भड़काऊ भाषण देने वाला अकबरुद्दीन ओवैसी गिरफ्तार

By: | Last Updated: Tuesday, 8 January 2013 6:29 AM
भड़काऊ भाषण देने वाला अकबरुद्दीन ओवैसी गिरफ्तार

हैदराबाद: भड़काऊ भाषण
देने के मामले में देश के
खिलाफ जंग के मुकदमे का सामना
कर रहे एमआईएम के विधायक
अकबरुद्दीन ओवैसी को पुलिस
ने गिरफ्तार कर लिया है.
मेडिकल जांच के बाद उनकी
गिरफ्तारी हुई.

पुलिस ने हैदराबाद के गांधी
अस्पताल में ओवैसी को
गिरफ्तार किया है. उनकी
गिरफ्तारी के बाद अस्पताल के
आसपास तनाव भी देखा गया.
ओवैसी के समर्थकों ने वहां
हंगामा किया.

पुलिस ने आज अकबरुद्दीन
ओवैसी का गांधी अस्पताल में
मेडिकल जांच कराया जिसमें
पाया कि उनसे पूछताछ की जा
सकती है. हालांकि, मेडिकल
रिपोर्ट में कहा गया है कि वे
लंबी दूरी तक नहीं चल सकते.

फिलहाल ओवैसी की गिरफ्तार के
मद्देनज़र हैदराबाद के
पुराने शहर में
सुरक्षा-व्यवस्था बढ़ा दी गई
है और बड़ी संख्या में पुलिस
बल को तैनात किया गया है.
ओवैसी की गिरफ्तार से पहले
गांधी अस्पताल के बाहर उनके
समर्थकों ने तोड़फोड़ की.

हमारी संवाददाता का कहना है
कि पुलिस ओवैसी को अदिलाबाद
ले जा रही है, जहां उन्होंने
भड़काऊ भाषण दिया था.

भड़काऊ भाषण देने के मामले
में ओवैसी के खिलाफ राज्य में
विभिन्न जगहों पर तीन केस
दर्ज हैं.

ओवैसी के वकील का आरोप

ओवैसी के वकील का आरोप है कि
उनके मुवक्किल की तबियत ठीक
नहीं है और उन्हें मेडिकल
रिपोर्ट भी नहीं दी गई है.

वकील ने गिरफ्तारी के बाद
मीडिया से कहा कि वह पुलिस की
मदद कर रहे हैं, लेकिन पुलिस
ने उनके बीमार मुवक्किल के
साथ बड़ी सख्ती की है और
उन्हें शौचालय जाने की भी
इजाज़त नहीं दी गई और सुबह से
ही उन्होंने कुछ नहीं खाया
है.

उनका कहना है कि पुलिस कहां
ले जा रही है इसकी उन्हें
जानकारी नहीं है, क्योंकि
पुलिस ने इसकी जानकारी नहीं
दी है.

मोहलत की मांग

इससे पहले ओवैसी ने कहा है कि
उन्हें अंदरूनी तकलीफ है
इसलिए उन्हें चार दिन की
मोहलत दी जाए. इस मामले में
ओवैसी ने हाईकोर्ट में अपील
भी दायर कर रखी है.

अकबरुद्दीन ओवैसी के शरीर
में एक गोली है जो उन पर पहले
हुए हमले के बाद शरीर में ही
रह गई थी. इस वजह से उनका
एमआरआई स्कैन नहीं हो पा रहा
है.

पुलिस मेडिकल जांच कराकर
पुष्टि कराना चाहती थी कि
ओवैसी सच में बीमार हैं या
बहाना बना रहे हैं.

दूसरी ओर ओवैसी की विधानसभा
सदस्यता खत्म करने को लेकर
आंध्र प्रदेश विधानसभा की
एथिक्स कमेटी की बैठक में
विचार किया जा रहा है.

कौन
है अकबरुद्दीन ओवैसी?

आंध्र प्रदेश के हैदराबाद
ओल्ड सिटी में करीब 40 सालों से
भी ज्यादा वक्त से ओवैसी
परिवार का राजनीतिक दबदबा
बना हुआ है.

