महाराष्ट्र: अंधविश्वास के खिलाफ बनेगा कानून

By: | Last Updated: Wednesday, 21 August 2013 9:40 AM

पुणे/ नई
दिल्ली:
महाराष्ट्र
मंत्रिमंडल की बैठक में आम
राय से फैसला हुआ कि सरकार
अंधविश्वास के खिलाफ जल्द ही
कानून बनाने के लिए अध्यादेश
लाएगी.

2005 में ही जादू टोना बिल को
विधानसभा से मंजूरी मिल गई थी
लेकिन शिवसेना और बीजेपी के
विरोध की वजह से विधानपरिषद
से इसे मंजूरी नहीं मिल पाई
थी.

अब दाभोलकर की हत्या के बाद
सरकार ने अध्यादेश के जरिए
कानून बनाने का फैसला किया
है.

समाजसेवी नरेंद्र
दाभोलकर की हत्या के विरोध मे
एक तरफ लोगों ने पुणे में
अपने गुस्से का इजहार किया
दूसरी तरफ महाराष्ट्र सरकार
ने अध्यादेश के जरिए
अंधविश्वास के खिलाफ कानून
बनाने का फैसला किया.

जिस
जादू टोना बिल के कारण कई लोग
दाभोलकर के दुश्मन बन गए थे
उस बिल में तांत्रिक
क्रियाओं पर रोक लगाने की बात
कही गयी है, भूत भगाने जैसी
क्रियाओं को अपराध के दायरे
में रखा गया है, बिल में
डाकिनी या चुड़ैल के नाम पर
किए जाने वाले अत्याचारों को
अपराध के दायरे में रखा गया
है, और साथ ही बिल में दैवी
शक्तियों के नाम पर लोगों को
डराने को अपराध घोषित करने का
प्रावधान है.

गौरतलब है कि
शिवसेना और बीजेपी के साथ साथ
राज्य के दूसरे हिंदू संगठन
जादू टोना बिल के खिलाफ रहे
हैं. यही वजह है कि दाभोलकर
हत्याकांड में शक की सुई
कट्टर हिंदु संगठनों पर जा
रही है. सनातन संस्था ने तो
अपनी वेबसाइट पर दाभोलकर की
तस्वीर के ऊपर क्रॉस का निशान
तक लगा दिया था.

आपको बता
दें कि पुणे में मंगलवार सुबह
मॉर्निग वॉक के दौरान बाइक पर
सवार दो बदमाशों ने दाभोलकर
की गोली मारकर हत्या कर दी थी.
पुलिस ने हत्यारों का स्केच
जारी किया है और 10 लाख का ईनाम
रखा है.

पुलिस की 8 टीमें
अलग अलग इलाकों में छापेमारी
कर रही है लेकिन हत्यारे अभी
तक पकड़ में नहीं आए हैं. पेशे
से डॉक्टर रहे नरेंद्र
दाभोलकर पिछले 40 सालों से
अंधविश्वास के खिलाफ अभियान
चला रहे थे और माना जा रहा है
कि इसी वजह से उनकी हत्या हुई
है.

http://www.youtube.com/watch?v=s-3kaC5gQFQ

India News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: महाराष्ट्र: अंधविश्वास के खिलाफ बनेगा कानून
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
First Published:

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017