मतदान केंद्र के भीतर 'हैलो-हैलो' करना पड़ सकता है भारी!

मतदान केंद्र के भीतर 'हैलो-हैलो' करना पड़ सकता है भारी!

By: | Updated: 08 Apr 2014 06:25 AM

रायपुर: अगर आप मतदाता हैं और मोबाइल लेकर मतदान केंद्र के अंदर प्रवेश कर रहे हैं और इसी बीच आपके सेलफोन की घंटी बजने लगती है तो आपके सामने मुसीबत खड़ी हो सकती है. भारत चुनाव आयोग के निर्देशों पर गौर करें तो मोबाइल के साथ ही मतदान केंद्र के भीतर कैमरा पर भी बंदिशें लगा दी गई हैं. आयोग ने नए दिशा-निर्देश का प्रभावी तरीके से अमल करने का फरमान जारी कर दिया है.

 

बिलासपुर के डिप्टी कलेक्टर और उप जिला निर्वाचन अधिकारी ओ.पी. वर्मा ने बताया कि निष्पक्ष एवं शांतिपूर्ण चुनाव कराने की गरज से भारत निर्वाचन आयोग द्वारा लगातार दिशा निर्देश जारी किए जा रहे हैं. इसी के मद्देनजर मतदान केंद्र के भीतर सेलफोन व कैमरा लेकर जाने की मनाही की गई है. इस संबंध में चुनाव अमले को अवगत कराया जा रहा है.

 

जैसे-जैसे चुनाव की तिथि नजदीक आते जा रही है आयोग का शिकंजा भी कसते जा रहा है. निष्पक्ष और शांतिपूर्वक मतदान कराने के लिए आयोग द्वारा लगातार दिशा-निर्देश जारी किए जा रहे हैं. हर संभव कोशिश की जा रही है कि मतदान केंद्र के भीतर और 100 मीटर के दायरे में ऐसी गतिविधियों का संचालन न किया जाए जिससे चुनाव की निष्पक्षता को लेकर सवालिया निशान उठ सके.

 

पोलिंग बूथ को सुरक्षित और 'साइलेंट जोन' में तब्दील करने की जरूरत महसूस कर आयोग ने मतदान केंद्र के भीतर सेलफोन के साथ ही कैमरा लेकर जाने की मनाही कर दी है. चोरी छिपे मोबाइल और कैमरा लेकर जाने और इस बात का खुलासा होने की स्थिति में संबंधित मतदाता या फिर उम्मीदवार के अभिकर्ता को सजा भुगतने तैयार रहना होगा.

 

यह बताना लाजिमी है कि वोटिंग के दौरान मतदान की गोपनीयता के मद्देनजर आयोग ने मतदान केंद्र के भीतर अनाधिकृत व्यक्तियों के प्रवेश पर पहले ही प्रतिबंध लगा दिया है.

 

ऐसे व्यक्ति जो संबंधित पोलिंग बूथ के मतदाता हैं या फिर उम्मीदवार के अधिकृत चुनाव एजेंट हैं, उन्हें ही भीतर प्रवेश की अनुमति दी जाती है. अभिकर्ता को पोलिंग बूथ के भीतर आयोग द्वारा सशर्त अनुमति दी जाती है. एक समय में संबंधित उम्मीदवार का एक ही अभिकर्ता मतदान केंद्र के भीतर रह सकता है. दूसरे अभिकर्ता को पहले एजेंट के मतदान केंद्र छोड़ने की स्थिति में ही प्रवेश की अनुमति दी जाएगी.

 

एक लोकसभा क्षेत्र या विधानसभा क्षेत्र के भीतर चुनाव लड़ने वाले उम्मीदवार संबंधित क्षेत्र के प्रत्येक मतदान केंद्र में अपने अभिकर्ताओं की तैनाती कर सकता है. लिहाजा, प्रत्येक उम्मीदवारों के एक-एक अभिकर्ताओं को मतदान के दौरान मतदान केंद्र के भीतर प्रवेश की अनुमति दी जाती है.

 

आयोग के निर्देश पर गौर करें तो मतदान केंद्र के भीतर फोटो व वीडियोग्रॉफी पर पूरी तरह पाबंदी लगा दी गई है. नई व्यवस्था के तहत अब मतदान केंद्र के भीतर कैमरा लेकर जाने की भी मनाही कर दी गई है. कैमरा व मोबाइल फोन पर प्रतिबंध लगा दिया गया है. पाबंदी के बाद भी सेलफोन व कैमरा लेकर जाने की स्थिति में कार्रवाई की जाएगी. जुर्माना और जेल दोनों की सजा भुगतनी पड़ सकती है.

 

लोक प्रतिनिधित्व अधिनियम की धारा 1951 और भारतीय दंड संहिता के तहत इसे दंडनीय अपराध माना गया है. मनाही के बाद भी नियमों का उल्लंघन करने पर कैद या जुर्माना दोनों की सजा भुगतनी पड़ सकती है.

फटाफट ख़बरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर और डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App
Web Title:
Read all latest India News headlines in Hindi. Also don’t miss today’s Hindi News.

First Published:
Next Story JNU Entrance Exam के नतीजे घोषित, ऐसे देखें रिजल्ट