबुनियाद

मुंबई:
बृहन्मुंबई नगर निगम (बीएमसी)
ने आज बंबई उच्च न्यायालय को
सूचित किया कि उसने जांच में
पाया है अभिनेता शाहरुख खान
और उनकी पत्नी गौरी पर अपने
सरोगेट बेटे अबराम का जन्म से
पहले लिंग परीक्षण कराने के
संबंध में लगाए गए आरोप
निराधार हैं.

न्यायमूर्ति साधना जाधव
सामाजिक कार्यकर्ता वष्रा
देशपांडे की याचिका पर विचार
कर रहीं थीं. उन्होंने
मजिस्ट्रेट अदालत में
शाहरुख और गौरी के साथ-साथ
अन्य के खिलाफ प्रसव पूर्व
निदान-तकनीक (विनियमन और
दुरूपयोग निवारण) अधिनियम के
तहत दायर अपनी शिकायत पर
शीघ्र सुनवाई किए जाने का
निर्देश देने की मांग को लेकर
याचिका दायर की है.

देशपांडे के अनुसार
मेट्रोपोलिटन मजिस्ट्रेट ने
आठ अगस्त को प्रतिवादियों को
नोटिस जारी किया था और मामले
की अगली सुनवाई की तारीख 12
सितंबर निर्धारित की थी.

असंतुष्ट देशपांडे ने जल्द
मामले पर सुनवाई और मामले के
निस्तारण के लिए उच्च
न्यायालय का दरवाजा खटखटाया
था.

बीएमसी के वकील एमपीएस राव ने
आज उच्च न्यायालय से कहा कि
शिकायत में लगाए गए आरोप
निराधार हैं. राव ने कहा,
‘‘निगम ने जांच की है और
शिकायत को निराधार पाया है.’’

अदालत को सूचित किया गया कि
मजिस्ट्रेट अदालत के समक्ष
शिकायत सुनवाई के लिए या तो
आज या अगले हफ्ते आएगी. इसके
बाद न्यायमूर्ति जाधव ने
याचिका पर सुनवाई दो सप्ताह
के लिए स्थगित कर दी.

India News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: बीएमसी ने अदालत से कहा :शाहरुख के खिलाफ लिंग परीक्षण के आरोप बेबुनियाद
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
First Published:

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017