बीजेपी का नोटिस पढ़ने पर दूंगा जवाब: जेठमलानी

बीजेपी का नोटिस पढ़ने पर दूंगा जवाब: जेठमलानी

By: | Updated: 26 Nov 2012 09:49 PM


नई
दिल्ली:
बीजेपी के नोटिस पर
राम जेठमलानी ने कहा है कि
नोटिस के बारे में उन्होंने
सुना ज़रूर है लेकिन अभी पढ़ा
नहीं है. उन्होंने कहा है कि
पढ़ने के बाद ही वे इस पर अपनी
प्रतिक्रिया देंगे.




नितिन गड़करी इस मामले पर
चुप्पी साधे हुए हैं. प्रकाश
जावड़ेकर ने कहा है
अनुशासनहीनता को बर्दाश्त
नहीं किया जाएगा.




बीजेपी ने रामजेठमलानी को
पार्टी से बाहर निकालने का
फैसला टाल दिया है. कल पार्टी
ने उन्हें कारण बताओ नोटिस
जारी करते हुए 10 दिनों के अंदर
जवाब देने के लिए कहा है.
जेठमलानी ने नोटिस देखे बिना
कुछ कहने से इंकार कर दिया है.




बीजेपी के अंदर बगावती तेवर
दिखाने वाले राज्यसभा सांसद
राम जेठमलानी को बीजेपी ने
फिलहाल सिर्फ कारण बताओ ही
जारी किया है. जेठमलानी को दस
दिन के भीतर इस नोटिस का जवाब
देना है अगर बीजेपी जवाब से
संतुष्ट हो गई तो ठीक वरना
अगले छह साल के लिए पार्टी से
बाहर का रास्ता दिखाया जा
सकता है लेकिन रामजेठमलानी
को इस नोटिस से खास असर होता
दिख नहीं रहा है.




नोटिस देखें तब तो जेठमलानी
कुछ कहे लेकिन बीजेपी के
अध्यक्ष नितिन गडकरी
जिन्होंने पार्टी की संसदीय
बोर्ड की बैठक में ये फैसला
लिया वो कुछ कहने को तैयार
नहीं हैं. बैठक के फौरन बाद
गडकरी गुजरात में चुनाव
प्रचार के लिए सूरत पहुंचे.
जेठमलानी को लेकर सवाल पूछा
गया लेकिन बस नमस्कार कर चले
गए.




जेठमलानी कार्रवाई हो रही है
तो कांग्रेस का कहना है कि
कार्रवाई तो गडकरी पर होनी
चाहिए. आपको बता दें कि
पार्टी विरोधी गतिविधियों
के आऱोप में जेठमलानी को
बीजेपी से निलंबित किया गया
था. अपने निलंबन से पहले
जेठमलानी ने पार्टी को खुली
चुनौती दी थी.




फटाफट ख़बरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर और डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App
Web Title:
Read all latest India News headlines in Hindi. Also don’t miss today’s Hindi News.

First Published:
Next Story कुलभूषण जाधव मामला: भारत-पाकिस्तान को लिखित दलीलें जमा करने की समयसीमा तय