सुल्तान सलाउद्दीन ओवैसी
द्वारा शुरू की गई
मजलिस-ए-इत्तेहादुल
मुस्लिमीन पार्टी ने
हैदराबाद ओल्ड सिटी को अपना
गढ़ बना लिया है.

सलाउद्दीन ओवैसी की
राजनीतिक विरासत को उनके दो
बेटे असदउद्दीन और
अकबरूद्दीन ओवैसी बखूबी
संभाल रहे हैं. दोनों भाई
अपने पिता के नक्शे कदम पर
चलते हुए मुसलमानों का मसीहा
बनने की कोशिश करते दिखते
हैं.

असदउद्दीन ओवैसी सांसद हैं
और अकबरूद्दीन ओवैसी विधायक
हैं. अकबरूद्दीन को ओल्ट सिटी
का बाहुबली माना जाता है. वे
पहली बार तब सुर्खियों में आए
थे जब उन्होंने प्रख्यात
लेखिका तस्लीमा नसरीन को जान
से मारने की बात कही थी.

यूं तो अकबरूद्दीन ने लंदन से
बैरिस्टर की पढ़ाई की है. वे
और उनके भाई वैसे तो हैदराबाद
के पॉश बंजारा हिल्स इलाके
में रहते हैं लेकिन उनकी
राजनीति की जड़ें ओल्ड सिटी
में हैं जहां की 40 फीसदी आबादी
मुसलमानों की है. वक्फ बोर्ड
और मुस्लिम शिक्षा
संस्थानों में इनकी मजबूत
पकड़ है.

अकबरूद्दीन ओवैसी के पिता
सलाउद्दीन ओवैसी ने
हैदराबाद ओल्ड सिटी में
पत्तार्गुत्टी से चुनाव लड़ा
था और बाद से हमेशा ओल्ड सीटी
से चुनाव लड़ते और जीतते आए
हैं.

हैदराबाद के पुराने शहर से
एमआईएम हमेशा कम से कम सात
मुस्लिम विधयाकों को
विधानसभा भेजती रही है, लेकिन
सांसद सिर्फ ओवैसी परिवार के
होते हैं.

हालांकि, एमआईएम को 1936 में
नवाब नवाज़ किलेदार ने शुरू
किया था जब हैदराबाद एक
स्वतंत्र राज्य था और वहां
नावाबों का शासन था.

उस वक़्त मजलिस-ए-इत्तेहादुल
मुस्लिमीन केवल एक सांकृतिक
अंग था, लेकिन बाद में यह
मुस्लिम लीग के साथ जुड़ने के
बाद पूरी तरह से एक राजनितिक
संगठन में बदल गया और उसके
बाद राजनीतिक पार्टी में.

मजलिस-ए-इत्तेहादुल
मुस्लिमीन उस वक़्त अलग
मुस्लिम राज्य के लिए
मुस्लिम लीग के साथ रहा और आज
भी अक्सर अकबरुद्दीन जैसे
नेताओं के भाषण में
पाकिस्तान का नाम ज़रूर होता
है और आदिलाबाद में दिए गए
उनके भाषण में उन्होंने कसाब
को बच्चा कहा है.

एमआईएम पार्टी का हैदराबाद
के रजाकारों (स्वयंसेवकों) से
गहरा रिश्ता रहा है और रजाकार
हमेशा हैदराबाद रियासत को
भारत में शामिल करने के खिलाफ
थे और यही वजह है 1948 से 1957 तक
एमआईएम को बैन किया गया था.

जानकारों के मुताबिक़ ओवैसी
परिवार कई बार अपनी पहचान
अपने इतिहास के साथ जोड़ते हैं
और यही वजह है कि आदिलाबाद
में अकबरुद्दीन ने इस तरह का
भाषण दिया.

संबंधित खबरें:

ओवैसी
पूछाताछ के लिए फिट: पुलिस

भागवत-ओवैसी
एक जैसे हैं: शिवानंद

शिवानंद
का दिमाग ठीक नहीं: बीजेपी

India News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: भड़काऊ भाषण देने वाला अकबरुद्दीन ओवैसी गिरफ्तार
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
First Published:

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017