मलेशियाई विमान की खोज के लिए, अपने देश में बनी पनडुब्बी तैनात करने की फ़िराक में चीन

मलेशियाई विमान की खोज के लिए, अपने देश में बनी पनडुब्बी तैनात करने की फ़िराक में चीन

By: | Updated: 14 Apr 2014 04:22 AM

बीजिंग: मलेशियन एयरलाइंस के लापता विमान के मलबे की खोज के लिए चीन स्वेदशी मानव पनडुब्बी को तैनात करने की योजना बना रहा है.

 

विशेषज्ञों का कहना है कि पानी की गहरायी में खोज दल ने जिस 50 किलोमीटर के क्षेत्र को चिन्हित किया है उसके दायरे में 4,500 मीटर का विस्तार हो सकता है. इसने विमान के मलबे की खोज को और चुनौतिपूर्ण बना दिया है.

 

फिलहाल अमेरिकी नौसेना का पिंगर लोकेटर और मानवरहित पनडुब्बी ब्लूफिन-21 को ऑस्ट्रेलिया के पर्थ के पास विमान के मलबे की खोज के लिए तैनात किया गया है.

 

समुद्र के भीतर चल रहे इस तलाश का मुख्य लक्ष्य विमान एमएच-370 का ब्लैक बॉक्स खोजना है हालांकि उससे मिल रहे सिग्नल के अब तक बंद होने की आशंका भी है.

 

बीजिंग जा रहे इस विमान पर सवार 239 लोगों में से 154 चीनी थे. इस वजह से भी चीन के लिए यह जानना बहुत जरूरी हो गया है कि मलेशियन एयरलाइंस के इस विमान के साथ क्या हुआ.

 

चीनी विशेषज्ञों का मानना है कि गहरे पानी में जा सकते में सक्षम चीन की पहली मानव पनडुब्बी जिओलोंग को मलबे की खोज के लिए तैनात किया जा सकता है.

 

जिओलोंग या सी ड्रैगन नामक इस पनडुब्बी ने साल 2012 में प्रशांत महासागर के मरीआना ट्रेंच में 7,000 मीटर की गहरायी तक सफलतापूवर्क डुबकी लगायी थी. यह पनडुब्बी एक बार गोता लगाने के बाद 10 घंटे तक पानी के भीतर रह सकती है.

फटाफट ख़बरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर और डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App
Web Title:
Read all latest India News headlines in Hindi. Also don’t miss today’s Hindi News.

First Published:
Next Story केजरीवाल के सलाहकार बढ़ा सकते हैं उनके विधायकों की मुश्किलें