ममता के 10 दिनों के पूजा अवकाश पर उठे सवाल

ममता के 10 दिनों के पूजा अवकाश पर उठे सवाल

By: | Updated: 20 Oct 2012 08:11 AM


कोलकाता:
पश्चिम बंगाल में विपक्ष की
नेता रहते हुए ममता बनर्जी
राज्य में कार्य संस्कृति का
अभाव बताकर तत्कालीन वाम
मोर्चा सरकार की खिंचाई का
मौका नहीं छोड़ती थीं, लेकिन
अब मुख्यमंत्री के रूप में
उन्होंने राज्य सरकार के
अधिकारियों को 10 दिन का
दुर्गा पूजा अवकाश देकर सबको
चौंका दिया है और विपक्ष को
उपहास का एक मौका दे दिया है.

कुछ
लोगों का कहना है कि यह ममता
की कलाबाजी का दूसरा उदाहरण
है. विपक्ष में रहते हुए जो
ममता कड़े तेवर के लिए जानी
जाती थीं, अब राज्य में शासन
की बागडोर संभालने के बाद
उन्होंने अपनी लोकप्रियता
कायम रखने का प्रयास किया है.


ममता ने 26 अक्टूबर को भी
छुट्टी की घोषणा कर राज्य
सरकार के कर्मचारियों को 20 से
29 अक्टूबर तक लगातार छुट्टी
पर रहने का शानदार मौका दिया
है. इस दौरान वे दुर्गा पूजा
त्योहार का भरपूर आनंद ले
सकेंगे.

राज्य सरकार के
बाबुओं के लिए छुट्टियां 20
अक्टूबर (शनिवार, सप्ताहांत)
से शुरू हुई हैं. छुट्टियों
की अवधि में दुर्गा पूजा की
चार महत्वपूर्ण तिथियां
पड़ती हैं- सप्तमी, अष्टमी,
नवमी और दशमी. विजयदशमी के एक
दिन बाद 25 तक की छुट्टियां
पूर्वघोषित हैं.

इसके बाद
कर्मचारियों को शनिवार और
रविवार (27-28 अक्टूबर) के अवकाश
से पहले 26 अक्टूबर को काम पर
लौटना पड़ता. इसलिए 26 अक्टूबर
को विशेष तौर पर छुट्टी की
घोषणा की गई है. इसके बाद 29
अक्टूबर को लक्ष्मीपूजा की
छुट्टी है. ऐसे में सरकारी
कामकाज और लेनदेन के लिए
लोगों को 30 अक्टूबर तक इंतजार
करना होगा.

एक शिक्षक ने
कहा कि मान लीजिए यदि किसी को
22 अक्टूबर को किसी व्यासायिक
कार्य के सिलसिले में किसी
सरकारी अधिकारी से मिलना
आवश्यक हो या किसी को इस बीच
कोई प्रमाणपत्र लेना जरूरी
हो तो उसे दिक्कत आएगी. एक
बैंक संचालक टी.पी. दत्ता ने
कहा कि ममता का यह फैसला
'सस्ती लोकप्रियता' हासिल
करने के सिवा और कुछ नहीं है.

दत्ता
ने आईएएनएस से कहा, "राज्य में
अपराध बढ़ रहा है. प्रत्येक
दिन महिलाओं के साथ बलात्कार
और छेड़छाड़ की घटनाएं हो रही
हैं. राज्य से उद्योगपति
पलायन कर रहे हैं. सरकार की
भूमि नीति भी दोषपूर्ण है।
लेकिन दीदी (ममता) इन सबसे
लोगों का ध्यान हटाकर उन्हें
खुश रखने का प्रयास कर रही
हैं."




फटाफट ख़बरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर और डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App
Web Title:
Read all latest India News headlines in Hindi. Also don’t miss today’s Hindi News.

First Published:
Next Story 4 साल बाद डीजीएमओ स्तर की बातचीत पर विचार कर रहा पाकिस्तान: मीडिया रिपोर्ट