भारी हंगामे के कारण संसद की कार्यवाही स्थगित

भारी हंगामे के कारण संसद की कार्यवाही स्थगित

By: | Updated: 22 Nov 2012 03:58 AM


नई दिल्ली: संसद के
शीतकालीन सत्र की गुरुवार को
हंगामेदार शुरुआत हुई.
बहु-ब्रांड खुदरा में विदेशी
प्रत्यक्ष निवेश (एफडीआई) के
विरोध में विपक्ष के हंगामे
के बीच राज्यसभा को शुक्रवार
तक के लिए स्थगित कर दिया गया
जबकि लोकसभा में भी
कार्यवाही बाधित हुई.




कार्यवाही शुरू होने के कुछ
समय बाद ही विपक्ष द्वारा
खुदरा क्षेत्र में एफडीआई के
मुद्दे पर मतदान कराने के लिए
दबाव बनाने व कार्यवाही में
व्यवधान पहुंचाने के चलते
राज्यसभा व लोकसभा को दोपहर 12
बजे तक के लिए स्थगित कर दिया.




लोकसभा को जहां बार-बार
स्थगित किया गया वहीं
राज्यसभा की कार्यवाही
शुक्रवार तक के लिए स्थगित कर
दी गई.

शीतकालीन सत्र
शुरू होने से कुछ मिनट पहले
प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह
ने कहा कि सरकार संसद में सभी
मुद्दों पर चर्चा करना चाहती
है और सत्र के सुचारू संचालन
में सभी पार्टियों का सहयोग
चाहती है. वैसे उनकी इस अपील
पर विपक्ष ने कोई ध्यान नहीं
दिया.

सिंह ने उम्मीद जताई
कि राज्यसभा व लोकसभा सदस्य
देश के सामने मौजूद मुद्दों व
चुनौतियों पर एकजुट होकर
चर्चा करेंगे. उन्होंने कहा,
"हम दोनों सदनों में सभी
मुद्दों पर चर्चा के लिए
तैयार हैं".

उन्होंने संसद
से बाहर पत्रकारों से कहा कि
वह संसद के बाधा रहित संचालन
की अपील करते हैं. उन्होंने
कहा, "हम सभी का विपक्ष व सरकार
दोनों का दायित्व है कि हम
अपने संसदीय लोकतंत्र को
हमारे देश के सामने आ रही
चुनौतियों से निपटने में
सक्षम बनाने के लिए मिलजुलकर
काम करें."

सिंह ने कहा,
"हमारा देश वैश्विक आर्थिक
मंदी के चलते कई परेशानियों
का सामना कर रहा है. हमें
युवाओं के लिए बड़े पैमाने पर
रोजगार के नए अवसर उपलब्ध
कराने की आवश्यकता है."

संसद
का शीतकालीन सत्र 20 दिसम्बर
को समाप्त होगा जबकि इसमें
केवल 16 कामकाजी दिन होंगे.




फटाफट ख़बरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर और डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App
Web Title:
Read all latest India News headlines in Hindi. Also don’t miss today’s Hindi News.

First Published:
Next Story यूपी में पूर्व मुख्यमंत्रियों को बंगला देने का मामला, SC ने सभी राज्यों से पक्ष रखने को कहा